होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

तो बेर-केर, सांप नेवला, शूर्पणखा ले डूबे बीजेपी को?

तो बेर-केर, सांप नेवला, शूर्पणखा ले डूबे बीजेपी को?

कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी

कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी

सपा मुखिया अखिलेश यादव ने चुनाव प्रचार के दौरान इन बयानों को हथियार बनाया. अखिलेश ने कहा कि सपा और बसपा के लिए कहा गया कि सांप और छछूंदर का गठबंधन हुआ है. चोर-चोर मौसेरे भाई सहित न जाने क्या-क्या नहीं कहा गया?

    उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी को शिकस्त का सामना करना पड़ा है. इस हार के बाद पार्टी इसकी समीक्षा की बात कह रही है. हार की वजहों में नेताओं की बयानबाजी का भी योगदान माना जा रहा है. यह देखने वाली बात होगी कि पार्टी इन बयान​बाजियों पर कितना विचार करेगी.  चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने सपा और बसपा के गठबंधन पर जमकर हमले किए. इस दौरान कई बार मर्यादाओं को भी ताक पर रख दिया गया.

    राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि इन बयानों का लाभ समाजवादी पार्टी को खूब मिला. खुद सपा मुखिया अखिलेश यादव ने चुनाव प्रचार के दौरान इन बयानों को हथियार बनाया. जीत के बाद अखिलेश ने कहा कि सपा और बसपा के लिए कहा गया कि सांप और छछूंदर का गठबंधन हुआ है. चोर-चोर मौसेरे भाई सहित न जाने क्या-क्या नहीं कहा गया? आखिर में समाजवादी पार्टी को औरंगजेब की पार्टी ही कह दिया गया. अखिलेश ने कहा ​कि मुझे खुशी है कि गरीब, नौजवानों, किसानों ने इसका जवाब दिया है. उन्होंने कहा कि ये कहीं न कहीं सामाजिक न्याय की जीत भी है. अखिलेश ने कहा कि आबादी में जो ज्यादा हों, मेहनत करने वाले हों. उन्हीं को कीड़े-मकौड़े कह दिया गया.

    दरअसल बसपा ने जब सपा प्रत्याशी को समर्थन का ऐलान किया तो सीएम योगी आदित्यनाथ बेफिक्र नजर आए. उन्होंने कहा​ कि सपा और बसपा की दोस्ती बेर केर (दुर्जन और सज्जन) का संग है. इसी दौरान बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेई ने सपा और बसपा को सांप और नेवला बताया है. लक्ष्मीकांत बाजपेई ने कहा कि बीजेपी की बाढ़ में दुश्मन भी एक हो गया है. उन्होंने कहा कि उपचुनाव में बीजेपी अपने काम को लेकर जनता के बीच जा रही है. सपा और बसपा की कारगुजारियों को जनता का समर्थन नहीं मिलेगा.

    बात यही नहीं रुकी गोरखपुर में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच गठबंधन पर कहा कि जब तूफान आता है तो सांप और छछूंदर सब एक हो जाते हैं. सपा-बसपा के गठबंधन को अपराध और भ्रष्टाचार का गठबंधन बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इसी वजह से जनता ने दोनों को सजा दी.

    इसके बाद कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने इलाहाबाद में एक चुनावी जनसभा के दौरान सपा और बसपा नेताओं की तुलना रामायण के किरदारों से की. इस चुनावी जनसभा में मंच पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे. नंदी ने अपने भाषण में मायावती को शूर्पणखा और मुलायम सिंह यादव को रावण बताया था. मंत्री जी यहीं नहीं रूके, उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को मारीच बताया. मामला सामने आने के बाद विपक्ष मंत्री के इस विवादित बयान पर हमलावर को हो गया. बाद में नंदी ने इस बयान पर माफी मांग ली. लेकिन चुनाव में उनका ये बयान काफी चर्चा में रहा.

    इसके अलावा इलाहाबाद में चुनावी सभा के दौरान डिप्टी सीएम बाहुबली निर्दलीय प्रत्याशी अतीक अहमद को आतंक का पर्याय बताते हुए कहा, “हाथी के साइकिल पर सवार होने से साइकिल चकनाचूर हो गई है. अखिलेश चाहे अतीक को भी साइकिल पर बैठा लें, कमल ही खिलेगा. इस उपचुनाव में सौ में से 60 हमारा है. बाकी में बंटवारा है. कमल का फूल विकास और सुशासन का प्रतीक है. बुआ-भतीजा ने यूपी को 14 साल में गर्त में ले जाने का काम किया.”

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: BJP, लखनऊ

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर