आखिर मायावती क्यों कर रही है आनंद और आकाश पर भरोसा, जानिए इनके बारे में

मायावती ने दो महत्वपूर्ण पदों के लिए पार्टी के किसी वरिष्ठ पर भरोसा ना करके अपने ही भाई-भतीजे मौका दिया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 23, 2019, 7:46 PM IST
आखिर मायावती क्यों कर रही है आनंद और आकाश पर भरोसा, जानिए इनके बारे में
मायावती ने दो महत्वपूर्ण पदों के लिए पार्टी के किसी वरिष्ठ पर भरोसा ना करके अपने ही भाई-भतीजे मौका दिया है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 23, 2019, 7:46 PM IST
बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) में संगठन के स्तर पर कई अहम बदलाव किए गए हैं. बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार को एक बार फिर पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है. वहीं मायावती के भतीजे आकाश आनंद को राष्ट्रीय समन्वयक(नेशनल कोऑर्डिनेटर) की जिम्मेदारी दी गई है. साथ ही पार्टी में राष्ट्रीय स्तर पर दो समन्वयक बनाए गए हैं. मौजूदा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामजी गौतम अब राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी संभालेंगे. दानिश अली को लोकसभा में बीएसपी का नेता बनाया गया है.

मायावती ने दो महत्वपूर्ण पदों के लिए पार्टी के किसी वरिष्ठ पर भरोसा ना करके अपने ही भाई-भतीजे मौका दिया है. हम आपको बताते हैं कौन है आनंद कुमार और आकाश आनंद.

मायावती के भरोसेमंद है भाई आनंद कुमार
दरअसल मायावती अपने राजनीतिक फैसलों को लेकर आनंद कुमार के आलावा और किसी पर विश्वास नहीं करतीं. माना जाता है कि उनके हर निर्णय पर कोई राय देने वाला होता है तो वह आनंद कुमार ही होते हैं. वे पार्टी के संगठन में सभी बड़े निर्णयों को प्रभावित करते रहे हैं. चुनावी रणनीति में किस तरह का फेरबदल करना है और किस तरह मायावती की चुनावी रैलियों का आयोजन-प्रबंधन करना है, इसकी सारी व्यवस्था भी आनंद कुमार के ही हाथों में होती है.

मायावती के भाई आनंद साथ में भतीजा आकाश


कौन है आकाश आनंद
लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान मायावती के साथ हर मंच पर नजर आने वाला नौजवान आकाश आनंद मायावती के भाई आनंद कुमार के बेटे हैं. चुनाव से पहले ही मायावती ने ये संकेत दे दिए थे कि आकाश उनके उत्तराधिकारी हो सकते हैं.
Loading...

मायावती ने अपने भाई आनंद को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त किया था जिसके बाद उन पर परिवारवाद और वंशवाद का आरोप लगने लगा था. इसके बाद परिवारवाद की राजनीति का विरोध करने वाली मायावती ने आनंद को पार्टी के सभी पदों से मुक्त कर दिया. लेकिन भतीजा आकाश पिछले करीब दो सालों से उनके साथ हर कार्यक्रम में नजर आ रहा है. अब तक आकाश बिना किसी पद के बुआ से राजनीति सीख रहे थे हैं.

आकाश अभी मायावती के साथ राजनीति के दांव पेंच सीख रहे हैं, मायावती आकाश को पार्टी के युवा नेता के रूप में स्थापित करना चाहती हैं.

ये भी पढ़ें:

सपा-बसपा और कांग्रेस 'परिवारवादी' पार्टियां: डिप्टी CM मौर्य

अमेठी: राहुल जो 15 साल में नहीं कर सके वह करेंगी स्मृति
First published: June 23, 2019, 7:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...