Women's Day 2020: मल्टीटास्किंग क्या होती है? कोई अदिति से सीखे, किसी प्रेरणा से कम नहीं है ये युवा
Lucknow News in Hindi

Women's Day 2020: मल्टीटास्किंग क्या होती है? कोई अदिति से सीखे, किसी प्रेरणा से कम नहीं है ये युवा
मिस महाराष्ट्र कोहिनूर 2020 खिताब के साथ अदिति

Women's Day 2020: अदिति का मानना है कि हमें सब कुछ करना चाहिए. वह चाहती हैं कि पूरा जीवन नई-नई चीजें सीखते हुए और समाज में जरूरतमंदों को कुछ देते हुए बिताएं.

  • Share this:
लखनऊ. ये एक ऐसी युवा लड़की कहानी है, जिसके जीवन का लक्ष्य है - कुछ न कुछ सीखती रहो. छोटी सी उम्र में ही वह तमाम खेलों में मेडल जीत चुकी है, ब्यूटी कांटेस्ट विनर है और यही नहीं क्लासिकल डांस में भी उसे महारत हासिल है. वह समाजसेवा भी करती है, सफाई अभियान चलाती है, पर्यावरण संरक्षण करती है, बच्चों को सेल्फ डिफेंस सिखाती है. यही नहीं वह अभी थमी नहीं है. मल्टीनेशनल कंपनी से जॉब ऑफर उसकी जेब में हैं और वह सिविल सर्विसेज की तैयारी में जुटी है. उसका सपना है कि आईपीएस बनकर वह समाज की सेवा करे. तो चलिए आपको मिलाते हैं अदिति दीक्षित से.

मूलरूप से लखनऊ की रहने वाली अदिति दीक्षित के पिता सेंट्रल एक्साइज में हैं और अब पुणे में पोस्टेड हैं. अदिति के दो छोटे भाई बहन हैं. अदिति पुणे में ही अपनी जिंदगी को गढ़ रही हैं. वह कहती हैं कि उन्होंने आज तक जितनी भी उपलब्धियां हासिल कीं, उसमें उनकी मां का बहुत योगदान रहा. मां ने उन्हें हमेशा प्रेरणा दी. चाहे वह खेल हो, समाज सेवा, ब्यूटी कांटेस्ट या क्लासिकल डांस और पढ़ाई हर जगह उनकी मां एक बड़ा सपोर्टर बनकर खड़ी रहीं.

इसी साल जीत मिस महाराष्ट्र कोहिनूर का खिताब
अदिति ने इसी साल मिस महाराष्ट्र कोहिनूर 2020 का खिताब जीता और उनकी मिस महाराष्ट्र की ताजपोशी उरी सर्जिकल स्ट्राइक का अहम हिस्सा रहे लेफ्टिनेंट जनरल राजेंद्र रामराव निभोरकर ने की.
सिर्फ ब्यूटी कांटेस्ट ही नहीं, दमखम के मामले में भी अदिति किसी से पीछे नहीं है. वह कराटे ब्लैक बेल्ट हैं और कराटे एसोसिएशन ऑफ इंडिया से मान्यता प्राप्त हैं.



10 साल की उम्र में कराटे में ब्लैक बेल्ट
अदिति बताती हैं कि जब वह 6 साल की थीं, तब से वह कराटे और मार्शल आर्ट्स की प्रैक्टिस कर रही हैं. 10 साल की उम्र में ही उन्होंने परीक्षा के लिए क्वालीफाई कर लिया और ब्लैक बेल्ट हासिल कर ली. इसके बाद से ही वह बच्चों को कराटे और मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग दे रही हैं. एक तरफ अदिति खुद फाइल टूर्नामेंट में 7 बार गोल्ड मैडल जीत चुकी हैं, वहीं उनके स्टूडेंट भी अब राज्य स्तर पर कराटे फाइट चैंपियनशिप में पदक जीत रहे हैं.

aditi1
बच्चों को कराटे सिखाती हैं अदिति


राष्ट्रीय स्तर की वॉलीबॉल खिलाड़ी, बास्केटबॉल, फुटबाल में दिखाया दम
दिलचस्प बात ये है कि कराटे के साथ ही अदिति राष्ट्रीय स्तर की वॉलीबॉल खिलाड़ी भी हैं. उन्हें डेक्कन जिमखाना वॉलीबॉल क्लब में प्रोफेशनल वॉलीबॉल खिलाड़ी के रूप में चयनित किया गया है. इस क्लब में अंतर्राष्ट्रीय कोच की देखरेख में ट्रेनिंग दी जाती है. इसके अलावा अदिति ने जिला स्तर पर थ्रो बॉल और योग में भी प्रदर्शन खिताब जीते हैं. वैसे पुरस्कारों की बात करें तो अदिति ने बास्केटबॉल, फुटबॉल, थ्रो बॉल और वॉलीबाल में अंतर विद्यालय स्तर पर कई खिताब जीते हैं. अदिति कहती हैं कि वह बचपन से ही खेल प्रेमी रही हैं, यही कारण है कि स्कूल में भी वह खो-खो और रिले रेस में मैडल जीतीं.

योगगुरू रामदेव की पतंजलि की पुणे में यूथ हेड
अदिति को बाबा रामदेव की पतंजलि की तरफ से योगा इंस्ट्रक्टर के तौर पर मान्यता मिली है. वह पुणे में पतंजलि की यूथ हेड भी हैं.अदिति खेलों और ब्यूटी कांटेस्ट के साथ ही समाज सेवा में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती हैं. वह आईटी कंपनियों से लेकर कॉलेजों और गांवों में जाती हैं और हर उम्र के लोगों को आत्मरक्षा के लिए कराटे और योग सिखाती हैं.

aditi3
अदिति स्कूल-कॉलेजों में योग की भी देती हैं शिक्षा


खुद चलाती हैं स्वच्छ भारत और पौधारोपण अभियान
यही नहीं अदिति ने स्वच्छ भारत अभियान में भी अपने स्तर से प्रयास जारी रखे हैं. वह त्यौहारों के समय विशेष तौर पर गांवों से लेकर किलों और मंदिरों में स्वच्छता अभियान चलाती हैं. यही नहीं पयार्वरण संरक्षण के लिए वह अब तक हजारों पेड़ लगा चुकी हैं.अदिति बताती हैं कि वह गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड का भी हिस्सा रहीं. दरअसल एसपीपीपीयू ने ये रिकॉर्ड स्थपित किया था. इसमें लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए 16,731 नीम के पौधे बांटे गए थे.

भरतनाट्यम में भी दिखा चुकी हैं टैलेंट
इसके अलावा देहू रोड पुलिस के निर्भया ग्रुप का भी वह हिस्सा हैं. साथ ही डीवाई पाटिल कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग की विमेन वेलफेयर क्लब और इंटरनल कंप्लेंट कमेटी का भी वह हिस्सा हैं. यही नहीं अदिति ने अखिल भरतीय गंधर्व महाविद्यालय मंडल द्वारा उन्होंने क्लासिकल भरतनाट्यम डांसर का भी सर्टिफिकेट हासिल किया है. कई क्लासिकल इवेंट्स में वह जीत दर्ज कर चुकी हैं. महज 13 साल की उम्र में वह अपने स्कूल की स्टूंडेंट ऑफ द ईयर बनीं.

aditi2
स्चच्छता अभियान में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती हैं अदिति


पढ़ाई की बात करें तो अदिति ने कंप्यूटर इंजीनियरिंग में अपने कॉलेज में टॉप किया. तीसरी नेशनल कांफ्रेंस ऑन एड्वासंमेंट इन कंप्यूटर और इंफॉर्मेशन टेक्नॉलॉजी में उन्हें बेस्ट पेपर एवार्ड से नवाजा गया. यही नहीं बार्कलेज टेक इनोवेशन चैलेंज में वह रनअप रहीं.

अदिति का मानना है कि हमें सब कुछ करना चाहिए. वह चाहती हैं कि पूरा जीवन नई-नई चीजें सीखते हुए और समाज में जरूरतमंदों को कुछ देते हुए बिताएं. वह देश के लिए कुछ करना चाहती हैं. उन्हें आईपीएस बनना है. इसके लिए उन्होंने सिविल सर्विसेज की तैयारी भी शुरू कर दी है. दिलचस्प ये है कि अदिति को टीसीएस कंपनी से ऑफर आ गया है, वह कहती हैं कि नौकरी ज्वाइन करूंगी और उसके साथ तैयारी भी जारी रखूंगी. क्या प्राइवेट जॉब करते हुए वह सिविल सर्विसेज की तैयारी कर पाएंगीं? अदिति पूरी दृढ़ता से कहती हैं, जी बिल्कुल. मुझे अपने आप पूरा भरोसा है.

ये भी पढ़ें:

Women's Day 2020: 6 साल बेड पर रहने के बाद उसने देश के लिए जीते 78 मेडल

Women's Day 2020: यूपी की महिला अफसर के जज्बे की कहानी

Women's Day 2020: वाराणसी लेडी डॉक्टर की पहल- बेटी पैदा हुई तो फीस माफ
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading