UP Panchayat Chunav 2021: आरक्षण बदलने से बढ़ी नेताओं की टेंशन, जानें महराजगंज का हाल

यूपी पंचायत चुनाव में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गाइडलाइन

यूपी पंचायत चुनाव में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गाइडलाइन

इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के आदेश के बाद फिर से यूपी पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election) की आरक्षण सूची जारी की गई है. नई व्‍यवस्‍था की वजह से कई जगह सीटें बदल गई हैं.

  • Share this:
आशीष कुमार शुक्ल

महराजगंज. उत्‍तर प्रदेश के महराजगंज जनपद में पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election) के आरक्षण फार्मूले को लेकर जारी खींचतान अब समाप्ति के कगार पर है. आरक्षण व्यवस्था (Reservation System) बदलने के बाद मतदाताओं और प्रत्यशियों में ऊहापोह की स्थिति के बीच जहां बेगाने अपने, तो अपने बेगाने हो गए हैं. दरअसल 2 मार्च को जारी आरक्षण में जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायत, ग्राम पंचायत और सदस्यों के चुनाव को लेकर 1995 को आधार बनाकर आरक्षण तय किया गया था. इसके बाद प्रत्याशी अपनी सुविधा और जीत को निश्चित करने के लिए गुणा गणित लगाकर मतदाताओं को अपना बनाने में लग गए थे. ग्राम प्रधान बनने वाले क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत पद के लिए कूद पड़े थे. इस दावेदारी से सभी पराये अपने हो गए थे. हालांकि इस बदलाव से किसी को सहानुभूति तो कहीं-कहीं जोरदार टशन देखने को मिल रहा है.

अब इलाहाबाद हाईकोर्ट के यूपी पंचायत चुनाव के आरक्षण में बदलाव कर वर्ष 2015 को आधार बनाकर आरक्षण निर्धारित करने के आदेश के बाद पुनः 21 मार्च को डीपीआरओ कार्यालय से नई सूची जारी कर दी है. पुरानी आरक्षण व्यवस्था और नई आरक्षण ने अचानक अपने को बेगाना तो बेगाने को अपना बना दिया. हर कोई अब अपने हिसाब से चुनाव लड़ने की तैयारी शुरू कर रहा है. यही नहीं, जिन क्षेत्रों में लोगों को प्रधान की सीट आरक्षण की नहीं मिली तो जिला पंचायत और क्षेत्र पंचायत में कूद पड़े हैं. वहीं, तमाम लोग जिला पंचायत के आरक्षण में बदलाव होने के बाद प्रधानी और क्षेत्र पंचायत के लिए उतर गए हैं. अचानक प्रत्याशियों के बदलने से मतदाता भी असमंजस और हैरानी में पड़ गए कि ये नेता किस तरह रंग बदल रहे हैं.

ये है जनपद की आरक्षण व्यवस्था
इस बार आरक्षण में बदलाव के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष का पद सामान्य है, तो 47 जिला पंचायत सदस्‍यों की 21 सीटों पर आरक्षण बदल गया है. इनमें से 17 पद अनारक्षित किये गए हैं, तो 9 पद महिलाओ के लिए आरक्षित हैं. इसके अलावा पिछड़ा वर्ग के लिए 8 पद और पिछड़ी महिला के लिए 4 पद तय किए गए हैं. वहीं, 6 पद पर अनुसूचित जाति और 3 पर अनुसूचित महिला के लिए आरक्षण लागू किया गया है.

इसके अलावा 12 ब्‍लॉक प्रमुख पदों में से छह अनारक्षित (एक महिला), चार पद पिछड़ा वर्ग (दो महिला) के लिए आरक्षति हैं. वहीं, दो पद पर अनुसूचित जाति (एक पद महिला) के लिए आरक्षण लागू किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज