विवेक तिवारी हत्याकांड: पत्नी कल्पना तिवारी की OSD के पद पर हुई ज्वाइनिंग

लखनऊ नगर निगम में ओएसडी के पद पर ज्वाइनिंग के दौरान कल्पना तिवारी ने कहा कि विवेक तिवारी हत्याकांड की यूपी पुलिस की तरफ से निष्पक्ष जांच हो रही है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 11, 2018, 2:26 PM IST
विवेक तिवारी हत्याकांड: पत्नी कल्पना तिवारी की OSD के पद पर हुई ज्वाइनिंग
विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: October 11, 2018, 2:26 PM IST
लखनऊ के विवेक तिवारी हत्याकांड मामले में जांच जारी है. उधर दूसरी तरफ विवेक तिवारी की पत्नी को गुरुवार को नौकरी का नियुक्ति पत्र सौंपा दिया गया. कल्पना की लखनऊ नगर निगम में ओएसडी पद पर ज्वाइनिंग हो गई है. गुरुवार को यूपी के डिप्टी सीएम डाॅ दिनेश शर्मा ने कल्पना को अपॉइंटमेंट और ज्वाइनिंग लेटर सौंपा. इस मौके पर कल्पना ने कहा कि विवेक तिवारी हत्याकांड की यूपी पुलिस की तरफ से निष्पक्ष जांच हो रही है. सरकार ने जो वायदे किए थे, उसे निभा रही है.

बता दें मामले में पिछले दिनों सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर दायर की गई जनहित याचिका हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने खारिज कर दी है. हाईकोर्ट ने कहा है कि याची का इस मामले से कोई वास्ता नहीं है, इसलिए इसे खारिज किया जाता है. विवेक तिवारी की हत्या की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर शमशेर यादव जगराना ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी. उन्होंने कहा था कि एसआईटी जांच में भी यूपी पुलिस के ही सदस्य शामिल हैं, ऐसे में जांच को प्रभावित किया जा सकता है. इसलिए मामले की सीबीआई जांच कराई जानी चाहिए.

इस पर अपर महाधिवक्ता वीके शाही ने सरकार की ओर से याचिका का विरोध किया. उन्होंने तर्क रखा कि सरकार ने मामले में त्वरित कार्रवाई की है. निष्पक्ष जांच चल रही है, इसलिए इसकी सीबीआई जांच की जरूरत नहीं है. दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद चीफ जस्टिस डीबी भोसले और जस्टिस विवेक चौधरी ने कहा कि मृतक की पत्नी कल्पना तिवारी शिक्षित हैं. वह स्वयं अपना पक्ष रख सकती हैं. याची का इस मामले से कोई वास्ता नहीं बनता है. इसलिए याचिका खारिज की जाती है.

बता दें, विवेक तिवारी हत्याकांड में अब तक दो एफआईआर दर्ज हो चुकी है. इसमें पहली एफआईआर मामले की एकमात्र चश्मदीद सना की तरफ से दर्ज हुई थी. उस एफआईआर में किसी को नामजद नहीं किया गया था, आरोपी को अज्ञात बताया गया था. इसके बाद विवेक तिवारी की पत्नी की तरफ से दूसरी एफआईआर दर्ज की गई. जिसमें दोनों सिपाहियों को नामजद किया गया. वहीं मामले में गिरफ्तार होने से पहले गोमतीनगर थाने में प्रशांत चौधरी और उसकी पत्नी आरोप लगा रहे थे कि उनकी शिकायत को पुलिस दर्ज नहीं कर रही है.

ये भी पढ़ें: 

मेरठ: देवी की मूर्ति स्थापित करने से रोका तो 50 परिवारों ने दी धर्म परिवर्तन की चेतावनी

लखनऊ डबल मर्डर: पुलिस से घिरा तो मुख्य आरोपी ने खुद को मार ली गोली

अब नेता पढ़ेंगे सियासत का पाठ, यहां खुलेगा देश का पहला पॉलिटिकल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर