योगी सरकार ने यूपी पुलिस में किया बड़ा बदलाव, इतिहास हो गई है .303 रायफल

अब तक आईपीएस अधिकारी हर साल संपत्ति का ब्यौरा देते थे. (प्रतीकात्मक फोटो)

अब तक आईपीएस अधिकारी हर साल संपत्ति का ब्यौरा देते थे. (प्रतीकात्मक फोटो)

उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) को अत्याधुनिक 63 हजार इंसास रायफल और 23 हजार एसएलआर रायफल (SLR Rifle) मिल गई हैं. अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी के अनुसार यूपी पुलिस अब अत्याधुनिक हथियारों से लैस होगी.

  • Share this:

लखनऊ. चाहे वह चंबल के खूंखार डकैत हों, आतंकवादी हों या माफिया के खिलाफ कार्रवाई, उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) की पहचान मानी जाने वाली .303 की रायफल (.303 Rifle) अब इतिहास होने जा रही हैं. दरअसल सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के निर्देश पर उत्तर प्रदेश शासन की तरफ से आदेश जारी कर दिए गए हैं कि किसी थाने पर अब .303 रायफल का उपयोग न हो. साथ ही ये भी कहा गया है कि यदि इस का उपयोग किया जाता है तो संबंधित थानाध्यक्षों, प्रतिसार निरीक्षकों के खिलाफ कार्यवाही की जाए. दरअसल यूपी पुलिस को अत्याधुनिक 63 हजार इंसास व 23 हजार एसएलआर मिल गई हैं, वहीं नई भर्तियों को देखते हुए 8 हजार इंसास रायफल रिजर्व मे रखी गई हैं. साथ ही 8 हजार इंसास रायफल व 10 हजार 9 एमएम पिस्टल खरीदने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है.

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी के अनुसार यूपी पुलिस अब अत्याधुनिक हथियारों से लैस होगी. उन्होंने बताया कि वर्तमान में पुलिसकर्मियों द्वारा प्रयुक्त की जा रही थ्री नाट थ्री (.303 रायफल) को हटाकर उन्हें इंसास और एसएलआर जैसे अत्याधुनिक हथियार उपलब्ध करा दिए गए हैं. इस सम्बन्ध में उनके द्वारा यह आदेश भी जारी किए गए हैं कि किसी थाने पर अब .303 रायफल का उपयोग न हो. यदि उपयोग की जाती है तो संबंधित थानाध्यक्षों, प्रतिसार निरीक्षकों के विरूद्ध समुचित कार्यवाही की जाए.

नई भर्ती को लेकर भी रिजर्व में रखी गईं अत्याधुनिक रायफल

अपर मुख्य सचिव, गृह के अनुसार शांति व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़ करने और अपराधों पर और अधिक प्रभावी तरीके से अंकुश लगाये जाने व महिलाओं एवं जन सामान्य को और अधिक सुरक्षित वातावरण प्रदान करने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश पुलिस को अत्याधुनिक हथियारों से लैस किया जा रहा है. उन्होंने पुलिस विभाग में आगामी भर्ती की प्रक्रिया को देखते हुए और अधिक अत्याधुनिक हथियारों की व्यवस्था करने के निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए हैं.
अभी और होगी खरीद



वहीं अपर पुलिस महानिदेशक, लाजिस्टिक, विजय कुमार मौर्य ने अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी को यह जानकारी देते हुए बताया कि आगामी भर्ती को देखते हुए 8000 इंसास रायफल रिजर्व में रखी गई हैं. साथ ही 8000 इंसास रायफल और 10,000, 9एमएम पिस्टल खरीदने के लिए प्रस्ताव शासन को भेजा जा रहा है.

पहले विश्व युद्ध में मिली थी अलग पहचान

जानकारों के मुताबिक थ्री नॉट थ्री का 1914 में पहले विश्व युद्ध में इस्तेमाल हुआ था. इसकी मारक क्षमता लगभग 2 किलोमीटर थी. यूपी पुलिस के पास यह हथियार 1945 में आया. इससे पहले मस्कट राइफल 410 का प्रयोग होता था. इसके बाद 80 के दशक में पुलिस को एसएलआर पुलिस को मिली. बाद में एके-47, इंसास, एसएलआर का प्रयोग बढ़ा तो थ्री नॉट थ्री उस दौड़ से बाहर होती गई.

ये भी पढ़ें: CM योगी आज जाएंगी दिल्ली, अयोध्या के राम मंदिर ट्रस्ट समेत कई मुद्दों पर PM मोदी से करेंगे चर्चा

सीतापुर: ससुर ने विधवा बहू को कुल्‍हाड़ी से काटकर उतारा मौत के घाट

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज