लाइव टीवी

UPPCL में भ्रष्ट 80 इंजीनियरों पर कार्रवाई की तैयारी में योगी सरकार, विजिलेंस जांच शुरू

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 12, 2019, 12:21 PM IST
UPPCL में भ्रष्ट 80 इंजीनियरों पर कार्रवाई की तैयारी में योगी सरकार, विजिलेंस जांच शुरू
बिजली विभाग के अभियंताओं के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी

जिन 80 इंजीनियरों के खिलाफ विजिलेंस जांच शुरू हुई हैं उनमें से कई लखनऊ, नोएडा, इलाहाबाद, वाराणसी सहित कई शहरों में तैनात हैं, इन इंजीनियरों पर अवैध कमाई से संपत्ति अर्जित करने का आरोप है.

  • Share this:
लखनऊ. करोड़ों के पीएफ घोटाले (PF Scam) से जूझ रहे यूपी पॉवर कारपोरेशन (UPPCL) में अब भ्रष्टाचार (Corrupt) के खिलाफ मुहीम छेड़ने के लिए सूबे की योगी सरकार ने कमर कस ली है. सरकार यूपीपीसीएल में भ्रष्ट 80 इंजीनियरों (Engineers) के खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी में हैं. सरकार ने भ्रष्ट इंजीनियरों के खिलाफ विजिलेंस जांच (Vigilance Probe) शुरू कर दी है. जिन 80 इंजीनियरों के खिलाफ विजिलेंस जांच शुरू की गई है उन पर आय से अधिक संपत्ति और अकूत चल-अचल संपत्ति जमा करने का आरोप है.

बता दें उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने इस मामले में पहले ही जांच के आदेश दिए थे. अब शासन की तरफ से विजिलेंस को जांच सौंपकर रिपोर्ट मांगी गई है. रिपोर्ट के आधार पर आरोपी इंजीनियरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

इनके खिलाफ शुरू हुई विजिलेंस की जांच

जिन 80 इंजीनियरों के खिलाफ विजिलेंस जांच शुरू हुई हैं उनमें से कई लखनऊ, नोएडा, इलाहाबाद, वाराणसी सहित कई शहरों में तैनात हैं, इन इंजीनियरों पर अवैध कमाई से संपत्ति अर्जित करने का आरोप है. विजिलेंस की टीम ने दो चीफ इंजीनियर, सात अधीक्षण अभियंता, 15 अधिशासी अभियंता, 23 असिस्टेंट इंजीनियर और 35 कर्मचारियों के खिलाफ जांच शुरू की है.

पीएफ घोटाले में फर्जी शेयर ब्रोकिंग कंपनियों की जांच

सैकड़ों करोड़ के यूपी पॉवर कारपोरेशन (UPPCL) के पीएफ घोटाले (PF Scam) की अब तक हुई जांच में खुलासा हुआ है कि 14 शेयर ब्रोकर फर्मों (Share Broking Firms) के जरिए डीएचएफएल (DHFL) में कर्मचारियों के पीएफ (Provident Fund) की रक़म लगाई गई थी. इन 14 शेयर ब्रोकर फर्म में से 5 शेयर ब्रोकर फर्मों के एड्रेस फ़र्ज़ी निकले हैं. माना जा रहा है कि यूपीपीसीएल के पीएफ की रक़म डीएचएफएल में लगाने के लिए ही ज्यादातर शेयर ब्रोकर फर्म बनाई गई.

कई फार्मों के मालिक एक ही
Loading...

जांच में यह भी पता चला है कि कई फर्मों का मालिक एक ही व्यक्ति है. इन शेयर ब्रोकर फर्म के मालिकों के यूपीपीसीएल के अधिकारियों से संबंधों की जांच में ईओडब्लू लगी है. ऐसी ही एक शेयर ब्रोकर फर्म से गिरफ्तार आरोपी पीके गुप्ता के बेटे अभिनव के संबंधों की बात भी सामने आई है. फिलहाल अभिनव अभी फरार है. उसकी तलाश में ईओडब्लू लगी हुई है. इसी बीच ईओडब्ल्यू ने डीएचएफएल के तत्कालीन एरिया मैनेजर अमित प्रकाश से भी पूछताछ की है.

(इनपुट: अजीत प्रताप सिंह)

ये भी पढ़ें:

NSUI के विलाल अहमद ने DM को सौंपा 1100 रुपए का चेक, बोले- राम मंदिर में हमारे नाम की भी लगें चार ईंटें

जानिए पिछले 30 सालों से क्या है रामलला की दिनचर्या!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 12:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...