महोबा में क्रशर व्यापारी की हत्या: विजिलेंस की रडार पर DSP-SHO समेत 6 पुलिसकर्मी

विजिलेंस की रडार पर DSP-SHO समेत 6 पुलिसकर्मी (file photo)
विजिलेंस की रडार पर DSP-SHO समेत 6 पुलिसकर्मी (file photo)

एडीजी प्रेम प्रकाश (ADG, Prayagraj Prem Prakash) ने बताया कि तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार के कोरोना पॉजिटिव होने की वजह से अभी तक उनका कोई भी बयान जांच में शामिल नहीं किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 1:08 PM IST
  • Share this:
महोबा. उत्तर प्रदेश के महोबा (Mahoba) के चर्चित विस्फोटक कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी हत्याकांड (Indrakant Tripathi Murder Case) मामले में तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रही विजिलेंस के रडार पर एक डीएसपी समेत करीब 6 पुलिसकर्मी भी आ गए हैं. जल्द ही सभी पुलिसकर्मियों से विजिलेंस की टीम पूछताछ करेगी. वहीं कई कारोबारी और अन्य से पूछताछ में विजिलेंस ने पुलिसकर्मियों के खिलाफ अहम साक्ष्य जुटाए हैं. जांच में कई और बड़े खुलासे हो सकते हैं.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एक डीएसपी, दो थानेदार समेत आधा दर्जन पुलिसकर्मियों की भूमिका के साक्ष्य विजलेंस को मिले है. बता दें कि क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी ने 7 सितंबर वीडियो वायरल कर तत्काल एसपी मणिलाल पाटीदार पर उगाही का आरोप लगाया था. इससे पहले एडीजी प्रयागराज प्रेम प्रकाश ने बड़ा खुलासा किया था. इस खुलासे के बाद इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत की थ्योरी ही पूरी तरह से बदल गई है. मामले में गठित विशेष जांच दल (SIT) की प्रथम रिपोर्ट मे मृतक व्यापारी की लाइसेंसी पिस्टल से ही चली गोली से इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत यानि आत्महत्या (Suicide) की बात सामने आई है.

कोरोना पॉजिटिव मणिलाल पाटीदार के नहीं हुए हैं बयान



एडीजी प्रेम प्रकाश ने बताया कि तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार के कोरोना पॉजिटिव होने की वजह से अभी तक उनका कोई भी बयान जांच में शामिल नहीं किया गया है. अभी विवेचना के आधार पर सभी आरोपियों खिलाफ जांच जारी है. साथ ही गोलीकांड वाले दिन जारी जुए के वीडियो के बारे में भी गहनता से पूछताछ की जा रही है.
मणिलाल पाटीदार पर लगाए थे गंभीर आरोप

बता दें कि इंद्रकांत त्रिपाठी ने महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार पर रिश्वत खोरी के गंभीर आरोप लगाए थे और अपनी हत्या की आशंका व्यक्त की थी. आरोप लगाने के अगले ही दिन इंद्रकांत को गोली लगी थी, जिसके बाद उन्हें कानपुर में भर्ती कराया गया था, जहां 5 दिनों बाद इंद्रकांत की मौत हो गई थी. इस मामले में मणिलाल पाटीदार को पहले ही निलंबित किया जा चुका है. इंद्रकांत पर हमले के मामले में भी मणिलाल पाटीदार को नामजद किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज