योगी सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार: इन 18 नए चेहरों को मिली जगह

राज्यमंत्री बनाए गए श्रीराम चौहान (Sriram Chauhan) पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार (Central government) में राज्य मंत्री रह चुके हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 21, 2019, 8:47 PM IST
योगी सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार: इन 18 नए चेहरों को मिली जगह
कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और राज्य मंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद सीएम योगी और राज्यपाल के साथ फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 21, 2019, 8:47 PM IST
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) की कैबिनेट का पहला मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet Expansion) बुधवार को लखनऊ (Lucknow) के राजभवन में संपन्न हुआ. पहले कैबिनेट विस्तार में 18 नए चेहरों को योगी कैबिनेट में जगह मिली है, जबकि पांच को प्रमोट करके कैबिनेट मंत्री बनाया गया है.

नए कैबिनेट मंत्रियों में महेंद्र सिंह, सुरेश राणा, अनिल राजभर, भूपेंद्र सिंह, रामनरेश अग्निहोत्री और कमला रानी वरुण शामिल हैं. जिन लोगों ने राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में शपथ ली, उनमें नीलकंठ तिवारी, कपिलदेव अग्रवाल, सतीश द्विवेदी, अशोक कठेरिया, श्रीराम चौहान और रविंद्र जायसवाल शामिल हैं.

नीलकंठ तिवारी पहले राज्य मंत्री थे. अब राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार का कार्यभार संभालेंगे. स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्रियों के रूप में जिन नए चेहरों को स्थान मिला है, उनमें कपिलदेव, सतीश द्विवेदी, अशोक कठेरिया, श्रीराम चौहान और रविंद्र जायसवाल शामिल हैं.

योगी सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार में 11 विधायकों को राज्यमंत्री के रूप में जगह मिली है, जिनमें अनिल शर्मा, महेश गुप्ता, आनंद स्वरूप शुक्ला, गिरिराज सिंह धर्मेश, लाखन सिंह राजपूत, नीलिमा कटियार, चौधरी उदयभान सिंह, चंद्रिका सिंह उपाध्याय, रामशंकर सिंह पटेल, अजित सिंह पाल और विजय कश्यप शामिल हैं.

राज्यमंत्री बनाए गए श्रीराम चौहान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार में राज्य मंत्री रह चुके हैं.

कौन हैं श्रीराम चौहान
संतकबीर नगर की धनगटा सीट से बीजेपी विधायक हैं श्रीराम चौहान. बस्ती लोकसभा सीट से भी श्रीराम चौहान तीन बार सांसद रह चुके हैं. साल 1996, 1998, और 1999 में बस्ती के सांसद रहे श्रीराम चौहान संघ से जुड़े रहे हैं और इमरजेंसी में जेल भी जा चुके हैं. श्रीराम चौहान अटल बिहारी वाजपेयी की 1998 में बनी सरकार में राज्यमंत्री थे. संघ के स्वयंसेवक रहे चौहान 2004 का लोकसभा चुनाव अपनी परम्परागत बस्ती सीट से हार गए थे और 2009 में श्रीराम चौहान की परम्परागत बस्ती लोकसभा सीट सुरक्षित से सामान्य श्रेणी में आ गई. उसके बाद वो वहां से चुनाव नहीं लड़े.
Loading...

ये भी पढ़ें--

अयोध्या सुनवाई: CJI बोले- ये ज़मीन का केस है, धर्मग्रंथ सुनाने की जगह सबूत दीजिए

Opinion: तीन राज्यों के चुनाव से पहले फ्रंटफुट पर BJP

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 7:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...