मंत्री को अजान से दिक्कत नहीं, बल्कि वो हिन्दू-मुसलमानों में घोल रहे जहर- यासूब अब्बास

शिया धर्म गुरु और ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना यासूब अब्बास ने लाउडस्पीकर से अजान को लेकर उठे विरोध पर बयान दिया है.

शिया धर्म गुरु और ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना यासूब अब्बास ने लाउडस्पीकर से अजान को लेकर उठे विरोध पर बयान दिया है.

Lucknow News: शिया धर्म गुरु मौलाना यासूब अब्बास कहा कि वह सीएम योगी आदित्यनाथ से मांग करते हैं कि सरकारी पदों पर बैठे लोग अजान को लेकर जिस तरह से एतराज कर रहे हैं, यह हिंदू-मुस्लिमों को लड़ाने की एक कोशिश है.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में इन दिनों मस्जिदों (Mosque) से लाउडस्पीकरों (Loudspeaker) की अजान (Azan) पर रह-रह कर विवाद पैदा हो रहा है. पहले इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर संगीता श्रीवास्तव ने इसे लेकर डीएम से शिकायत की, जिसके बाद मामला चर्चा में बना रहा. अब बलिया से यूपी सरकार में राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला (Anand Swaroop Shukla) ने अपने विधानसभा क्षेत्र में मस्जिद से लाउडस्पीकरों को हटाने की मांग को लेकर डीएम को पत्र लिख दिया है. राज्य मंत्री ने पत्र लिखा था लिहाजा पुलिस फौरन हरकत में आ गई. इस पूरे मामले में शिया धर्म गुरु और ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना यासूब अब्बास ने अफसोस जाहिर करते हुए सरकार से मांग की है कि इस तरह के लोगों पर लगाम लगाई जाए, जो देश में हिंदू और मुसलमानों के बीच नफरत को बढ़ावा दे रहे हैं.

असल में राज्य मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने पत्र लिखकर जिलाधिकारी को बताया कि उनके गृह जनपद बलिया में स्थित मस्जिदों में नमाज के दौरान अजान और दिन भर लाउडस्पीकर के माध्यम से धार्मिक प्रचार-प्रसार और विभिन्न प्रकार की सूचनाओं को अत्यधिक तेज आवाज में प्रसारित किया जाता है. इससे छात्र-छात्राओं के पठन-पाठन में दिक्कतें आती हैं. साथ ही बच्चों, बूढ़ों और बीमार लोगों के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है. जिस वजह से जन-सामान्य को अधिक ध्वनि प्रदूषण का सामना करना पड़ रहा है, इसलिए मस्जिद से लाउडस्पीकर को हटाया जाए.

सीएम योगी से कार्रवाई की मांग

राज्य मंत्री के पत्र लिखे जाने के बाद ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष और शिया धर्मगुरु मौलाना यासूब अब्बास ने कहा कि यह बड़े अफसोस की बात है कि उत्तर प्रदेश सरकार के एक मंत्री ने अजान को लेकर एतराज किया है. हम इसकी निंदा करते हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग करते हैं कि सरकारी पदों पर बैठे हुए लोग अजान को लेकर जिस तरह से एतराज कर रहे हैं, यह हिंदू-मुस्लिमों को लड़ाने की एक कोशिश है. ऐसे लोगों पर लगाम लगाई जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान गंगा-जमुनी तहजीब का देश है. यहां मंदिरों में घण्टे और भजन-कीर्तन से जब मुसलमानों को ऐतराज़ नहीं होता तो हिंदू भाइयों को भी मस्जिदों में अजान को लेकर कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए. यह कुछ लोगों की सोची-समझी साजिश है, जिससे वह चाहते हैं कि हिंदू मुसलमानों के बीच एक लकीर खींची जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज