लाइव टीवी

CM योगी आदित्यनाथ ने ऐसे बदल दिया UP के नौकरशाहों का वर्क कल्चर

Manohar Singh Rajput | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 20, 2019, 11:50 AM IST
CM योगी आदित्यनाथ ने ऐसे बदल दिया UP के नौकरशाहों का वर्क कल्चर
इस नए वर्क कल्चर और जवाबदेही की वजह से कई आरामतलब अधिकारियों में नाराजगी भी है.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के घंटों तक काम करते रहने और देर रात तक मीटिंग लेने की वजह से नौकरशाहों को हर वक्त अलर्ट रहना पड़ रहा है.

  • Share this:
(मनमोहन राय)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के घंटों तक काम करते रहने और देर रात तक मीटिंग लेने की वजह से नौकरशाहों को हर वक्त अलर्ट रहना पड़ रहा है. इस नए वर्क कल्चर (Work Culture) और जवाबदेही की वजह से कई आरामतलब अधिकारियों में नाराजगी भी है. सीएम योगी आदित्यनाथ की करीबी टीम और मुख्‍यमंंत्री कार्यालय (CM Office) में काम करने वालों को तो और भी ज्यादा काम करना पड़ रहा है. उन्हें मुख्यमंत्री के साथ अलसुबह से लेकर देर रात तक काम करना पड़ता है.

जल्द ही समझ गए थे
दरअसल, देश की सबसे ज्‍यादा आबादी वाले राज्य का मुख्यमंत्री बनने के कुछ समय बाद ही योगी आदित्यनाथ को समझ आ गया था कि फाइलें निपटाने और जरूरतमंद लोगों से मिलने की जगह ज्यादातर अधिकारियों ने एक के बाद दूसरी मीटिंग में व्यस्त रहने की आदत बना ली है. मोटे तौर पर यह दिन काटने, कड़े निर्णय लेने से बचने और भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों की पहचान करने से बचने का तरीका था.

सीएम योगी ने बताया कि जब उन्होंने अधिकारियों को मीटिंग के लिए बुलाया तो बहुत जल्द समझ आ गया था कि स्थितियां बहुत ज्यादा बिगड़ चुकी हैं. 'सीएम के साथ मीटिंग की तैयारी चल रही है' का बहाना बनाकर पूरा दिन बर्बाद कर देना उनकी आदत बन चुकी थी.

सिर्फ डिपार्टमेंट हेड को आने के आदेश
इसके अलवा सीएम की समीक्षा बैठकों में भी अधिकारियों के साथ लाव-लश्कर और उनके मातहत भी आते थे.  इससे पूरे डिपार्टमेंट का काम रुक जाता था. इस पर सीएम योगी ने कहा, 'अब मैंने आदेश जारी कर दिए हैं कि सिर्फ प्रिंसिपल सेक्रेटरी या डिपार्टमेंट हेड, ही मीटिंग के लिए आएंगे. सभी साथ नहीं आएंगे. इसका नतीजा यह निकला कि अब प्रिंसिपल सेक्रेटरी छोटे-छोटे सवालों पर अपने डिप्‍टी की तरफ मुड़कर देखने के बजाय खुद पूरी तैयारी के साथ आते हैं. इससे दूसरे अधिकारियों को दिन के रेगुलर काम करने का मौका भी मिल जाता है.'कंफर्ट जोन से बाहर आए हैं अधिकारी
सीएम योगी के इन परिवर्तनों ने राज्य के अधिकारियों में परिणाम आधारित वर्क कल्चर को बढ़ावा दिया है. इसकी वजह से अधिकारी अपने कंफर्ट जोन से भी बाहर आए हैं. सीएम के दफ्तर के आला अधिकारी आधी मुस्कान के साथ कहते हैं, 'योगी जी बहुत ज्‍यादा काम करने वाले व्यक्ति हैं. वह रोजाना करीब 17 घंटे अपने दफ्तर से जुड़ी जिम्मेदारियों को निभाते हुए बिताते हैं. वह तय करते हैं कि नौकरशाह भी निर्धारित लक्ष्य हासिल करने के लिए पूरा समय दे रहे हैं या नहीं. हमें अपने साथियों से ज्यादा काम करना पड़ता है क्योंकि सीएम सुबह से लेकर देर रात तक काम करते हैं और हमें उनके साथ रहना होता है.'

ये भी पढ़ें: Exclusive Interview: राममंदिर, मॉब लिंचिंग, जनसंख्या, हिंदी और यूपी के विकास पर खुलकर बोले सीएम योगी, पढ़िए पूरा इंटरव्यू

Exclusive: अगर मायावती को अपने वोटबैंक पर गर्व तो मुझे भी, चुनाव प्रचार में गलत नहीं कहा: CM योगी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 20, 2019, 10:00 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर