Home /News /uttar-pradesh /

योगी सरकार के 100 दिन में ही पूरे हुए ऊर्जा क्षेत्र के 50 फीसदी वादे

योगी सरकार के 100 दिन में ही पूरे हुए ऊर्जा क्षेत्र के 50 फीसदी वादे

बात चुनाव से पहले जारी किए गए बीजेपी संकल्प पत्र में ऊर्जा विभाग से जुड़ी घोषणाओं की करें तो योगी सरकार 100 दिन के भीतर ही अपनी 50 प्रतिशत घोषणाओं को पूरा कर चुकी है.

बात चुनाव से पहले जारी किए गए बीजेपी संकल्प पत्र में ऊर्जा विभाग से जुड़ी घोषणाओं की करें तो योगी सरकार 100 दिन के भीतर ही अपनी 50 प्रतिशत घोषणाओं को पूरा कर चुकी है.

बात चुनाव से पहले जारी किए गए बीजेपी संकल्प पत्र में ऊर्जा विभाग से जुड़ी घोषणाओं की करें तो योगी सरकार 100 दिन के भीतर ही अपनी 50 प्रतिशत घोषणाओं को पूरा कर चुकी है.

    यूपी में योगी सरकार के 100 दिन पूरे हो चुके हैं. ऐसे में अगर बात चुनाव से पहले जारी किए गए बीजेपी संकल्प पत्र में ऊर्जा विभाग से जुड़ी घोषणाओं की करें तो योगी सरकार 100 दिन के भीतर ही अपनी 50 प्रतिशत घोषणाओं को पूरा कर चुकी है. सरकार का दावा है कि शेष घोषणाओं को अगले साल अक्टूबर तक पूरा कर लिया जाएगा.

    सरकार बनते ही योगी सरकार ने सबसे पहले यूपी के हर घर को 24 घंटे बिजली देने के लिये बीते 14 अप्रैल 2017 को केन्द्र सरकार के साथ पावर फॉर आॅल समझौता किया. इस दौरान 100 में पहली बार 18 हजार 538 मजरों में बिजली पहुंचाई गई. इन ममजरों के करीब 7 लाख 41 हजार 440 घरों में रहने वाले करीब 37 लाख से भी अधिक लोगों के जीवन को रोशन कर दिया.

    बीजेपी का वादा

    यूपी के हर घर में 24 घंटे बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी.
    सभी गरीब परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन सुनिश्चित किए जाएंगे.
    सभी गरीब घरों को बिजली की पहली 100 यूनिट 3 रूपये प्रति यूनिट की रियायती दर पर दी जाएगी.
    बीजेपी के वादों की कसौटी पर योगी सरकार

    ग्रामीण के साथ शहरी इलाकों के बीपीएल परिवारों को भी मुफ्त बिजली कनेक्शन का ऐलान.
    अक्टूबर 2018 तक यूपी के हर घर- हर खेत को 24 घंटे बिजली सप्लाई करने का निर्धारित किया गया लक्ष्य. इसके लिए 24 अप्रैल 2017 को केन्द्र सरकार के साथ पावर फॉर आॅल का हुआ समझौता.
    फिलहाल जनपदों में 24 घंटे, तहसीलो में 20 घंटे और गांवो को 18 घंटे दी जा रही बिजली.
    अयोध्या, गोरखपुर, वाराणसी, मथुरा जैसे धार्मिक स्थलों और शक्तिपीठों में 24 घंटे बिजली आपूर्ति.
    गांव में शाम सात बजे से सुबह पांच बजे तक सुनिश्चित की गई बिजली आपूर्ति.
    100 दिन में पहली बार यूपी के 18,536 गांवों /मजरों में पहुंची बिजली.
    सस्ती बिजली के लिये पूर्व सरकार के मंहगी बिजली के करारों को निरस्त किया.
    प्रतिस्पर्धा का लाभ लेकर अब एनर्जी एक्सचेंज और डीप पोर्टल से खरीदी जा रही है सस्ती बिजली.
    कोयले की कमी खत्म कर थर्मल बैकिंग की गई बंद, जिससे बिजली घरों में सस्ती बिजली का बढ़ा उत्पादन.

    राजस्व में सुधार के लिए सरकार की कोशिश

    सक्रिय योजना के तहत शहरी और ग्रामीण उपभोक्ताओं का 100 फीसदी सरचार्ज और लघु उद्योगों का 50 फीसदी सरचार्ज माफ किया गया.
    एमनेस्टी योजना के तहत शहरी, ग्रामीण व ट्यूबवेल उपभोक्ताओं को चार किश्तों में बिजली बिल जमा करने की सुविधा दी गई.
    सर्वदा योजना के तहत बिजली चोरी रोकने के लिए बगैर जुर्माना कटिया कनेक्शन को वैध कराने और लोड बढ़वाने का आफर दिया गया.
    इन योजनाओं से यूपी के करीब 20 लाख से अधिक बिजली उपभोक्ताओं को मिला लाभ.
    सभी शहरी-ग्रामीण उपभोक्ताओं को 5 किलोवाट तक के नए कनेक्शन को शुल्क 18 किश्तों में देने की सुविधा.
    शहरों के साथ गांवों में भी ऑनलाइन बिजली बिल भुगतान की सुविधा
    ट्रस्ट बिलिंग यानी अपनी मीटर रीडिंग चेक कर अपने आप बिल बनाने की ऑनलाइन सुविधा
    प्रीपेड मीटर्स के रिचार्ज टोकन भी ऑनलाइन प्राप्त कर ऑनलाइन भुगतान की सुविधा
    ऑनलाइन और डेबिट व क्रेडिट कार्ड से भुगतान करने पर लगने वाला ट्रांजेक्शन चार्ज खत्म

    मूलभूत ढांचे में सुधार की कोशिश

    बिजली से जुड़ी विभिन्न समस्याओं के समाधान के लिए शहरी-ग्रामीण उपभोक्ताओं के लिए शिकायती टोल फ्री नंबर 1912 शुरू किया गया.
    शहरों में 24 और ग्रामीण क्षेत्रों में 48 घंटे में खराब ट्रांसफार्मर बदले जा रहे हैं.
    2806 करोड़ रुपये की लागत से 23 बड़े बिजली सब स्टेशन शुरू और 8 हजार ट्रांसफार्मरों की बढ़ाई गई क्षमता.
    नये कनेक्शन के लिये केबल न खरीद सकने वाले उपभोक्ताओं को केबल भी खरीद कर दे रहा ऊर्जा विभाग

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: लखनऊ

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर