कालाबाजारी के खिलाफ एक्शन शुरू, महाराजगंज में बंद पड़ी मिल से 1000 बोरी गेहूं, 500 बोरी चावल बरामद

महाराजगंज में प्रशासन और पुलिस की टीम ने करीब 1500 बोरी खाद्यान्न बरामद किया है.
महाराजगंज में प्रशासन और पुलिस की टीम ने करीब 1500 बोरी खाद्यान्न बरामद किया है.

महाराजगंज (Maharajganj) में पुलिस और प्रशासन की टीम ने छापा मारकर बंद पड़ी मिल से 1500 बोरी खाद्यान्न बरामद किया है. मामला महराजगंज कोतवाली थानाक्षेत्र के भागाटार गांव का है. मिल को सील कर दिया गया है. एसडीएम निचलौल ने बंद पड़ी मिल से करीब 1000 बोरी गेहूं और 500 बोरी चावल बरामद किए हैं.

  • Share this:
महाराजगंज. कोरोना वायरस (COVID-19) के चलते उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन (Lockdown) है. सिर्फ जरूरी सामानों को ही बेचने की परमीशन दी गई है. उधर प्रदेश में कई जगह से कालाबाजारी और सामान की बेतहाशा कीमतें बढ़ने की सूचनाएं आ रही हैं. इन सूचनाओं का खुद सीएम योगी ने संज्ञान लिया है. उन्होंने कालाबाजारी और दाम बढ़ाकर बेचने वाले लोगों के खिलाफ एक्शन लेने का फरमान जारी किया हैं. यही नहीं सीएम योगी ने कहा है कि जरूरत पड़ने पर ऐसे लोगों के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई भी हो सकती है.

उधर सीएम योगी के फरमान के बाद उत्तर प्रदेश में कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है. महाराजगंज (Maharajganj) में पुलिस और प्रशासन की टीम ने छापा मारकर बंद पड़ी मिल से 1500 बोरी खाद्यान्न बरामद किया है. मामला महराजगंज कोतवाली थानाक्षेत्र के भागाटार गांव का है. पुलिस ने मिल को सील कर दिया है. एसडीएम निचलौल ने बंद पड़ी मिल से करीब 1000 बोरी गेहूं और 500 बोरी चावल बरामद किए हैं. एसडीएम निचलौल ने बरामद माल को सीज कर दिया है.

यही नहीं मिल में एफसीआई के सरकारी बोरे भी बरामद हुए हैं. यहां भारी मात्रा में यूपी सरकार लिखे खाली बोरे भी बरामद किए गए हैं. पता चला कि पुरानी बंद पड़ी मिल में भारी मात्रा में सरकारी खाद्यान्न का कालाबाजारी कर डंप किया गया था.



ये भी पढ़ें:
Lockdown: कोरोना के खिलाफ जंग में सीएम योगी ने उतारीं ये 11 प्रमुख टीमें, जानिए किसे मिली क्या जिम्मेदारी?

COVID-19: बारिश के बाद तीन गुना तक बढ़ी शहरों में ह्यूमिडिटी, चिंता में वैज्ञानिक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज