महाराजगंज: छेड़खानी और मारपीट के केस में कार्रवाई न होने से परेशान पीड़ित लड़की ने काटी हाथ की नस

(सांकेतिक तस्वीर)
(सांकेतिक तस्वीर)

महाराजगंज (Maharajganj): पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने बताया कि जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों में मारपीट हुई थी, जिसमें छेड़खानी की भी तहरीर दी गई थी. उस प्रकरण में शांति भंग में कार्रवाई की गई थी. दोबारा मारपीट के बाद मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 2:36 PM IST
  • Share this:
महराजगंज. उत्तर प्रदेश के महाराजगंज (Maharajganj) जिले के कोठीवाल थाना क्षेत्र के एक गांव में एक लड़की ने पुलिस कार्रवाई से असंतुष्ट होकर अपने बाएं हाथ की नस काटकर आत्महत्या करने का प्रयास (Attempt to Suicide) किया. इस सूचना के बाद स्थानीय लोगों और पुलिस की मदद से उसे चश्मा के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है. डॉक्टर ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया. लड़की की हालत स्थिर है.

पुलिस ने मुख्य आरोपी को भेजा जेल

छानबीन में पता चला है कि अगस्त में लड़की की मां द्वारा बगल के 4 भाइयों के खिलाफ मारपीट और छेड़खानी का मुकदमा दर्ज कराया गया था. इस मामले में पुलिस ने शांतिभंग में आरोपियों का चालान कर दिया था. इसी बीच दोबारा आरोपियों द्वारा पीड़ित पक्ष से मारपीट की गई, जिससे आहत होकर की लड़की ने अपने हाथ की नस काटी और जान देने की कोशिश की. इस पूरे प्रकरण में पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.




29 सितंबर की है घटना

पीड़िता के चाचा ने बताया कि 29 सितंबर को घटना हुई थी. हमें थाने से कागज नहीं दिया जा रहा था. आज हम एक्सरे कराने आए हैं. उन्होंने बताया कि बच्ची के साथ जो छेड़खानी किया है, वो अपराधी गिरफ्तार नहीं किया गया है. बच्ची के पिता को मारने के लिए धमकी दिया जा रहा था. हमारा हाथ तोड़ दिया गया है, हमारे पिताजी का पैर तोड़ दिया गया है. अपराधी खुलेआम घूम रहा है. बच्ची को ये लगा कि हमें न्याय तो मिल नहीं रहा है. हमारे चाचा का हाथ तोड़ दिया गया, बाबा का पैर तोड़ दिया गया. इसी कारण उसने कहा कि उसे कानून पर भरोसा नहीं है और वह सुसाइड करने की बात कह रही थी.

चाचा ने आरोप लगाया कि राजमोहन का कोठीभार थाने के अधिकारियों से सांठगांठ है. वो पैसे देकर मामले को दबा देता है. पीड़िता परेशान है, उसे दूसरे मामले में फंसा देता है. जो भी उसके खिलाफ प्रार्थना पत्र देने जाता है, तो उसका या तो हाथ तोड़ देता है या पैर तोड़ देता है. उन्होंने कहा कि ये चार भाई हैं और चारों आपराधिक किस्म के हैं.

जमीन विवाद को लेकर हुई थी मारपीट, छेड़खानी का भी आरोप: एसपी

इस प्रकरण में पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने बताया कि जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों में मारपीट हुई थी, जिसमें छेड़खानी की भी तहरीर दी गई थी. उस प्रकरण में शांति भंग में कार्रवाई की गई थी दोबारा मारपीट के बाद मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज