यूपी फतह में 'विशेष' योगदान देने वाले महेंद्रनाथ पांडे को मोदी कैबिनेट में मिली जगह
Lucknow News in Hindi

यूपी फतह में 'विशेष' योगदान देने वाले महेंद्रनाथ पांडे को मोदी कैबिनेट में मिली जगह
डॉ. महेंद्रनाथ पांडे (file photo)

पिछली सरकार में मानव संसाधन राज्य मंत्री रह चुके हैं डॉ. महेंद्रनाथ पांडे को कैबिनेट मंत्री बनाकर यूपी के ब्राह्मणों को रिझाने की कोशिश की है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
यूपी बीजेपी के अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय को मोदी सरकार में मंत्री बनाया गया है. पिछली मोदी सरकार में वह मानव संसाधन राज्य मंत्री थे. इस बार उनका प्रमोशन करके कैबिनेट में लिया गया है. वो दोबारा चंदौली से पार्टी के सांसद चुने गए हैं. माना जाता है कि यूपी फतह में महेंद्रनाथ पांडे का विशेष योगदान रहा. यूपी में केशव प्रसाद मौर्य को डिप्टी सीएम बनाया गया था उसके कुछ दिन बाद ही अगस्त 2017 में उनकी जगह डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय को बीजेपी का नया प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. अब उनकी केंद्र सरकार में दोबारा वापसी के बाद उत्तर प्रदेश बीजेपी का कोई नया अध्यक्ष बनाया जाएगा.

बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण मतदाताओं को साधने के लिए उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. महेंद्र नाथ पांडेय भले ही बहुत ज़्यादा चर्चित नेताओं में न गिने जाते हों लेकिन छात्र जीवन से ही वो आरएसएस के अनुयायी रहे हैं, संगठन और सरकार दोनों में उनका अच्छा अनुभव है. महेंद्र नाथ पांडेय की राम जन्मभूमि आंदोलन में भी भागीदारी रही है. उससे पहले आपातकाल में वह पांच माह के लिए जेल भेजे गए थे.

ये भी पढ़ें: नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में आने से खुद को नहीं रोक सके उनके ये धुर विरोधी नेता



 modi cabinet ministers, modi oath ceremony 2019, prime minister oath ceremony, narendra modi oath ceremony, शपथ ग्रहण समारोह 2019, शपथ ग्रहण समारोह, Amit Shah, PM Modi, Swearing In ceremony, अमित शाह, पीएम मोदी, नरेन्द्र मोदी, BJP sarkar, mantri, राजनाथ सिंह, अर्जुन राम मेघवाल, मुख्तार अब्बास नकवी, स्मृति ईरानी, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, Mahendra Nath Pandey, महेंद्रनाथ पांडे, यूपी बीजेपी, up bjp        यूपी बीजेपी के अध्यक्ष हैं डॉ. महेंद्र नाथ पांडे



डॉ. महेंद्र नाथ पांडे ने पीएचडी की है. साथ ही पत्रकारिता में भी एमए की डिग्री है. उनकी पूरी शिक्षा-दीक्षा वाराणसी से हुई है. 1978 में वो बीएचयू छात्रसंघ के महामंत्री रह चुके हैं. वो साल 1978 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े. इसके बाद सियासी सफर शुरू हुआ. पहली बार 1991 में विधायक बने. कल्याण सिंह सरकार में वो नगर आवास (राज्यमंत्री) बने. 1996 में वो दोबारा विधायक बने. 1998 से 2000 तक पंचायत राज्यमंत्री और नियोजन मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) का पद संभाला. 2014 में बीजेपी के टिकट पर चंदौली से चुनाव लड़ा और मोदी लहर में लोकसभा पहुंच गए. इस बार दोबारा चुने गए और कैबिनेट मंत्री का पद मिला.

ये भी पढ़ें:

पीएम किसान सम्मान निधि योजना: अब देश के सभी किसानों को मिलेंगे सालाना 6000 रुपये!

नोटा: बिहार के वोटरों में ‘नेताओं’ खिलाफ क्यों है इतना गुस्सा? 

किसानों के अच्छे दिन, खेती-किसानी से जुड़ा है 17वीं लोकसभा का हर चौथा सांसद!
First published: May 30, 2019, 8:41 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading