अखिलेश ने दी सीएम योगी को सलाह- संविधान पढ़ें, आंबेडकर की शिक्षाओं पर चलें

एक निजी कार्यक्रम में मैनपुरी के करहल पहुंचे सपा मुखिया अखिलेश यादव ने पर कहा कि आम्बेडकर के नाम को बच्चा-बच्चा जनता है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 29, 2018, 3:19 PM IST
अखिलेश ने दी सीएम योगी को सलाह- संविधान पढ़ें, आंबेडकर की शिक्षाओं पर चलें
File Photo
News18 Uttar Pradesh
Updated: March 29, 2018, 3:19 PM IST
उत्तर प्रदेश सरकार ने बाबा साहेब डॉ भीमराव आंबेडकर के नाम में रामजी जोड़ने का ऐलान किया है. उधर इस विषय पर सियासत भी तेज हो गई है. मामले में सपा मुखिया अखिलेश यादव ने योगी सरकार संविधान प​ढ़ने की सलाह दी है. एक निजी कार्यक्रम में मैनपुरी के करहल पहुंचे अखिलेश यादव ने यूपी सरकार के आंबेडकर नाम में रामजी जोड़ने के सवाल पर कहा कि योगी जी संविधान को पढ़ें. आंबेडकर की शिक्षाओं के आधार पर चलें. उन्होंने कहा कि आम्बेडकर के नाम को बच्चा-बच्चा जनता है.

बता दें इससे पहले उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बाबा साहेब डॉ भीमराव आंबेडकर के नाम में रामजी जोड़ने पर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि मैं मराठी हूं और वह भी हैं. हिंदी भाषी राज्यों में उनका नाम गलत तरह से लिखा जाता रहा. उनके नाम में भीम और राव को दो अलग-अलग शब्दों में लिखा जाता रहा, जबकि भीमराव लिखा जाना चाहिए.

दरअसल संविधान निर्माता बाबा साहेब डॉ. भीमराव का नाम अब यूपी के सभी राजकीय अभिलेखों में डॉ भीमराव रामजी आंबेडकर लिखा जाएगा. सरकार ने बुधवार को इस संबंध में शासनादेश जारी कर दिया. पिछले साल दिसम्बर में राज्यपाल ने बाबा साहेब का नाम गलत लिखे जाने पर नाराजगी जाहिर की थी. उन्होंने कहा था कि किसी भी व्यक्ति का नाम उसी तरह लिखा जाना चाहिए, जिस प्रकार से वह स्वयं लिखता हो. इस दृष्टि से भारत का संविधान की मूल हिन्दी प्रति के पृष्ठ 254 पर किए गए हस्ताक्षर (भीमराव रामजी आंबेडकर) के अनुसार, बाबा साहब का नाम डॉक्टर ‘भीमराव आंबेडकर’ लिखा जाना उचित होगा न कि डॉ ‘भीम राव आंबेडकर’. भीमराव एक शब्द है न कि अलग-अलग.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर