VIDEO में देखिए किस तरह किडनैपर्स दे रहे थे महिला वकील के जिंदा होने का सबूत

लखनऊ पुलिस एसटीएफ ने महिला वकील की किडनैपिंग करने वाले शख्स संतोष चौबे को दबोचा, कई फरार

लखनऊ पुलिस एसटीएफ ने महिला वकील की किडनैपिंग करने वाले शख्स संतोष चौबे को दबोचा, कई फरार

Lucknow News: लखनऊ पुलिस और यूपी एसटीएफ ने हाइप्रोफाइल किडनैपिंग केस का खुलासा कर दिया है. अपहृत महिला वकील काे सकुशल बरामद भी कर लिया गया है.

  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में किडनैपिंग के एक हाइप्रोफाइल मामले से हड़कंप मचा हुआ था. मामले में लखनऊ पुलिस के साथ एसटीएफ भी लगा दी गई थी. दो दिन के बाद आखिरकार मंगलवार देर रात चले एक ज्वाइंट ऑपरेशन में एसटीएफ और लखनऊ पुलिस (Lucknow Police) ने अगवा महिला वकील (Woman Advocate) को बदमाशों के चंगुल से छुड़ा लिया. पुलिस ने एक किडनैपर को गिरफ्तार किया है. इस दौरान कई अहम खुलासे भी हुए हैं. इसमें ये भी पता चला है कि किडनैपर्स फिरौती की मांग के दौरान पीड़ित परिवार को महिला वकील के जिंदा होने का सबूत किस तरह देता था.

यूपी एसटीएफ के एडीजी अमिताभ यश ने बताया कि 6 जून की शाम 7 बजे के करीब लखनऊ के सुशांत गोल्फ सिटी इलाके से हाईकोर्ट के वरिष्ठ वकील अनुराग शुक्ला की 47 वर्षीय पत्नी प्रीति शुक्ला का कार सवार बदमाशों ने अपहरण कर लिया था. उस समय वह इवनिंग वॉक पर निकली थीं. प्रीति शुक्ला भी हाईकोर्ट में वकालत करती हैं.

देखिए किडनैपर्स ने कैसे भोजा जिंदा होने का सबूत

Youtube Video

पुलिस के अनुसार, किडनैपिंग के फौरन बाद 6 जून की देर रात से ही किडनैपर प्रीति के पति से एक करोड़ की फिरौती मांग रहे थे. एसटीएफ ने अपहर्ताओं के मोबाइल की लोकेशन निकाल ली थी जो लखनऊ के मोहनलालगंज इलाके में थी. मंगलवार रात उसी लोकेशन पर फिरौती की रक़म देने की बात तय थी. उस लोकेशन की तलाश में एसटीएफ और लखनऊ पुलिस लग गई थी.

पता चला कि प्रीति के पति से फिरौती की मांग के दौरान महिला का ही मोबाइल इस्तेमाल किया गया. इसमें उसके जिंदा होने का सबूत देने के लिए पहले आंखों पर पट्टी बांधी गई, फिर काफी धीमे स्वर में वीडियो में ये कहते हुए रिकॉर्ड कराया गया कि मैं ठीक हूं.

देर रात पीजीआई थाने की पुलिस की टीम को तलाशी के दौरान मोहनलालगंज के हरिवंश गढ़ी इलाके में एक संदिग्ध युवक पर शक हुआ. पूछताछ में युवक के बयान बदलने पर टीम ने सीनियर अफसरों और एसटीएफ को जानकारी देकर युवक के घर पहुंचे. वहां का नज़ारा देखकर पुलिस टीम दंग रह गई. एक महिला बिस्तर पर पड़ी थी, जिसके हाथ पैर और मुंह बंधे थे. महिला को छुड़ाकर युवक को हिरासत में ले लिया गया. गिरफ्तार युवक का नाम संतोष चौबे बताया गया है. वह मूल रूप से जिला गाजीपुर का रहने वाला है. संतोष के करीब 9 साथी अभी भी फ़रार हैं, जिनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज