लाइव टीवी

कमलेश तिवारी हत्याकांड: आरोपियों के नेपाल भागने की आशंका, सीमा पर अलर्ट

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 22, 2019, 4:33 PM IST
कमलेश तिवारी हत्याकांड: आरोपियों के नेपाल भागने की आशंका, सीमा पर अलर्ट
कमलेश तिवारी हत्याकांड में आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं.

महाराजगंज पुलिस (Maharajganj Police) ने भारत-नेपाल (Indo-Nepal) के सोनौली ठूठीबारी सीमा पर अलर्ट (alert) घोषित कर दिया है. वहीं बस स्टेशन, होटल और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर सख्त निगरानी की जा रही है. इसके अलावा पुरस्कार घोषित अपराधियों के पोस्टर भी लगाए जा रहे हैं. पूरे बार्डर पर सघन जांच पड़ताल की जा रही है.

  • Share this:
महाराजगंज. हिंदू समाज पार्टी (Hindu Samaj Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की हत्या को अब 4 दिन हो चुके हैं, लेकिन मुख्य हत्यारोपी (Accused) अभी भी पुलिस (Police) की पकड़ से दूर हैं. लखनऊ के अलावा कई जिलों से आरोपियों के सीसीटीवी फुटेज मिल रहे हैं. अब आशंका जताई जा रही है कि हत्या आरोपी नेपाल (Nepal) भागने की कोशिश कर सकते हैं. इसी को देखते हुए महाराजगंज पुलिस ने भारत-नेपाल के सोनौली ठूठीबारी सीमा पर अलर्ट घोषित कर दिया है. वहीं बस स्टेशन, होटल और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर सख्त निगरानी की जा रही है. इसके अलावा पुरस्कार घोषित अपराधियों के पोस्टर भी लगाए जा रहे हैं. पूरे बार्डर पर सघन जांच पड़ताल की जा रही है.

बता दें अभी तक पुलिस इस मामले में 10 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज खंगाल चुकी है, जिसमें हत्यारोपियों को देखने का दावा किया जा रहा है. पुलिस सूत्रों का कहना है कि शाहजहांपुर या फिर बरेली में कहीं छिपे हैं. इस बीच एटीएस को जानकारी मिली है कि दोनों ने एक वकील से सरेंडर को लेकर भी बातचीत की थी.
वहीं वे नेपाल बॉर्डर पार करने की कोशिश में भी हैं. इसे लेकर यूपी से सटे सभी बॉर्डर पर सघन तलाशी अभियान चलाया जा रहा है.

लखीमपुर के पलिया पहुंचे, फिर शहजहांपुर निकल गए

हत्यारोपी शेख अशफाक हुसैन और पठान मोईनुद्दीन नेपाल भागना चाहते हैं. इसके लिए दोनों हत्या के बाद लखीमपुर के पलिया पहुंचे. यहां दोनों आरोपियों ने पहले बैटरी रिक्शा बुक किया और फिर वहां से इनोवा कार किराये पर लेकर गए. ये इनोवा कार इरशाद और राजकुमार नाम के दो लोग पार्टनरशिप में किराए पर चलवाते हैं. रात क़रीब 9.30 बजे गाड़ी किराए पर ली गई. इसका ड्राइवर तौहीद था. तौहीद ने लंबा रास्ता होने की वजह से छोटे नाम के अपने एक सहयोगी को भी साथ ले लिया. आरोपियों ने नेपाल की जगह शाहजहांपुर जाने के लिए कहा और शाहजहांपुर निकल गए. रास्ते में एक आरोपी ने तौहीद के मोबाइल से किसी महिला को कॉल किया और उससे कुछ बात की. बातचीत संभवतः गुजराती में हो रही थी.

ड्राइवर के फोन से की बात
इसके बाद शाहजहांपुर रेलवे स्टेशन के पास दोनों आरोपी उतर गए. ड्राइवर तौहीद जब वापस निकल गया तभी उस महिला का फोन तौहीद के मोबाइल पर आया. महिला ने पूछा जिससे बात हुई थी वो कहां हैं? जिस पर तौहीद ने बताया कि वो उतर गए हैं और वो उन्हें छोड़कर 10 किलोमीटर आगे आ गया है. इसके बाद खाना खाने के लिए जब तौहीद और उसका साथी छोटे एक ढाबे पर रुके, तभी पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया. फिलहाल एटीएस इस कार्रवाई को गुप्त रखा गया है.
Loading...

कहा जा रहा है कि आरोपियों ने इनोवा कार चालक के ही मोबाइल से आत्मसमर्पण के लिए सोमवार सुबह करीब 8.30 बजे ठाकुरगंज के एक वकील को फोन कर अदालत में सरेंडर करने के बारे में बातचीत की थी. कातिल टैक्सी बुक कराकर नेपाल बार्डर पार करना चाहते थे, लेकिन वहां काफी चौकसी थी इसलिए दोनों शाहजहांपुर गए और टैक्सी छोड़ दी थी. कार चालक से पूछताछ करने के साथ ही दोनों की लोकेशन खंगाली जा रही है.

(इनपुट: आशीष कुमार शुक्ल)

ये भी पढ़ें:

कमलेश तिवारी हत्याकांड: शहर-शहर भाग रहे कातिल करना चाहते हैं कोर्ट में सरेंडर!
महिलाओं के खिलाफ अपराध पर प्रियंका गांधी ने सीएम योगी पर साधा निशाना, किया ये Tweet

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए महाराजगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 3:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...