• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • मुसलमानों की पहली पसंद था गठबंधन, सपा ने 4, बसपा ने 6 मुस्लिमों को दिए थे टिकट

मुसलमानों की पहली पसंद था गठबंधन, सपा ने 4, बसपा ने 6 मुस्लिमों को दिए थे टिकट

फाइल फोटो

एसपी-बीएसपी गठबंधन ने लोकसभा चुनाव में 10 मुस्लिमों को टिकट दिए गए, इनमें से 5 पश्चिम यूपी से जीते जबकि पूर्वांचल से 1 मुस्लिम प्रत्याशी को जीत नसीब हुई. इस लिहाज से गठबंधन में सफलता की दर सबसे ज्यादा मुस्लिम उम्मीदवारों की रही.

  • Share this:
    लोकसभा चुनाव मिलकर लड़ने वाली बीएसपी और एसपी के बीच गठबंधन टूटने के बाद खटास बढ़ता जा रहा है. रविवार को बीएसपी की जोनल कोऑर्डिनेटरों और सांसदों की मीटिंग में मायावती ने अखिलेश यादव पर जमकर निशाना साधा. मायावती ने अखिलेश को लोकसभा चुनाव में हार के लिए जिम्मेदार ठहरा दिया है. मायावती ने कहा कि अखिलेश ने मुझे ज्यादा मुसलमानों को टिकट देने से मना किया था, उन्होंने मुझसे कहा था कि इससे ध्रुवीकरण होगा, और बीजेपी को फायदा हो जाएगा.

    हालांकि पिछले महीने संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ सपा-बसपा-रालोद गठबंधन मुसलामानों की पहली पसंद था.

    2014 के लोकसभा चुनाव में कोई भी मुस्लिम प्रत्याशी नहीं जीता

    लोकसभा चुनाव में सपा ने 4 तो बसपा ने 6 मुस्लिम उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था. दोनों ही दलों की तरफ से 10 मुस्लिम उम्मीदवार मैदान में थे और उनका स्ट्राइक रेट भी 60 फीसदी रहा. सपा और बसपा के 3-3 मुस्लिम प्रत्याशी जीतकर लोकसभा पहुंचे हैं.

    बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में यूपी से कोई भी मुस्लिम प्रत्याशी संसद नहीं पहुंचा था. हालांकि 2018 में हुए कैराना उपचुनाव में गठबंधन की तरफ से आरएलडी प्रत्याशी तबस्सुम हसन सांसद चुनी गई थीं.

    इस बार सपा-बसपा ने इस सीट से उतारे थे मुस्लिम प्रत्याशी

    इस बार लोकसभा चुनाव में सपा ने मुस्लिम बहुल 4 सीटों कैराना, मुरादाबाद, संभल और रामपुर से मुस्लिमों को टिकट दिया था. इनमें से कैराना छोड़कर सपा सभी 3 सीटें जीत गई. मुरादाबाद से डॉ. एसटी हसन, रामपुर से आजम खान और संभल से डॉ. शफीकुर्रहमान वर्क को जीत हासिल हुई. वहीं बसपा ने सहारनपुर, मेरठ, अमरोहा, धरौहरा, डुमरियागंज और गाजीपुर से मुस्लिम प्रत्याशी मैदान में उतारे थे. इनमें से सहारनपुर से फजलुर्रहमान अमरोहा से डेनिश अली और गाजीपुर से अफजाल अंसारी को जीत मिली.

    सबसे ज्यादा सफलता की दर मुस्लिमों की

    इस लिहाज से देखें तो 10 मुस्लिमों को टिकट दिए गए, जिसमें से 5 पश्चिम यूपी से जीते जबकि पूर्वांचल से 1 मुस्लिम प्रत्याशी को जीत नसीब हुई. इस लिहाज से गठबंधन में सफलता की दर सबसे ज्यादा मुस्लिम उम्मीदवारों की रही.

    ये भी पढ़ें: 

    आखिर मायावती क्यों कर रही है आनंद और आकाश पर भरोसा!

    सपा-बसपा और कांग्रेस 'परिवारवादी' पार्टियां: डिप्टी CM मौर्य

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज