UP: कोरोना की तीसरी लहर से पहले योगी सरकार ने कसी कमर, 3T के बाद पीकू और नीकू फार्मूला

कोरोना की तीसरी लहर से पहले योगी सरकार ने कसी कमर (File photo)

कोरोना की तीसरी लहर से पहले योगी सरकार ने कसी कमर (File photo)

यूपी में लगातार 36वें दिन कोरोना (Corona) के मामलों में कमी आई है. पिछले 24 घंटे में सिर्फ 1,000 नए केस सामने आए है. अब प्रदेश में 20,000 से कम सक्रिय केस रह गए है.

  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के सीएम योगी (CM Yogi) के 3T यानी ‘ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट’ (Trace, Test And Treat) की नीति से प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की रोकथाम में बड़ी सफलता मिल रही है. कोरोना वायरस की थर्ड वेव से बच्चों में ज्यादा संक्रमण की आशंका है. वाराणसी में इसके लिए अस्पतालों में पीकू, नीकू व ऑक्सीजन युक्त बेड बनाए जा रहे हैं, साथ ही चिकित्सकीय उपकरण भी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया.

वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने जानकारी दी कि थर्ड वेव में बच्चो के संक्रमित होने की रिपोर्ट पर सरकार के निर्देश पर तैयारी की जा रही है. वाराणसी के प्रमुख सरकारी अस्पतालों जिसमें बीएचयू एमसीएच विंग, जिला महिला चिकित्सालय एमसीएच विंग, दीनदयाल अस्पताल एमसीएच विंग, बीएचयू सुपर स्पेशियलिटी, होमी भाभा कैंसर हॉस्पिटल, बरेका हॉस्पिटल, ईएसआईसी, लाल बहादुर शास्त्री रामनगर, पंडित राजन मिश्र डीआरडीओ हॉस्पिटल है. इसके अलावा प्राइवेट बच्चों के अस्पतालों को भी तैयार रहने का निर्देश दिया गया है.

UP सरकार ने अंतर्राज्यीय बसों की आवाजाही पर 15 जून तक बढ़ाई गई रोक

कमिश्नर के मुताबिक PICU (पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट), NICU (न्यूनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट) व ऑक्सीजन युक्त करीब 800 से अधिक बेड की सूची बनकर तैयार है. इसके अलावा ख़ास चिकित्सीय उपकरण की उपलब्धता भी सुनिश्चित किया जा रहा है. जिसमे वेंटीलेटर, एचएफएनसी, सी -पैप, बाई -पैप जैसे जीवन रक्षक उपकरणों है. कितने उपकरण की जरुरत पड़ेगी, कितने उपकरण मौज़ूदा समय में है व कितने उपकाण थर्ड वेव के वार में चाहिए इसकी भी तैयारी हो चुकी है.
24 घंटे में सिर्फ 1,000 नए केस

यूपी में लगातार 36वें दिन कोरोना के मामलों में कमी आई है. पिछले 24 घंटे में सिर्फ 1,000 नए केस सामने आए है. अब प्रदेश में 20,000 से कम सक्रिय केस रह गए है. सक्रिय केसों की कुल संख्या 19,431 रह गई है. जबकि 24 घंटे में कुल 3.09 लाख टेस्ट हुए हैं. 5 करोड़ से ज्यादा टेस्ट करने वाला यूपी अकेला राज्य है. उधर रिकवरी रेट 97.6 प्रतिशत है. अब पॉजिटिविटी रेट 0.3 प्रतिशत रह गई हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज