• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • जानें: कौन हैं चुनावों में PM मोदी को चुनौती देने का ऐलान करने वाले चंद्रशेखर

जानें: कौन हैं चुनावों में PM मोदी को चुनौती देने का ऐलान करने वाले चंद्रशेखर

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर (File Photo)

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर (File Photo)

चंद्रशेखर का जन्म सहारनपुर में छटमलपुर के पास धडकूलि गांव में हुआ था. जिले के एक स्थानीय कॉलेज से उन्होंने कानून की पढ़ाई की. वो पहली बार 2015 में विवादों में घिरे थे. आखिर कौन हैं ये चंद्रशेखर और क्या है उनकी भीम आर्मी, आइए जानते हैं...

  • Share this:
    आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर ने ऐलान किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने अपना प्रत्याशी उतारेंगे. भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर ने बुधवार को कहा कि अगर कोई प्रत्याशी नहीं मिला तो वह खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ मैदान में खड़े होंगे. भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर आजाद 15 माह जेल में रह चुके हैं. चंद्रशेखर का जन्म सहारनपुर में छटमलपुर के पास धडकूलि गांव में हुआ था. जिले के एक स्थानीय कॉलेज से उन्होंने कानून की पढ़ाई की. वो पहली बार 2015 में विवादों में घिरे थे. आखिर कौन हैं ये चंद्रशेखर और क्या है उनकी भीम आर्मी, आइए जानते हैं...

    भीम आर्मी है क्या?
    भीम आर्मी एक बहुजन संगठन है, जिसे भारत एकता मिशन भी कहा जाता है. ये दलित चिंतक सतीश कुमार के दिमाग की उपज है. इसे 2014 में चंद्रशेखर आजाद और विनय रतन आर्य ने हाशिए वाले वर्गों के विकास के लिए स्थापित किया गया. भीम आर्मी का कहना है कि वह शिक्षा के माध्यम से दलितों के लिए काम कर रहा है.

    इसका बेस कहां है?
    इसका बेस मुख्य तौर पर यूपी में है. सहारनपुर में ये वर्ष 2017 में चर्चाओं में आया. चर्चाओं में आने की वजह थी जाति संघर्ष. हिंसा के आरोपों के बाद भीम आर्मी के मुख्य कर्ताधर्ता चंद्रशेखर को गिरफ्तार किया गया था. चंद्रशेखर की अगुवाई में 25 युवा भीम आर्मी संभालते हैं. भीम सेना और अंबेडकर सेना भी ऐसे ही संगठन हैं लेकिन भीम सेना हरियाणा में ही काम कर रही है और अंबेडकर सेना का गढ़ पूर्वी यूपी में है.

    इसका मूल संस्थापक कौन?
    भीम आर्मी के मूल संस्थापक छुटमलपुर निवासी एक दलित चिंतक सतीश कुमार हैं. इस आर्मी को उनके दिमाग की उपज बताया जाता है. सतीश कुमार पिछले कई वर्षों से ऐसे संगठन बनाने की जुगत में थे, जो दलितों का उत्पीड़न करने वालों को जवाब दे सके. लेकिन, उन्हें कोई योग्य दलित युवा नहीं मिला, जो कमान संभाल सके. ऐसे में सतीश कुमार को जब चंद्रशेखर मिले, तो उन्होंने चंद्रशेखर को ‘भीम आर्मी’ का अध्यक्ष बना दिया.

    भीम आर्मी ने रफ्तार कैसे पकड़ी?
    सितंबर साल 2016 में सहारपुर के छुटमलपुर में स्थित एएचपी इंटर कॉलेज में दलित छात्रों की कथित पिटाई के बाद हुए विरोध प्रदर्शन के बाद पहली बार यह संगठन सुर्खियों में आया था.

    भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर की मां ने कहा-अब समाज के लिए ही जिएगा मेरा बेटा
    भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद की मां कमलेश देवी ने कहा है कि मेरे बेटे ने समाज के लिए 16 माह जेल में गुजारे हैं, मुझे इसके लिए उस पर नाज़ है. वो जो करेगा अच्छा ही करेगा, मैं उसके साथ हूं, मैं कभी उसके रास्ते में रुकावट नहीं बनूंगी. मैंने उसे समाज को दे दिया है. चंद्रशेखर की की मां ने न्यूज18 हिंदी से ये बात अपने घर पर कही.

    लोकसभा चुनाव 2019: मुलायम की बहू डिंपल-अपर्णा के नाम है ये अनचाहा रिकॉर्ड


    ये भी पढ़ें-

    ...तो PM मोदी के खिलाफ कांग्रेस के समर्थन से मैदान में होंगे भीम आर्मी के चंद्रशेखर?

    लोकसभा चुनाव 2019: PM मोदी के खिलाफ खुद ताल ठोकेंगे भीम आर्मी के चंद्रशेखर!

    ..तो इस वजह से कांग्रेस पर इतनी हमलावर हैं बसपा सुप्रीमो मायावती

    धोखाधड़ी मामला: हाईकोर्ट ने निरस्त किया सांसद साक्षी महाराज का वारंट

    अखिलेश के ‘मुलायम’ कदम से मैनपुरी में शुरू हुई सियासी तनातनी, तेज प्रताप पर टिकीं नजरें

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज