लाइव टीवी

UP Budget 2020: अपने चौथे बजट में युवाओं, महिलाओं और किसानों पर फोकस करेगी योगी सरकार
Lucknow News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 18, 2020, 9:02 AM IST
UP Budget 2020: अपने चौथे बजट में युवाओं, महिलाओं और किसानों पर फोकस करेगी योगी सरकार
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

18 फरवरी 2020 को पेश होने वाले आम बजट को लेकर सभी का ध्यान वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना के ब्रीफकेस पर रहेगा.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) का आम बजट (Budget) मंगलवार को विधानसभा में पेश हो रहा है. योगी सरकार के चौथे बजट में महिलाओं, युवाओं और किसानों पर फोकस रहने की उम्मीद है. बजट में एक्सप्रेसवे (Expressway) पर भी सरकार का खास ध्यान होगा. यूपी में 4 एक्सप्रेसवे के काम को रफ्तार देने की तैयारी है. इस बजट में डिफेंस कॉरिडोर को भी खास तवज्जो मिल सकती है. पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे व गंगा एक्सप्रेस वे के लिए 10 हज़ार करोड़ रुपये दिए जा सकते हैं. यूपीडा ने सबसे ज़्यादा 5 हजार करोड़ गंगा एक्सप्रेसवे के लिए मांगे हैं.

शराब तस्करी रोकने के लिए हो सकता है प्रावधान


दूसरे राज्यों से शराब की तस्करी रोकने के लिए भी बजट में ख़ास इंतजाम हो सकते हैं. आबकारी विभाग की ट्रेक एंड ट्रेस सिस्टम के लिए बजट में खास व्यवस्था हो सकती है. गोरखपुर, मेरठ, प्रयागराज, वाराणसी में मोनोरेल प्रोजेक्ट के लिए बजट में खास इंतेज़ाम हो सकता है. बुंदेलखंड में "हर घर जल योजना" पर भी जोर दिया जा सकता है. अटल आवासीय विद्यालय के लिए भी धन की व्यवस्था हो सकती है. कृषि के लिए भी बजट में विशेष प्रावधान होने की उम्मीद है.



5.5 लाख करोड़ का हो सकता है बजट

18 फरवरी 2020 को पेश होने वाले आम बजट को लेकर सभी का ध्यान वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना के ब्रीफकेस पर रहेगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली सरकार में इस साल चौथा बजट विधान सभा के पटल पर सुबह 11.00 बजे पर पेश होगा. उत्तर प्रदेश का पिछला बजट 4.79 लाख करोड़ रुपए का था. इस बार उम्मीद की जा रही है कि पहली बार उत्तर प्रदेश का बजट 5 लाख करोड़ का आंकड़ा भी पार कर जाएगा. प्रदेश सरकार वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए जिस तरह तैयारी कर रही है उससे लग रहा है कि इस बार का बजट 5.5 लाख करोड़ का हो सकता है. बजट 2020 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का सारा जोर चालू योजना को उचित पैसा देना रहेगा साथ ही समय-समय पर मुख्यमंत्री और मंत्रियों की ओर से जो भी घोषणाएं हुई है उनको तय समय सीमा में पूरा करने के लिए आवश्यक धन उपलब्ध कराने पर होगा.

अयोध्या पर भी फोकस

धार्मिक नगरी अयोध्या में भगवान श्रीराम की दुनिया में सबसे ऊंची मूर्ति स्थापित करने के लिए आसपास के क्षेत्रों को पर्यटन के रूप में विकसित किया जा सकता है. प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक एक पर्यटन स्थल के विकास के लिए 50-50 लाख रुपए खर्च करने की भी योजना बन रही है. मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना में करीब 10 करोड़ किसानों के लिए दुर्घटना में मृत्यु या घायल होने पर 50 हज़ार का मुआवजा या मदद बजट में बड़ा आकर्षण हो सकती है.

केन्द्रीय बजट में सूबे का हुआ नुकसान

केंद्रीय बजट से उत्तर प्रदेश राज्य को नुकसान हुआ है. 15वें वित्त आयोग की संस्तुति पर प्रदेश को केंद्रीय करों में मिलने वाली हिस्सेदारी घट गई है. 14वें वित्त आयोग की संस्तुति के अनुसार यूपी को राज्यों में वितरित की जाने वाली कुल राशि का 17.959% हिस्सा मिला था, जो 15वें वित्त आयोग की संस्तुति से 17.931% ही मिलेगा. इसमें 0.028% की गिरावट आई है.

ये भी पढ़ें:

आगरा एक्सप्रेसवे पर भीषण सड़क हादसा, कार और रोडवेज बस की टक्कर में 6 की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2020, 9:02 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर