ट्रांसफर के बाद ज्वाइन नहीं कर रहे यूपी के इन 5 पीसीएस अफसरों को नोटिस

शासन की तरफ से इन अफसरों को निर्देश दिया गया है कि 13 सितंबर को 3 बजे तक स्थानान्तरित स्थान पर कार्यभार अवश्य ग्रहण कर लें नहीं तो अनुशासनहीनता के लिए उन्हें निलंबित करते हुए नियमानुसार अनशासनिक कार्यवाही शुरू की जाएगी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 12, 2018, 11:21 AM IST
ट्रांसफर के बाद ज्वाइन नहीं कर रहे यूपी के इन 5 पीसीएस अफसरों को नोटिस
(फाइल फोटो- योगी आदित्यनाथ)
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 12, 2018, 11:21 AM IST
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने ट्रांसफर होने के बाद भी पद ज्वाइन नहीं कर रहे 5 डिप्टी कलेक्टर स्तर के पीसीएस अफसरों को नोटिस जारी किया है. नोटिस में उन्हें 13 सितंबर तक ज्वाइन करने की चेतावनी जारी की गई है, नहीं तो अनुशासनहीनता के तहत निलंबन और विभागीय कार्रवाई के लिए तैयार रहने को कहा गया है. इन अफसरों में विनय कुमार सिंह (सेकेंड), रजनीश कुमार मिश्र, इंद्रसेन, अजय कुमार उपाध्याय और विनोद कुमार सिंह के नाम शामिल हैं.

उत्तर प्रदेश शासन के संयुक्त सचिव सुरेश कुमार पांडेय की तरफ से इन अफसरों को पत्र लिखकर कहा गया है कि 30 सितंबर को इनका ट्रांसफर किया गया और इन्हें संबंधित जनपद में 31 अगस्त तक कार्यभार ग्रहण करना था. कुंभ मेला प्रभारी, इलाहाबाद और संबंधित जिलाधिकारी से मिली सूचना के अनुसार अभी तक इनमें से किसी भी अफसर ने कार्यभार ग्रहण नहीं किया है. शासन की तरफ से इन अफसरों को निर्देश दिया गया है कि 13 सितंबर को 3 बजे तक स्थानान्तरित स्थान पर कार्यभार अवश्य ग्रहण कर लें नहीं तो अनुशासनहीनता के लिए उन्हें निलंबित करते हुए नियमानुसार अनशासनिक कार्यवाही शुरू की जाएगी.

जिन अफसरों के खिलाफ नोटिस जारी किया गया है, उनमें विनय कुमार सिंह (सेकेंड) का ट्रांसफर इलाहाबाद में कुंभ मेला के डिप्टी कलेक्टर पद पर हुआ है. इसी तरह रजनीश ​कुमार मिश्र का भी ट्रांसफर ​कुंभ मेला के डिप्टी कलेक्टर पद पर हुआ है. इनके अलावा इंद्रसेन को बलिया में डिप्टी कलेक्टर बनाया गया है, अजय कुमार उपाध्याय को प्रतापगढ़ में डिप्टी कलेक्टर और विनोद कुमार सिंह को वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में डिप्टी कलेक्टर के पद पर ट्रांसफर किया गया है.

ये भी पढ़ें: 

यूपी में काली कमाई के धन कुबेरों के दिन लदे, 150 से अधिक अफसर जाएंगे जेल

SC/ST एक्ट में बिना नोटिस गिरफ्तारी नहीं, 7 साल से कम सजा वाले मामले में नियम लागू 

...तो इस तरह राहुल गांधी पर 'दबाव' बना रही हैं बसपा सुप्रीमो मायावती!
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर