बीजेपी का दांव, क्या जितिन प्रसाद नाराज ब्राह्मणों को एक साथ ला पाएंगे?

कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद ने बीजेपी ज्वाइन कर ली है. इसे लेकर कई सवाल चर्चा में हैं.

कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद ने बीजेपी ज्वाइन कर ली है. इसे लेकर कई सवाल चर्चा में हैं.

Lucknow News: जितिन प्रसाद ब्राह्मण चेतना परिषद के बैनर तले कानपुर के बिकरु कांड में जेल में बंद खुशी दुबे के लिए अभियान भी चला रहे थे. सवाल ये है कि क्या उस अभियान को अब भी चलाएंगे?

  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में जिन्होंने ब्राह्मणों को न्याय दिलाने के लिए ब्राह्मण चेतना परिषद बनाया. अब उन्हीं जितिन प्रसाद के हाथ में कमल का फूल है. सवाल ये है कि क्या जितिन उन ब्राह्मणों को न्याय दिला पाएंगे? क्या जितिन प्रसाद बीजेपी से नाराज ब्राह्मणों को एक साथ ला पाएंगे?  एक समय था, जब पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने ब्राह्मणों पर उत्तर प्रदेश में अत्याचार होने की बात कही थी. उनको न्याय दिलाने के लिए प्रसाद ने जब कमल का फूल थामा तो राष्ट्रवाद की बात कर रहे थे. इससे पहले तक वे केवल ब्राह्मणों की बात कर रहे थे.

ब्राह्मण चेतना परिषद के बैनर तले जितिन प्रसाद बिकरु कांड में जेल में बंद खुशी दुबे के लिए अभियान भी चला रहे थे. सवाल ये है कि क्या उस अभियान को अब भी चलाएंगे? बीजेपी के प्रवक्ता हीरो वाजपेयी कहते हैं कि यहां केवल ब्राह्मणवाद की बात नहीं है बल्कि राष्ट्रवाद की बात है. बीजेपी सभी वर्ग धर्म जाति संप्रदाय को लेकर चलती है और यही कारण है कि बीजेपी का नारा है- सबका साथ, सबका विकास. उन्होंने कहा कि जब जितिन प्रसाद जनता के लिए काम करेंगे तो वे केवल ब्राह्मणों के लिए नहीं बल्कि सबका साथ सबका विकास करेंगे.

बीजेपी के दूसरे प्रवक्ता मनीष शुक्ला कहते हैं कि जिस भी व्यक्ति के लिए नेशन फस्ट होगा, जिसकी सोच में राष्ट्र होगा. जिसकी सोच में समाज के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति तक विकास पहुंचे, वो समाया होगा, उसके लिए भारतीय जनता पार्टी ही एक मात्र प्लेटफार्म है. य़ही कारण है कि जितिन प्रसाद ने बीजेपी ज्वाइन किया है कि क्योंकि उन्होंने अपना सोच बदल दिया है. सोच बदलने के कारण ही वे पार्टी में शामिल हुए हैं.

यानी कि अब जितिन प्रसाद के लिए राष्ट्रवाद पहले है, तो फिर क्या होगा ब्राह्मण चेतना परिषद का? क्या जितिन प्रसाद की ब्राह्मणों को न्याय दिलाने की गाड़ी उसी स्पीड से दौड़ेगी? जिस स्पीड से कांग्रेस में रहने के दौरान दोड़ रही थी. जितिन प्रसाद ब्राह्मणों की उम्मीदों पर खरे उतरेंगे? देखना ये भी होगा कि उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण पॉलिटिक्स में जितिन प्रसाद का क्या रोल रह जाता है?

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज