लाइव टीवी

लखनऊ के घंटाघर पर जोर-शोर से मना गणतंत्र दिवस, हाथों में तिरंगा लेकर CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

Mohd Shabab | News18 Uttar Pradesh
Updated: January 26, 2020, 3:17 PM IST
लखनऊ के घंटाघर पर जोर-शोर से मना गणतंत्र दिवस, हाथों में तिरंगा लेकर CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन
हाथों में तिरंगा लेकर CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

गणतंत्र दिवस का जश्न मनाने के लिए लखनऊ के घंटाघर के धरना स्थल को तिरंगे गुब्बारों से और झंडो से सजाया गया. यहां पर गणतंत्र दिवस समारोह में मशहूर शायर मुनव्वर राणा और उनकी बेटियां फौजिया और सोमइया समेत करीब 2 हजार महिलाएं और बच्चे शामिल रहे.

  • Share this:
लखनऊ. राजधानी लखनऊ (Lucknow) के घंटाघर में नागरिक संशोधन कानून (CAA) और NRC के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने वाली महिलाओं ने गणतंत्र दिवस के मौके पर झंडा फहराया. उसके बाद हाथों में तिरंगा लेकर नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया. बता दें कि पिछले करीब 10 दिनों से लखनऊ में सीएए कानून के खिलाफ महिलाएं घंटाघर में प्रदर्शन कर रही हैं और सरकार से इस कानून को वापस लेने की अपील कर रही हैं.

गणतंत्र दिवस का जश्न मनाने के लिए लखनऊ के घंटाघर के धरना स्थल को तिरंगे गुब्बारों से और झंडो से सजाया गया. यहां पर गणतंत्र दिवस समारोह में मशहूर शायर मुनव्वर राणा और उनकी बेटियां फौजिया और सोमइया समेत करीब 2 हजार महिलाएं और बच्चे शामिल रहे. लखनऊ यूनिवर्सिटी की पूर्व कुलपति रूपरेखा वर्मा ने तिरंगा को फहराया. इस दौरान रूपरेखा वर्मा ने कहा कि यह ऐतिहासिक मौका है, जब लोग पहली बार इस तरह एकजुट होकर सामने आए हैं. इस दौरान उन्होंने पुलिसिया कार्रवाई को लेकर सरकार को भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि यह सरकार की दमनकारी नीति है, जिसमें लोगों पर मुकदमें दर्ज किए जा रहे हैं.



हम शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन फिर भी हम लोगों को जेल भेजा रहा है. अब चाहे जो हो जाए, लेकिन हम नहीं झुकेंगे. जितना ज्यादा पुलिस और प्रशासन हमें दबाने की कोशिश करेगा, हम उतने ही मजबूती से आगे आएंगे. ध्वजारोहण के कुछ देरबाद महिलाओं की हौसला अफजाई करने जाने-माने शायर इमरान प्रतापगढ़ी भी महिलाओं के धरने में पहुंचे. महिलाओं ने ध्वजारोहण के बाद लोगों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी और कहा के गणतंत्र हमारा अधिकार है और हम शहर के कोने-कोने से इस ऐतिहासिक पल के गवाह बनने आए हैं.महिलाओं ने लगाया था आरोप

धरने में शामिल पूजा शुक्ला कहतीं हैं कि घंटाघर पर बना सार्वजर्निक शौचालय बंद करा दिया गया है. हमारे लिये हमारे परिवारों से आने वाले खाने पर नजर रखी जा रही है. कुछ लोग कहतें हैं कि इन आंदलनों को फंड कौन कर रहा है तो आप को बता दें. हमारे परिवार वाले हमारे हितैशी, इस कानून की खिलाफत करने वाले लोग. हम सब मिलकर अपने लिये इन व्यवस्थाओं को कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

अयोध्या के मोहम्मद शरीफ को मिला पद्मश्री, 27 सालों से लावारिस लाशों का रहे हैं अंतिम संस्कार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 26, 2020, 3:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर