Home /News /uttar-pradesh /

well done grp jawan saved life of a woman and her 2 children going to celebrate rakshabandhan video viral ssp

शाबाश: जीआरपी के जवान ने रक्षाबंधन मनाने जा रही महिला और उसके 2 बच्चों की बचाई जान, देखें VIDEO

महोबा में रेलवे स्टेशन पर सिपाही के जांबाज इरादों से रक्षाबंधन मनाने जा रही महिला सहित दो बच्चों की जान बचा ली है. (News18Hindi)

महोबा में रेलवे स्टेशन पर सिपाही के जांबाज इरादों से रक्षाबंधन मनाने जा रही महिला सहित दो बच्चों की जान बचा ली है. (News18Hindi)

Mahoba GRP: महोबा में रेलवे स्टेशन पर सिपाही के जांबाज इरादों से रक्षाबंधन मनाने जा रही महिला सहित दो बच्चों की जान बचा ली है. मामला महोबा जंक्शन रेलवे स्टेशन परिसर के प्लेटफार्म का है. जहां वीरांगना लक्ष्मीबाई से प्रयागराज जा रही ट्रेन संख्या 14111 पर महिला अपने दो बच्चों के साथ रक्षाबंधन के पर्व मनाने के लिए जा रही थी. इसी दौरान ट्रेन पर चढ़ने से पहले उसका पैर फिसल गया था. जिसके चलते वह अपने दोनों बच्चों के साथ ट्रेन के नीचे जाने लगी थी.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

जीआरपी पुलिस में तैनात नीरज कुमार करवरिया ने तत्परता से तीन लोगों की जान बचा ली.
रक्षाबंधन मनाने अपने दो बच्चों के साथ ट्रेन पर चढ़ने के दौरान महिला का पैर फिसल गया था.
पुलिस जवान ने साहस दिखाते हुए महिला सहित दोनों बच्चों को खींचकर उनकी जान बचा ली है.

महोबा. जाको राखे साइयां, मार सके ना कोई की कहावत महोबा जीआरपी पुलिस में तैनात नीरज कुमार करवरिया की तत्परता पर बिल्कुल सटीक बैठती है. जहां रक्षाबंधन के त्यौहार पर अपने दो बच्चों के साथ ट्रेन पर चढ़ने के दौरान पैर फिसलने ही पुलिस जवान ने साहस दिखाते हुए महिला सहित दोनों बच्चों को खींचकर उनकी जान बचा ली है. फिलहाल महिला को तत्काल गतंव्य के लिए रवाना कर दिया गया है. वहीं, एसपी जीआरपी ने पुलिस हेड कॉन्स्टेबल नीरज कुमार के इस साहस ,सच्ची निष्ठा ओर कर्तव्य के लिए 5000 हजार का नगद पुरुस्कार सहित प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया है.

दो बच्चों के साथ रक्षाबंधन मनाने जा रही थी महिला
मामला महोबा जंक्शन रेलवे स्टेशन परिसर के प्लेटफार्म का है. जहां वीरांगना लक्ष्मीबाई से प्रयागराज जा रही ट्रेन संख्या 14111 पर महिला अपने दो बच्चों के साथ रक्षाबंधन के पर्व मनाने के लिए जा रही थी. इसी दौरान ट्रेन पर चढ़ने से पहले उसका पैर फिसल गया था. जिसके चलते वह अपने दोनों बच्चों के साथ ट्रेन के नीचे जाने लगी थी.

मगर ड्यूटी पर तैनात हेड कॉन्स्टेबल नीरज कुमार करवरिया ने पुलिस के कर्तव्य के साथ महिला के हाथों में राखी का बैग देखकर भाई का फर्ज निभाते हुए तत्परता से खींचकर जान बचा ली है. हेड कांस्टेबल की इस ईमानदार कर्तव्यनिष्ठा से खुश होकर एसपी जीआरपी ने उन्हें ₹5000 का नगद पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र शॉप उज्जवल भविष्य की कामना की है. साथ ही अन्य पुलिसकर्मियों को भी इस तरह समाज में सजग रहने की सलाह दी है.

Tags: Mahoba news, UP news

अगली ख़बर