राखी पर खोखले साबित हुए सरकार के दावे, बसों के लिए परेशान हो रही हैं महिलाएं

मासूम बच्चों को खिड़कियों पर बैठाकर, महिलाएं एक-एक सीट के लिए जद्दोजहद में जुटी हैं. इससे महिलाओं में खासा आक्रोश पनप रहा है. ये महिलाएं रक्षाबंधन पर्व के मद्देनजर अपने अपने पीहर जा रही हैं, मगर इन्हें सरकारी बसों का कोई फायदा ही नहीं मिल पा रहा.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 25, 2018, 8:10 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 25, 2018, 8:10 PM IST
उत्तर प्रदेश सरकार के रक्षाबंधन पर्व पर यात्रा में तमाम सुविधाएं देने के दावे हवा-हवाई साबित हो रहे हैं. प्रशासनिक अमले की अनदेखी के चलते यात्रियों को भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है. हाईटेक बस अड्डे में मुसीबतों का सामना कर रहे यात्रियों ने शासन प्रशासन से यात्री बस बढ़ाने की मांग की है.

प्रदेश के नवनिर्मित बस अड्डों में से महोबा बस स्टॉप 17वें हाईटेक बस स्टॉप में शामिल है. यात्रियों को सुविधाएं देने के लिए सरकार ने करोड़ों की लागत से नया बस स्टॉप तैयार कराया है. मगर महोबा डिपो में वर्षों पुरानी जर्जर बसों को लेकर यात्री रोजाना की तरह आज भी परेशान हो रहे हैं. महोबा से कानपुर, लखनऊ, इलाहाबाद, इटावा सहित देश और प्रदेश की राजधानी जाने के लिए यात्रियों को इन्हीं खटारा बसों से सफर करने को मजबूर होना पड़ रहा है.

VIDEO: बहन के घर राखी बंधवाने जा रहे युवक टैम्पो ने मारी जोरदार टक्कर

हालात यह है कि रक्षाबंधन के त्यौहार को लेकर सैकड़ों यात्रियों को बस स्टॉप पर एक-एक बस के पीछे दौड़ना पड़ रहा है. जिसमें सबसे बुरी स्थिति महिलाओं की है. मासूम बच्चों को खिड़कियों पर बैठाकर, महिलाएं एक-एक सीट के लिए जद्दोजहद में जुटी हैं. इससे महिलाओं में खासा आक्रोश पनप रहा है. ये महिलाएं रक्षाबंधन पर्व के मद्देनजर अपने अपने पीहर जा रही हैं, मगर इन्हें सरकारी बसों का कोई फायदा ही नहीं मिल पा रहा.

बहनों की पहली पसंद बनीं डिजाइनर राखी, अब ओल्ड फैशन हुई भारी-भरकम राखियां

जबकि महोबा बस डिपो के एआरएम आरएस चौधरी का कहना है कि शासन की मंशा अनुरूप रक्षाबंधन के त्यौहार को लेकर 100 बसों को विभिन्न मार्गों पर दौड़ाया जा रहा है. साथ ही अंतरराज्यीय सीमा के यात्रियों को भी बस यात्रा का लाभ दिया जा रहा है. निशुल्क यात्रा के लिए शनिवार रात 12 बजे से रविवार रात 12 बजे तक महिला यात्रियों को निशुल्क यात्रा कराई जाएगी. अत्यधिक भीड़ को देखते हुए कई बसों के फेरों में बढ़ोतरी की गई है, साथ ही 120 बसों को यात्रियों की सेवाओं में लगाया गया है.

Raksha Bandhan 2018: काशी की मुस्लिम महिलाओं ने पीएम मोदी को भेजी राखी
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर