होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

Yogi Adityanath Exclusive: चुनावी सर्वे में सपा को हो रहा है फायदा, क्या सच में ऐसा होगा? जानें CM योगी का जवाब

Yogi Adityanath Exclusive: चुनावी सर्वे में सपा को हो रहा है फायदा, क्या सच में ऐसा होगा? जानें CM योगी का जवाब

Yogi Adityanath Interview: UP चुनाव के लिए भाजपा की तैयारी और रणनीति पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने Network18 के एमडी और ग्रुप एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी से एक्सक्लूसिव बातचीत की. (फोटो न्यूज18)

Yogi Adityanath Interview: UP चुनाव के लिए भाजपा की तैयारी और रणनीति पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने Network18 के एमडी और ग्रुप एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी से एक्सक्लूसिव बातचीत की. (फोटो न्यूज18)

CM Yogi Adityanath News UP chunav: यूपी विधानसभा चुनाव (UP Vidhan Sabha Chunav) में गोरखपुर सदर सीट से नामांकन भरने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने आज यानी शुक्रवार को अपना पहला सबसे बड़ा इंटरव्यू न्यूज18 इंडिया को दिया, जिसमें उन्होंने चुनाव के मद्देनजर तैयारियों से लेकर रणनीतियों पर चर्चा की. इस इंटरव्यू में योगी आदित्यनाथ ने आगामी यूपी चुनाव और अपने पांच साल के कार्यकाल की उपलब्धियों और चुनौतियों पर Network18 के एमडी और ग्रुप एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी के बेबाक सवालों के जवाब दिये.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ: यूपी विधानसभा चुनाव (UP Vidhan Sabha Chunav) में पहली बार किस्मत आजमा रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने आज यानी शुक्रवार को गोरखपुर सदर सीट (Gorakhpur Seat) से नामांकन भरा. गोरखपुर सदर सीट से बीजेपी के प्रत्याशी सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath Interview) ने नामांकन भरने के बाद यूपी चुनाव 2022 में भाजपा के 300 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा किया. नामांकन के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi) ने अपना पहला सबसे बड़ा इंटरव्यू न्यूज18 इंडिया को दिया, जिसमें उन्होंने चुनाव के मद्देनजर तैयारियों से लेकर रणनीतियों पर चर्चा की. इस इंटरव्यू में योगी आदित्यनाथ ने आगामी यूपी चुनाव और अपने पांच साल के कार्यकाल की उपलब्धियों और चुनौतियों पर  Network-18 के एमडी और ग्रुप एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी के बेबाक सवालों के जवाब दिये.

Network-18 के एमडी और ग्रुप एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी ने जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से सवाल किया कि अलग-अलग सर्वे में भाजपा को 230 से 260 सीटें दी गई हैं, जबकि सपा की सीटों की बढ़ोतरी दिखाई गई है और कहा जा रहा है कि सपा 100 से 150 सीटें ला सकती है, इस पर क्या कहेंगे. इसके जवाब में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2014 में भाई-बहन की पार्टी को भी लोगों ने बहुत हाइलाइट किया था, मगर क्या हुआ था, दो सीट नहीं जीत पाए यूपी में. उस समय प्रदेश के सत्ताधारी दल के बड़े-बड़े दावे थे, पांच सीटों पर सिकुड़ गए थे न, पांचों एक ही परिवार के थे. 2017 में दो लड़कों की जोड़ी आई थी, जनता ने खारिज किया, उस समय भी बड़े-बड़े दावे किए जा रहे थे.

सीएम योगी ने आगे कहा कि ओपिनियन पोल हो या एग्जिट पोल हों, उन सबके इतर यूपी की जनता ने मोदी जी के नेतृत्व पर विश्वास किया था, भाजपा को अपना समर्थन दिया था. 2019 में महागठबंधन बन गया था. सपा, बसपा, कांग्रेस और लोकदल तमाम लोग उनके साथ जुड़ गए थे. परिणाम क्या रहा था, भाजपा 64 सीट पाकर नंबर एक पर थी, नंबर दो पर बसपा थी, मात्र 10 सीटें पाई थी. समाजवादी पार्टी मात्र 5 सीटों पर सिमट गई और कांग्रेस को एक सीट मिली. इस चुनाव में भी आप यही देखेंगे.

उन्होंने आगे कहा कि सर्वे, ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल को लेकर आप तीनों चुनावों का देख लें, तीनों चुनावों में क्या ट्रेंड रहा है और मतदान का ट्रेंड क्या है. मोदी जी की लोकप्रियता में कोई कमी नहीं है. बढ़ोतरी ही हुई है. भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है. भारत आंतरिक और बाह्य सुरक्षा के मामले में पूर्व की तुलना में बेहतर स्थिति में है.

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को गोरखपुर शहर सीट से बतौर बीजेपी प्रत्याशी अपना नामांकन भरा. इस दौरान उनके साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और तमाम नेतागण मौजूद थे. सीएम योगी के नामांकन से पहले गृहमंत्री अमित शाह ने एक जनसभा को संबोधित किया और कहा कि यूपी के इतिहास में एक बार फिर भाजपा सरकार इतिहास दोहराने जा रही है. उन्होंने कहा कि ‘आज विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है, उनको लगता है कि कोरोना के कारण सभाएं सीमित हो गई हैं, लोगों के बीच जाना नहीं पड़ रहा है. मैं उनसे कहना चाहता हूं कि भैया जो अप्रचार करना है कर लो, उत्तर प्रदेश की जनता भाजपा के साथ है, भाजपा को फिर से 300 के पार सीटें मिलने वाली हैं.’

Tags: Assembly elections, CM Yogi Adityanath, Uttar Pradesh Assembly Elections, ​​Uttar Pradesh News

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर