क्यों चर्चा में है ज्योतिरादित्य सिंधिया की नेम प्लेट और उनका कमरा?

यूपी कांग्रेस में लोकसभा चुनाव के समय प्रभारी बनाए गए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कुछ दिनों पहले इस्तीफा दे दिया था. लेकिन अब तक उन्हें अलॉट कमरा बंद रखा गया है. उनकी महासचिव वाली नेमप्लेट भी नहीं हटाई जा रही है.

Shivani Sharma | News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 5:21 PM IST
क्यों चर्चा में है ज्योतिरादित्य सिंधिया की नेम प्लेट और उनका कमरा?
चर्चा में हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया की नेम प्लेट और उनका कमरा
Shivani Sharma | News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 5:21 PM IST
यूपी कांग्रेस में इन दिनों उहा-पोह की स्थिति बनी हुई है. लोकसभा चुनाव के समय पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रभारी बनाए गए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने करीब 10 दिन पहले ही इस्तीफा दे दिया था. प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर को लेकर प्रियंका गांधी की टिप्पणी के बाद इस बात की संभावना भी कम ही है कि पार्टी उन्हें बरकरार रखे. ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि अब प्रियंका गांधी ही पूरे यूपी को संभालेंगी. लेकिन इन सबके बीच एक ऐसा मसला है, जो पार्टी में चर्चा का विषय बना हुआ है. हम बात कर रहे हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया के कमरे पर लगी नेम प्लेट की. खास बात ये है कि इस कमरे में ज्योतिरादित्य सिंधिया एक बार भी नहीं बैठे.

क्यों नहीं हटाई जा रही नेम प्लेट
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लगभग 10 दिन पहले ही कांग्रेस महासचिव पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए साफ किया था कि वो काफी पहले अपना इस्तीफा पार्टी हाईकमान को सौंप चुके हैं, लेकिन यूपी कांग्रेस है कि मानने को तैयार ही नहीं. शायद इसीलिए अब तक यूपी कांग्रेस मुख्यालय से ज्योतिरादित्य सिंधिया की महासचिव वाली नेमप्लेट नहीं हटाई जा रही है. और तो और उनके नाम पर अलॉट कमरे को भी बंद ही रखा गया है. कांग्रेसी हलकों में अकसर ये मुद्दा चर्चा में रहता है. हालांकि ज्योतिरादित्य सिंधिया महासचिव रहते हुए भी गिने-चुने दौरों पर ही यूपी आए और अपने इस कमरे में एक बार भी नहीं बैठे. लेकिन फिर भी इस कमरे को ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम के साथ ब्लॉक करके रखा गया है.

इस्तीफे के बाद भी नहीं हटाई जा रही ज्योतिरादित्य सिंधिया की name plate
इस्तीफे के बाद भी नहीं हटाई जा रही ज्योतिरादित्य सिंधिया की नेम प्लेट


क्या प्रियंका संभालेंगी पूरा यूपी?
बता दें, ज्योतिरादित्य के लिए ये कमरा पार्टी के वयोवृद्ध नेता राम कृष्ण द्विवेदी से खाली करवाया गया था. यूं तो इस्तीफे से पहले भी यूपी में सिंधिया की सक्रियता केवल नाम मात्र की ही थी. लेकिन अब उनके इस्तीफे के बाद पश्चिमी यूपी के प्रभार को लेकर भी संशय बना हुआ है. यूपी कांग्रेस में अटकलें हैं कि प्रियंका गांधी ही अब पूरे प्रदेश का प्रभार संभालेंगी. ऐसे में ज्योतिरादित्य की पुरानी नेमप्लेट और उनके कमरे का औचित्य समझ से बाहर है. यूपी कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि उन्हें पार्टी आलाकमान से इस बाबत कोई निर्देश नहीं मिला है लिहाज़ा वो खुद निर्णय नहीं ले सकते हैं.

ये भी पढ़ें - प्रियंका गांधी ने शेयर की 22 साल पुरानी फोटो, रॉबर्ट वाड्रा से पूछा- डिनर पर ले चलोगे?
Loading...

ये है बाहुबली अतीक अहमद की आपराधिक कुंडली, इतने मुकदमों में चल रहा है ट्रायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 4:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...