आगरा हादसे के बाद सख्‍त हुई योगी सरकार, उठाया ये बड़ा कदम

सीएम योगी ने आदेश दिया है कि सभी वाहन चालकों का मेडिकल चेकअप, लाइसेंस की जांच, उनकी पूरी स्क्रीनिंग और चालकों के स्टेयरिंग पर बैठने से पहले और गंतव्य तक पहुंचने पर उनका ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट कराया जाए.

Kumari ranjana | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 8:15 PM IST
आगरा हादसे के बाद सख्‍त हुई योगी सरकार, उठाया ये बड़ा कदम
आगरा बस हादसे में 30 लोगों की मौत हो गई थी.
Kumari ranjana | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 8:15 PM IST
यमुना एक्सप्रेस-वे हादसे के चार दिन बाद सड़क सुरक्षा को लेकर हुई बैठक में विभागीय अधिकारियों से मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ खासे नाराज दिखे. उन्होंने कहा कि ऐसे हादसे सिर्फ चालकों के मत्थे मढ़कर अधिकारी अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकते. जनता के जीवन के साथ कतई समझौता सहन नहीं होगा और परिवहन विभाग में युद्ध स्तर पर सुधार की आवश्यकता है. आपको बता दें कि सोमवार को यमुना एक्सप्रेस-वे पर आगरा के पास हुए बस हादसे में 30 यात्रियों की मौत हो गई थी.

इसके साथ ही सीएम ने बैठक में मौजूद जेपी इन्फ्राटेक के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि आपकी कंपनी को गलत कार्य करने की इजाजत प्रदेश सरकार नहीं दे सकती है. टोल आप वसूलते हैं, तो सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम आपकी जिम्मेदारी है. आईआईटी दिल्ली द्वारा बताए गए सुरक्षा के सभी 13 सुझावों का पालन करिए. यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी के अधिकारी इस बात को सुनिश्चित करें कि अगर मानकों का पालन नहीं हो रहा है तो कंपनी के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करें.

इस मौके पर सीएम ने निर्देश भी दिए
सभी वाहन चालकों का मेडिकल चेकअप, लाइसेंस की जांच, उनकी पूरी स्क्रीनिंग और चालकों के स्टेयरिंग पर बैठने से पहले और गंतव्य तक पहुंचने पर उनका ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट कराया जाए. रात में 400 किलोमीटर तक या उससे ज्यादा चलने वाली बसों में दो ड्राइवर रहें. जबकि अधिकारियों एवं मंत्रियों के चालकों का भी मेडिकल चेकअप हो.

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ.


स्कूली बच्चों के लिए भी सीएम ने जताई चिंता
सीएम ने कहा कि जिन मारूती वैन और टैम्पो को रिजेक्ट कर दिया जाता है, उन्हें स्कूल में चलाया जा रहा है. जबकि रिक्शों पर बच्चे लटक कर स्कूल जाते हैं. पिछले साल कुशीनगर में हुई घटना से भी सीख नहीं ली गई है. स्कूल का वाहन चलाने वाले सभी चालकों की मेडिकल जांच के साथ ही पुलिस सत्यापन कराएं. स्कूली वाहनों का नियमित फिटनेस टेस्ट सत्र शुरू होने से पहले हो जाना चाहिए और इनके लिए जरूरी हो तो छुट्टी के दिन भी आरटीओ कार्यालय खोलें. जो भी वाहन फिटनेस पास हो उनको ही सड़क पर चलने की अनुमति दी जाए. कंडम बसें और डग्गामार वाहनों को स्क्रैप कर दिया जाए. अन्य प्रदेशों से आने और जाने वाली बिना परमिट की बसों को प्रदेश से गुजरने की अनुमति न दें, जो भी कानून का उल्लंघन करे उससे पूरी सख्ती से निपटें.
Loading...

मेडिकल सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश
चिकित्सा शिक्षा एवं स्वास्थ्य विभाग यह सुनिश्चित करे कि किसी हादसे के 10-15 मिनट के भीतर वहां पर घायलों के लिए जरूरी चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध हो. सीम ने कहा, ' जितने भी ट्रामा सेंटर हैं वो चलने चाहिए.इनमें आर्थोपैडिक सर्जन की व्यवस्था हो.'

यातायात विभाग को निर्देश
मुख्यमंत्री ने कहा कि नीली और काली फिल्म चढ़ाए वाहनों पर कार्रवाई की जाए. जबकि हेलमेट और सीट बेल्ट को लेकर जीरो टॉलरेंस की नीति पर कार्य किया जाए. एक्सप्रेस-वे, NHAI और SH विभाग के अधिकारियों को निर्देश करते हुए उन्होंने कहा कि हाइवे पर जनसुविधाओं को बढ़ाया जाए. पेट्रोल पंप की व्यवस्था की जाए और ई चालान की व्यवस्था में और सुधार लाया जाए.

जिलाधिकारी करें ये काम
मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलाधिकारी अपने जिलों में सड़क सुरक्षा से जुड़े सभी विभागों के अधिकारियों के साथ हर माह बैठक करें, जिसकी समीक्षा हर महीने मुख्य सचिव करें. हर तीन महीने पर सड़क सुरक्षा को लेकर सूचना विभाग, परिवहन विभाग और यातायात विभाग व्यापक अभियान चलाए. साथ ही उन्होंने कहा कि रम्बल स्ट्रिप हर 15 किमी. पर होना चाहिए. हाईवे पेट्रोलिंग वाहन, डायल 100 और एम्बुलेंस के कर्मचारियों को सही ढंग से प्रशिक्षण दिया जाए. जबकि ओवर स्पीड को रोकने की व्यवस्था की जाए. अगस्त के पहले सप्ताह में फिर से इस बात की समीक्षा की जाएगी.

बैठक में मोजूद रहे ये लोग
बैठक लगभग साढ़े तीन घंटे चली, जिसमें मुख्यमंत्री योगी के साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टण्डन, औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना, परिवहन राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार स्वतंत्र देव सिंह, मुख्य सचिव डॉ. अनूप चंद्र पाण्डेय एवं सम्बंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.

ये भी पढ़ें-यूपी विधानसभा उपचुनाव: अखिलेश यादव का फरमान, SP से टिकट चाहिए तो करना होगा ये काम

BJP MLA की बेटी ने इस मंदिर में की थी शादी, मैरिज सर्टिफिकेट को महंत ने बताया फर्जी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 11, 2019, 8:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...