महोबा: मूर्ति विसर्जन में दो युवकों की तालाब में डूबने से हुई मौत

महोबा में मूर्ति विसर्जन के दौरान दो युवकों की तालाब में डूबने से मौत हो गई. घण्टों की मशक्कत के बाद गोताखोरों ने दोनों युवकों के शव पानी से निकालकर जिला अस्पताल भेजा, जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. दोनों युवकों की मौत की खबर से परिजनों में कोहराम मच गया. फिलहाल पुलिस ने दोनों शवों का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: September 30, 2017, 8:52 PM IST
ETV UP/Uttarakhand
Updated: September 30, 2017, 8:52 PM IST
महोबा में मूर्ति विसर्जन के दौरान दो युवकों की तालाब में डूबने से मौत हो गई. घण्टों की मशक्कत के बाद गोताखोरों ने दोनों युवकों के शव पानी से निकालकर जिला अस्पताल भेजा, जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. दोनों युवकों की मौत की खबर से परिजनों में कोहराम मच गया. फिलहाल पुलिस ने दोनों शवों का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

महोबा शहर कोतवाली क्षेत्र के राठ रोड स्थित काशीराम कॉलोनी में स्थापित दुर्गा प्रतिमा को कॉलोनी के लोग शहर के कीरत सागर में विसर्जन के लिए ले जा रहे थे. तभी युवकों ने तालाब के प्रमुख गेट के सामने ही दुर्गा पूजा और मूर्ति विसर्जन की ज़िद की. और प्रतिमा का विसर्जन कर दिया. हालांकि जिला प्रशासन ने मूर्ति विसर्जन के लिये सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम कर रखे थे, लेकिन निहित स्थान से अलग जगह पर मूर्ति विसर्जन करने के दौरान 18 वर्षीय राहुल सोनी और उसका दोस्त 19 वर्षीय जितेंद्र तालाब से बाहर नहीं निकल सके. मूर्ति विसर्जन में शामिल लोगों ने दोनों को खोजा, लेकिन दोनों का कहीं पता नहीं चल सका. जब तक दोनों को तालाब से बाहर निकाला गया, तब तक दोनों दम तोड़ चुके थे.



इस घटना से दोनों परिवारों में कोहराम मच गया. दोनों परिवारों का आरोप है कि उन्हें प्रशासन की अव्यवस्था की कीमत अपने बच्चों को खोकर चुकानी पड़ी है.

मनोज ओझा, महोबा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...