यूपी विधानसभा: बीजेपी नेता स्वामी प्रसाद मौर्य और बीएसपी के लालजी वर्मा में तीखी नोंकझोंक

लालजी वर्मा ने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य चूल्लू भर पानी में डूब मरें और माफ़ी मांगें. इसके जवाब में स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि चुल्लू भर पानी में लालजी वर्मा और उनकी नेता डूब मरें.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: February 15, 2018, 4:07 PM IST
यूपी विधानसभा: बीजेपी नेता स्वामी प्रसाद मौर्य और बीएसपी के लालजी वर्मा में तीखी नोंकझोंक
बीजेपी नेता स्वामी प्रसाद मौर्य (बाएं) और बीएसपी नेता लालजी वर्मा
ETV UP/Uttarakhand
Updated: February 15, 2018, 4:07 PM IST
विधानसभा में मंगलवार को बीजेपी नेता स्वामी प्रसाद मौर्य और बीएसपी नेता लालजी वर्मा में तीखी नोंकझोंक देखने को मिली. इस दौरान स्वामी प्रसाद मौर्य ने बीएसपी पर हमला करते हुए कहा कि लोकतंत्र को बेचा जा रहा है. बाबा साहब का नाम लेकर मिशन को बेच दिया. उन्होंने कहा कि लालजी वर्मा की नेता लोकतंत्र की हत्यारी हैं. इस पर लालजी वर्मा ने पलटवार किया कि जिस नेता की वजह से सदन में हैं, उसके बारे में कहते शर्म नहीं आती. लालजी वर्मा ने कहा की स्वामी प्रसाद मौर्य चूल्लू भर पानी में डूब मरें और माफ़ी मांगें.

इसके जवाब में स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि चुल्लू भर पानी में लालजी वर्मा और उनकी नेता डूब मरें. इस दौरान सपा नेता राम गोविंद चौधरी ने मायावती का बचाव करते हुए कहा​ कि जो नेता सदन मे नहीं, उस राष्ट्रीय नेता का नाम नहीं लिया जाना चाहिए.

इससे पहले ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर हमलावर विपक्ष को दो टूक जवाब देते हुए गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधान परिषद में कहा कि अपराधियों पर लगाम कसने के लिए एनकाउंटर जारी रहेंगे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा 22 करोड़ जनता को सुरक्षा देना सरकार का दायित्व है. अब तक सूबे 1200 एनकाउंटर हुए हैं. अपराधियों के खिलाफ ये अभियान रुकेगा नहीं.

मुख्यमंत्री ने कहा, “ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोग अपराधियों के लिए सहानुभूति प्रकट कर रहे हैं. ये लोकतंत्र के लिए खतरा है. एनकाउंटर पर जो सवाल विधान परिषद में उठाये गए. नेता विपक्ष खुद पुलिस सेवा में रहे हैं, वो सच्चाई जानते हैं.” दरअसल एनकाउंटर की सीबीआई जांच के विधान परिषद के फैसले पर बीजेपी एमएलसी देवेंद्र प्रताप सिंह ने नोटिस दी थी, देवेन्द्र सिंह के नोटिस पर विधान परिषद के सभापति ने अपना फैसला सुरक्षित किया है.

गौरतलब है कि आज विधानसभा का छठा दिन है. विपक्ष फर्जी एनकाउंटर और कानून व्यवस्था के मुद्दे पर लगातार सरकार को घेर रहा है. शुरुआत के पांच दिन सदन की कार्रवाई विपक्ष के हंगामे के भेट चढ़ चुकी है.

(इनपुट: अजीत सिंह)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर