तीन तलाक बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड: जफरयाब जिलानी

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्लनल लॉ बोर्ड के सदस्य जफरयाब जीलानी ने कहा कि बिल की खामियों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जाएगी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 31, 2019, 10:40 AM IST
तीन तलाक बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड: जफरयाब जिलानी
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्लनल लॉ बोर्ड ने ट्वीट कर इसे भारतीय लोकतंत्र का काला दिन बताया.
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 31, 2019, 10:40 AM IST
मुस्लिम महिलाओं को तत्काल तीन तलाक से आजादी दिलाने वाले बिल के संसद के दोनों सदनों से पारित होने के बाद जहां सरकार इसे ऐतिहासिक बता रही है, वहीं मुस्लिम समाज का एक हिस्सा इसके खिलाफ खड़ा नजर आ रहा है. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्लनल लॉ बोर्ड ने इस बिल को मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ बताते हुए सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की बात कही है.

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्लनल लॉ बोर्ड के सदस्य जफरयाब जीलानी ने कहा कि बिल की खामियों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जाएगी. जफरयाब जिलानी के मुताबिक जल्द ही ऑल इंडिया मुस्लिम पर्लनल लॉ बोर्ड की लीगल कमेटी की एक बैठक होगी. जिसमें बिल की कानूनी खामियों का अध्ययन कर सुप्रीम कोर्ट जाएंगे. जीलानी ने सबसे ज्यादा एतराज पति को जेल भेजने के प्रावधान पर जताया है. उन्होंने कहा कि किसी भी सूरत में इसे उचित नहीं ठहराया जा सकता. उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में तलाकशुदा पत्नी के बच्चों की परवरिश आखिर कौन करेगा?

AIMPLB member zafaryab jilani, triple talaq
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्लनल लॉ बोर्ड के सदस्य जफरयाब जीलानी


AIMPLB ने बताया लोकतंत्र का काला दिन

उधर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्लनल लॉ बोर्ड ने ट्वीट कर इसे भारतीय लोकतंत्र का काला दिन बताया. बोर्ड ने लिखा, 'निश्चित रूप से यह भारतीय लोकतंत्र का काला दिन है. मुस्लिम महिलाओं के विरोध के बावजूद मोदी की नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने इसे संसद के दोनों सदनों से पास करवाया. लाखों मुस्लिम महिओं की तरफ से हम इस बिल की निंदा करते हैं.'

आपको बता दें कि राज्यसभा में बिल के पक्ष में 99 और विपक्ष में सिर्फ 84 वोट पड़े. राज्यसभा में बिल को सेलेक्ट कमेटी में भेजने का प्रस्ताव भी गिर गया. प्रस्ताव के पक्ष में 84 जबकि विपक्ष में 100 वोट पड़े. तलाक बिल 26 जुलाई को लोकसभा के इसी सत्र में पहले ही पास हो चुका है. अब राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के साथ ही यह बिल कानून में तब्दील हो जाएगा.

ये भी पढ़ें: तीन तलाक: 'कानून नहीं मुस्लिम महिलाओं को ताकत दी है पीएम मोदी ने'
Loading...

कड़ी सुरक्षा के बीच रेप पीड़िता के चाचा उन्नाव रवाना, पत्नी के अंतिम संस्कार में होंगे शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 31, 2019, 8:31 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...