VIDEO: जब मौलाना खालिद रशीद ने अपने 12 साल के बेटे से पढ़वाया निकाह...

जब मौलाना खालिद रशीद ने अपने 12 साल के बेटे से पढ़वाया निकाह

जब मौलाना खालिद रशीद ने अपने 12 साल के बेटे से पढ़वाया निकाह

महली कहतें हैं कि अच्छा लगता है जब बच्चे दीनी और दुनियाबी तालीम में बराबर मेहनत करें. खालिद रशीद खुद लखनऊ के ला मार्टिनियर कॉलेज से पढ़े हुए हैं. वो हिंदुस्तान के चुनिंदा धर्मगुरुओं में से हैं जो हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू और अरबी के बेहतरीन जानकार है.

  • Share this:
लखनऊ. हर पिता की ख्वाहिश होती है कि उसका बेटा या बेटी अससे भी बड़ा बने और हर पापा कहतें हैं कि उसका बेटा बड़ा नाम करेगा. लेकिन राजधानी लखनऊ (Lucknow) में शनिवार शाम एक बेहतरीन मंजर देखने को मिला. दरअसल में एक परिवार में शादी थी और उनको अपने बेटे का निकाह ईदगाह के इमाम और शहर काजी मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली  (Maulana Khalid Rashid Farangi Meheli) से पढ़वाना था. इसके लिए सारी तैयारी भी कर ली गई थी. तय वक्त पर दोनों परिवार के लोग ईदगाह की मस्जिद में निकाह के लिये पहुंच भी गए. लेकिन लोगों को अश्चर्य तब हुआ जब निकाह पढ़ाने के लिए मौलाना खालिद रशीद ने अपने 12 साल के बेटे अब्दुल हई रशीद फरंगी महली को आगे किया.

मौजूद लोगों ने की तारीफ 

वहीं लोगों को डर भी था कि कहीं इतना छोटा बच्चा कोई गलती न कर दें. लेकिन अब्दुल हई ने न सिर्फ बेहतरीन तरीके से निकाह पढ़ाया बल्कि लोगों की तारीफ का काबिल भी बना. अब्दुल हई रशीद फरंगी महली ने ईदगाह की मस्जिद में अपना पहला निकाह कामिल उमर जिलानी और अलीना मिर्जा का पढ़ाया. अब्दुल हई जितनी दीनी तालीम में रुची रखतें हैं उतनी ही दुनियाबी तालीम में भी वो ब्रिलियंट स्टूडेंट हैं. बता दें कि अब्दुल हई लखनऊ के ला मार्टिनियर कॉलेज में कक्षा 5 के छात्र हैं. और वो बड़े होकर डॉक्टर बनना चाहतें हैं.

अब्दुल हई ने कनाडा में पढ़ाया था निकाह
अब्दुल हाई ने जब निकाह पढ़ाया तो वहां मौजूद सैकड़ों लोगों ने दूल्हे मियां को तो मुबारकबाद दी. साथ ही साथ निकाह पढ़ाने वाले को भी खूब मुबारकबाद मिली. अपने बेटे के द्वारा पढ़ाए गए निकाह के बाद मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली भी बहुत खुश नजर आए.

Youtube Video


महली कहतें हैं कि अच्छा लगता है जब बच्चे दीनी और दुनियाबी तालीम में बराबर मेहनत करें. खालिद रशीद खुद लखनऊ के ला मार्टिनियर कॉलेज से पढ़े हुए हैं. वो हिंदुस्तान के चुनिंदा धर्मगुरुओं में से हैं जो हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू और अरबी के बेहतरीन जानकार है. हालांकि अब्दुल हई ने पिछले साल एक निकाह कनाडा में भी पढ़ाया था​.



ये भी पढ़ें:

BJP ने जारी किए अनुराग कश्‍यप के पुराने पत्र, कहा- भीख नहीं मिली तो गाली दे रहे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज