'अमन' का राज खुलने पर शकिब ने ली युवती की जान, कुत्ते के मुंह में दबे हाथ के टुकड़े ने किया चौंकाने वाला खुलासा
Chandigarh-Punjab News in Hindi

'अमन' का राज खुलने पर शकिब ने ली युवती की जान, कुत्ते के मुंह में दबे हाथ के टुकड़े ने किया चौंकाने वाला खुलासा

पिछली ईद पर युवती को पता चला कि जिस अमन (Aman) के प्‍यार पर भरोसा करके वह घर से भागी थी, उसका असली नाम शाकिब (Shakib) है.

  • Share this:
मेरठ. लोइया गांव के खेत से छत-विछित हालत में मिले शव (Dead body) की शिनाख्‍त कर मेरठ पुलिस (Meerut Police) ने हत्‍या (Murder) की गुत्‍थी को एक साल की जद्दोजहद के बाद सुलझा लिया है. पुलिस में मृतका की पहचान लुधियाना (Ludhiana) मूल की युवती के रूप में की है. बी.कॉम की पढ़ाई कर रही यह छात्रा करीब एक साल पहले घर से करीब 25 लाख रुपए की ज्‍वैलरी लेकर अमन नामक एक युवक के साथ फरार हो गई थी. बीते साल, युवती को पता चला कि जिस अमन के प्‍यार पर भरोसा करके वह घर से भागी थी, वह असल में शाकिब था. वहीं भांडा फूटते ही शाकिब ने युवती की हत्‍या कर शव को खेत में दबा दिया. पुलिस का मानना है कि इस हत्‍या में शाकिब के साथ कुछ अन्‍य लोग भी शामिल हैं. इसी आशंका के तहत, पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है, जिनसे लगातार पूछताछ की जा रही है.

खेत से मिला था बिना हाथ और सिर का शव
मेरठ के वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक अजय सहानी के अनुसार, 13 जून 2019 को लोइया गांव में रहने वाले ईश्‍वर पंडित नामक शख्‍स ने एक कुत्‍ते को एक इंसानी हाथ मुंह में दबाकर भागते हुए देखा. ईश्‍वर पंडित ने इस कुत्‍ते को सबी अहमद नामक शख्‍स के खेत से आते हुए देखा था. मामले की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने गन्‍ने के खेत की खुदाई करवाई. खुदाई के दौरान, खेत से बिना सिर और हाथ वाला युवती का शव बरामद किया. मेरठ पुलिस की तमाम कोशिशों के बावजूद शव की शिनाख्‍त नहीं हो सकी. जिसके बाद, पुलिस ने शव को पोस्‍टमार्टम के लिए भेजकर अज्ञात के खिलाफ हत्‍या का मुकदमा दर्ज कर लिया. मामले की गंभीरता को देखते हुए मेरठ एसएसपी अजय कुमार सहानी ने स्‍पेशल टीम का गठन कर दिया. यह टीम पिछले एक साल से लगातार इस मामले की गुत्‍थी सुलझाने में जुटी हुई थी.

यूं हुआ हत्‍या के इस मामले का खुलासा



शव की शिनाख्‍त पूरी करने के लिए पुलिस ने डिस्ट्रिक क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो और स्टेट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो में दर्ज लापता युवतियों के बारे में सूचना एकत्र करना शुरू किया. लेकिन, ब्‍यूरो से मिला भी तथ्‍य शव से मेल नहीं खाता था. इसके बाद, पुलिस ने यह पता लगाना शुरू किया कि इस गांव के कौन-कौन से लोग दूसरे राज्‍यों में काम करते हैं. पुलिस की पड़ताल में जिन-जिन शहरों के नाम आए, उन-उन शहरों की पुलिस से संपर्क कर मिसिंग रिपोर्ट खंगाली गई. आखिरकार, लुधियाना पहुंची मेरठ पुलिस टीम के हाथ सफलता लग गई. पुलिस को पता चला कि लुधियाना के मोतीनगर इलाके में रहने वाली 23 वर्षीय युवती बीते साल लापता हुई थी. जांच के दौरान, युवती की फोटो और मेरठ से मिले शव का काफी हद तक मिलान कर लिया गया.


लुधियाना में लुधियाना में नौकरी करता था साकिब
मेरठ के वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक अजय सहानी ने बताया कि मेरठ के लोइया गांव का रहने वाला शाकिब लुधियाना शहर में काम करता था. वहां उसने खुद को हिंदू और अपना नाम अमन बता रखा था. जांच में पता चला कि उसने बी.कॉम की पढ़ाई कर रही 23 वर्षीय युवती को अपने प्‍यार के जाल में फंसाया और उसे घर से भागने के लिए राजी कर लिया. शाकिब की साजिश में फंस चुकी युवती घर से करीब 25 लाख रुपए की ज्‍वैलरी लेकर शाकिब के पास आ गई. जिसके बाद, दोनों करीब एक महीने तक दरौलगा में किराए के मकान में रहे. पिछले साल ईद पर शाकिब युवती को लेकर अपने गांव लोइया पहुंचा. लोइया पहुंचने के बाद युवती को पता चला कि जिसे वह अमन समझती थी, वह असल में शाकिब है. जिसके बाद, दोनों के बीच झगड़ा हो गया.


युवती की हत्‍या कर शव के कर दिए टुकड़े-टुकड़े
पूछताछ के दौरान, शाकिब ने पुलिस को बताया कि झगड़े के बाद उसने युवती को किसी तरह मनाया और घुमाने के बहाने उसे घर से बाहर ले आया. जिसके बाद, उसने कोल्‍ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर युवती को पिला दिया. युवती के बेहोश होते ही, वह उसे खेत में लेकर गया और वहां उसने युवती की गर्दन काट कर हत्‍या कर दी. हत्‍या करने के बाद, शव के टुकड़े-टुकड़े कर खेत में दफना दिया.


 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading