महोबा में व्यापारी की हत्या पर प्रियंका गांधी बोलीं- यूपी में अफसर दिलवा रहे सुपारी
Mahoba News in Hindi

महोबा में व्यापारी की हत्या पर प्रियंका गांधी बोलीं- यूपी में अफसर दिलवा रहे सुपारी
यूपी में अफसर दिलवा रहे सुपारी (file photo)

आपको बता दें कि इंद्रकांत त्रिपाठी (Indrakant Tripathi) का क्रशर है और वे माइनिंग के लिए विस्फोटक (Explosive) सप्लाई करते थे

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2020, 4:19 PM IST
  • Share this:
महोबा. महोबा के बहुचर्चित व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी और उत्तर प्रदेश में लचर कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने योगी सरकार (Yogi Government) को घेरा हैं. सोमवार को प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, 'महोबा के व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी की हत्या पूरी यूपी सरकार की कार्यशैली पर सवाल है. बीजेपी सरकार में अपराध और भ्रष्टाचार चरम पर है, और अब इस सरकार के अफसर भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वालों की सुपारी दिलवा रहे हैं. जंगलराज का भयावह रूप है ये.'

बता दें इंद्रकांत त्रिपाठी ने वीडियो वायरल कर पूर्व एसपी पाटीदार पर रंगदारी मांगने और जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया था. इसी मामले में पाटीदार के खिलाफ आईपीसी की धारा 307 और 120बी के तहत केस दर्ज है. अब व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत के बाद उनके ऊपर हत्या का केस दर्ज होना तय माना जा रहा है.


गौरतलब है कि बीते 8 सितंबर 2020 को झांसी-मिर्जापुर हाइवे पर सदिग्ध परिस्थितियों में व्यापारी को गोली लगी थी. इसके बाद उनका एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार पर गंभीर आरोप लगाए थे. इस मामले में मणिलाल पाटीदार, पूर्व एसओ देवेंद्र शुक्ला सहित 4 नामजद, व अधीनस्थों पर केस दर्ज किया गया है.



एसपी पर गंभीर आरोप
आपको बता दें कि इंद्रकांत त्रिपाठी का क्रशर है और वे माइनिंग के लिए विस्फोटक सप्लाई करते थे. 5 सितंबर को इद्रकांत त्रिपाठी ने एक वीडियो वायरल कर आरोप लगाया था कि एसपी मणिलाल पाटीदार के दबाव में उन्हें 6 लाख रुपये महीना घूस देते हैं. लेकिन, लॉकडाउन में धंधा मंदा हो जाने की वजह से जब उन्होंने आगे से घूस देने में असमर्थता ज़ाहिर की तो एसपी ने उनसे कहा कि अगर पैसा नहीं दोगे तो तुम्हें गोली मरवा देंगे. हमारे पास इतनी बड़ी फ़ोर्स है कि कोई तुम्हें कहीं भी गोली मार देगा. इसके बाद 8 सितंबर को उन्हें गोली मार दी गई. मामले में 9 सितंबर को आईपीएस मणिलाल पाटीदार को सस्पेंड करते हुए उनके खिलाफ हत्या की कोशिश की एफआईआर दर्ज की गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज