Assembly Banner 2021

कोरोना पर कंट्रोल के लिए योगी सरकार ने बनाई विशेष रणनीति, आज से फोकस वैक्सीनेशन, जानें कब और कैसे लगेगा टीका

आज से वर्क प्लेस पर शुरू होगा टीकाकरण (सांकेतिक तस्वीर)

आज से वर्क प्लेस पर शुरू होगा टीकाकरण (सांकेतिक तस्वीर)

COVID-19 Vaccination in UP: 8-9 अप्रैल को 45 वर्ष से ऊपर के मीडियाकर्मियों का वैक्सीनेशन उनके ऑफिस में होगा. 45 साल से ऊपर प्रतिष्ठानों के संचालक, दुकानदारों का भी टीकाकरण होगा. 10 अप्रैल को बैंक-इंश्योरेंस कर्मचारियों का टीकाकरण किया जाएगा. 23 अप्रैल तक विशेष अभियान.

  • Share this:
लखनऊ. तेजी से फ़ैल रहे कोरोना संक्रमण पर पर कंट्रोल के लिए सूबे की योगी सरकार ने विशेष रणनीति तैयार की है. गुरुवार से फोकस कोविड वैक्सीनेशन कराने का फैसला लिया गया है. इसके तहत आज से 23 अप्रैल तक विशेष अभियान चलेगा, जिसमें अब कार्यस्थलों पर भी टीका अभियान चलाया जाएगा. हालांकि किसी भी संस्थान में 45 साल या अधिक उम्र के 100 कर्मियों का होना अनिवार्य होगा.

8 अप्रैल और 9 अप्रैल को 45 वर्ष से ऊपर के मीडियाकर्मियों का वैक्सिनेशन उनके ऑफिस पर ही होगा. 45 साल से ऊपर प्रतिष्ठानों के संचालक, दुकानदारों का भी टीकाकरण होगा. 10 अप्रैल को 45 से ऊपर बैंक- इंश्योरेंस कर्मचारियों का टीकाकरण जाएगा. 12 से 14 अप्रैल तक स्कूल-कॉलेजों के शिक्षकों का टीकाकरण होगा. 15-16 अप्रैल को ऑटो रिक्शा चालकों , रेहड़ी दुकानदारों को लगेगा टीका. 20 अप्रैल को वकीलों और 22-23 अप्रैल को प्राइवेट कर्मियों का टीकाकरण किया जाएगा.

Youtube Video




टास्ट फोर्स को कार्यस्थलों के चयन की जिम्मेदारी
कार्यस्थलों का चयन करने की जिम्मेदारी जिला टास्क फोर्स को सौंपी गई है. चयन के बाद इनके नाम इत्यादि का विवरण कोविन वेबसाइट पर डाला जाएगा. गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं. इसी क्रम में अब फोकस्ड कोविड वैक्सीनेशन कराने का फैसला लिया गया है, ताकि संक्रमण पर लगाम लगाया जा सके.

यूपी में भयावह हो रही स्थिति
उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर भयावह होती जा रही है. अगर पिछले 24 घंटों की बात करें तो प्रदेश में 6023 नए मरीज मिले, जबकि 40 लोगों की मौत संक्रमण की वजह से हुई. राजधानी लखनऊ में तो एक दिन में नए मामले सामने आने का रिकॉर्ड ही टूट गया. बुधवार को राजधानी में 1333 नए संक्रमित मरीज मिले. जबकि 6 लोगों ने संक्रमण की वजह से दम तोड़ दिया. इससे पहले 18 सितंबर को राजधानी में 1244 मरीज मिले थे. कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मुख्यमंत्री ने बुधवार को समीक्षा बैठक की और उन जिलों के डीएम को विशेष अधिकार दिए जहां एक दिन में 500 से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं. लखनऊ, कानपुर और वाराणसी में एक सफ्ताह के लिए नाईट कर्फ्यू लगा दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज