योगी सरकार न्यूयार्क में सुनाएगी जेवर एयरपोर्ट की कहानी, दुनिया के 100 रणनीतिक ग्लोबल इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट में हुआ शामिल

स्विट्जरलैंड की कंपनी करेगी जेवर एयरपोर्ट विकसित.

स्विट्जरलैंड की कंपनी करेगी जेवर एयरपोर्ट विकसित.

अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में 25 से 27 मार्च को होने वाले 13वें ग्लोबल इन्फ्रास्ट्रक्चर लीडरशिप फोरम (13th Global Infrastruture Leadership Forum) में उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से जेवर एयरपोर्ट की सफलता की कहानी को पेश किया जाएगा. फोरम ने उत्तर प्रदेश सरकार को निमंत्रण भेजा है.

  • Share this:
लखनऊ. जेवर (Jewar) में बन रहे नोएडा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे (NOIDA International Airport) की सफलता की कहानी अब न्यूयार्क (New York) में सुनी जाएगी. जेवर एयरपोर्ट के पहले चरण को वर्ष 2020 के लिए दुनिया के 100 रणनीतिक ग्लोबल इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट में शामिल किया गया है. पूरी दुनिया के एविएशन क्षेत्र में उत्तर प्रदेश (भारत) और यूगोस्लाविया को चुना गया है. सीजी एलए इन्फ्रास्ट्रक्चर की सूची में इसे मान्यता दी गई है.



अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में 25 से 27 मार्च को होने वाले 13वें ग्लोबल इन्फ्रास्ट्रक्चर लीडरशिप फोरम (13th Global Infrastruture Leadership Forum) में उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से जेवर एयरपोर्ट की सफलता की कहानी को पेश किया जाएगा. फोरम ने उत्तर प्रदेश सरकार को निमंत्रण भेजा है. दुनिया की तमाम कंपनियां जेवर एयरपोर्ट में निवेश की इच्छुक हैं. इस दौरान दो सेशन में यूपी को अपना प्रेजेंटेशन प्रस्तुत करना है, जिसमें सालों से अधर में लटके जेवर एयरपोर्ट के प्रोजेक्ट की कामयाबी की कहानी सुनी जाएगी.



गौरतलब है कि जेवर तहसील के 6 गांवों रोही, परोही, किशोरपुर, दयानतपुर, रनहेरा और बनवारी की जेवर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के लिए पहले चरण में 1,334 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया गया है. यह एयरपोर्ट एशिया का दूसरा सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा होगा. जेवर इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट पर तेजी के साथ काम चल रहा है. ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी इसका निर्माण कर रही है. एयरपोर्ट के पास एक शहर बसाया जाएगा. यहां घर, दफ्तर और बाजार सभी आसपास होंगे. क्लीन सिटी-ग्रीन सिटी की थीम पर बसने वाले इस शहर में यूरोपीय देशों का प्रभाव दिखेगा.





योगी सरकार को है एयरपोर्ट से बड़ी उम्मीदें
योगी सरकार का मानना है कि वह चीन को पछाड़कर एशिया का दूसरा सबसे बड़ा एयरपोर्ट (जेवर) बना रही है. इसके पूरा होने पर यूपी की अर्थव्यवस्था को नई रफ्तार मिलेगी. रोजगार और व्यापार तो बढ़ेगा ही, साथ ही अन्य निवेशक भी उत्तर प्रदेश की ओर रूख करेंगे. यूपी सरकार को उम्मीद है कि जेवर ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल एयरपोर्ट उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के साथ ही औद्योगिक विकास को नए मुकाम पर पहुंचाएगा. 30 हजार करोड़ रुपए के निवेश से बन रही इस परियोजना से सरकार को एक लाख 10 हजार करोड़ रुपए से अधिक की आय होने का अनुमान है.



1 लाख से ज्यादा रोजगार पैदा करेगा एयरपोर्ट

अनुमान तो ये भी है कि एक लाख से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से रोजगार मिलेगा. इस एयरपोर्ट से नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और यमुना एक्सप्रेसवे के करीब एक लाख करोड़ रुपए का निवेश आएगा. बता दें कि जेवर एयरपोर्ट के लिए 29 नवंबर 2019 को फाइनांशियल बिड्स खोली गई थी. जिसे ज़्यूरिख़ एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी ने 400.97 रुपए प्रति यात्री राजस्व भुगतान की दर पर टेंडर हासिल किया.



दुनिया को पांचवां सबसे बड़ा एयरपोर्ट

उत्तर प्रदेश में बनने वाला यह एयरपोर्ट दुनिया का 5वां सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा. ग्रेटर नोएडा के जेवर में करीब 5000 हेक्टेयर में प्रस्तावित इस एयरपोर्ट पर तेजी से काम चल रहा है. प्रस्ताव के अनुसार 2022-23 में जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से फ्लाइट्स का संचालन भी शुरू हो जाएगा.



दुनिया के सबसे बड़े एयरपोर्ट

अभी चीन का शंघाई प्रांत का इंटरनेशनल एयरपोर्ट एशिया का दूसरा सबसे बड़ा एयरपोर्ट है. शंघाई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लगभग 3988 हेक्टेयर में फैला है, जबकि दुनिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट सऊदी अरब में है. दामम के किंग फहद इंटरनेशनल एयरपोर्ट 77,600 हेक्टेयर जमीन पर बना है. इसके बाद अमेरिका के डेंवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का नंबर आता है, जो 13,571 हेक्टेयर जमीन पर बना है. तीसरे नंबर पर अमेरिका का ही डलास इंटरनेशनल एयरपोर्ट है, जो 6,963 हेक्टेयर जमीन पर फैला हुआ है. चौथे और पांचवें नंबर पर अमेरिका के ही ओरलैंडो इंटरनेशनल एयरपोर्ट और वाशिंगटन ड्यूलेस इंटरनेशनल एयरपोर्ट हैं, जो क्रमशः 5,383 और 4,856 हेक्टेयर जमीन पर बने हुए हैं.



ये भी पढ़ें:



ओले गिरते नहीं देखते सीएम योगी तो शायद इसे भी तुकबंदी में उड़ा देते: अखिलेश



कोराना वायरस: UP के सरकारी स्कूलों में उठी 15 मार्च तक छुट्टी की मांग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज