• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • श्रम कानून को लेकर पीछे हटी योगी सरकार, अब श्रमिक 12 नहीं बल्कि 8 घंटे ही करेंगे काम

श्रम कानून को लेकर पीछे हटी योगी सरकार, अब श्रमिक 12 नहीं बल्कि 8 घंटे ही करेंगे काम

सीएम योगी ने यूपी में जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया है.

सीएम योगी ने यूपी में जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया है.

उत्‍तर प्रदेश सरकार (UP Government) ने श्रम कानूनों (Labour laws) के तहत रजिस्टर्ड कारखानों को युवा श्रमिकों से कुछ शर्तों के साथ एक दिन में 12 घंटे तक काम कराने संबंधी छूट की अधिसूचना को हफ्ते भर बाद ही निरस्त कर दिया है.

  • Share this:
    लखनऊ. उत्‍तर प्रदेश सरकार (UP Government) ने श्रम कानूनों (Labour laws) के तहत रजिस्टर्ड कारखानों को युवा श्रमिकों से कुछ शर्तों के साथ एक दिन में 12 घंटे तक काम कराने संबंधी छूट की अधिसूचना को हफ्ते भर बाद ही निरस्त कर दिया है. साफ है कि योगी सरकार द्वारा फैक्ट्री ऐक्ट (Factory Act) में किए गए इस संशोधन की अधिसूचना को वापस लिए जाने के बाद प्रदेश में अब फिर श्रमिकों से काम कराने की अवधि अधिकतम आठ घंटे हो गई है. आपको बता दें कि कुछ दिन पहले यूपी सरकार की इस अधिसूचना को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दाखिल हुई थी, जिस पर 18 मई को अगली सुनवाई  होनी है.

    प्रमुख सचिव (श्रम) ने दी ये जानकारी
    संशोधन की अधिसूचना को खत्म किए जाने की जानकारी प्रमुख सचिव (श्रम) सुरेश चंद्रा ने शुक्रवार को पत्र के जरिए इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य स्थायी अधिवक्ता को दे दी है. पत्र के अनुसार 8 मई को श्रम कानूनों को लेकर जारी अधिसूचना को 15 मई 20 को निरस्त कर दिया गया है.

    अब एक दिन में 8 घंटे ही काम करना होगा
    8 मई को उत्‍तर प्रदेश के श्रम विभाग की ओर से जारी अधिसूचना में रजिस्टर्ड कारखानों में श्रमिकों के काम करने के घंटे बढ़ाए गए थे. इस अधिसूचना के मुताबिक कारखाने में युवा श्रमिक से एक दिन में अधिकतम 12 घंटे और एक हफ्ते में 72 घंटे से अधिक काम नहीं लिया जाएगा. हालांकि इसके निरस्त किए जाने के बाद अब एक दिन में अधिकतम आठ घंटे और एक हफ्ते में 48 घंटे काम कराने का पुराना नियम फिर प्रभावी हो गया.

    नए श्रम कानून का भारतीय मजदूर संघ ने भी किया था विरोध
    आरएसएस के भारतीय मजदूर संघ ने नए श्रम कानून को मजदूर विरोधी बताया था. जबकि संगठन के प्रवक्ता ने कहा था कि अंतरराष्ट्रीय अधिकारों का उल्लंघन है और इस फैसले को तुरंत वापस लेना चाहिए. साथ ही संगठन ने इस फैसले के खिलाफ प्रदर्शन करने की धमकी दी थी. आपको बता दें कि कोरोना संकट की वजह से ठप पड़े कारोबार को गति देने के नाम पर यूपी में औद्योगिक इकाइयों, प्रतिष्ठानों और कारखानों को एक हजार दिन (यानी तीन साल) के लिए श्रम कानूनों में छूट दे दी है. हालांकि मजदूर संगठन इसका जमकर विरोध कर रहे हैं.

    ये भी पढ़ें

    RJ नहीं बन सका तो पकड़ी अपराध की राह, किया ये काम...

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज