Honour Killing: इंटरकास्‍ट लव मैरिज से नाराज थे परिजन, भाई पर बहन की गला दबाकर हत्‍या का आरोप

पुलिस अधीक्षक मैनपुरी अजय कुमार पांडेय
पुलिस अधीक्षक मैनपुरी अजय कुमार पांडेय

Mainpuri News: 2 जुलाई को सुनील और रूबी ने आर्य समाज मन्दिर में शादी करने के बाद कोर्ट में पंजीकरण कराया था. इससे रूबी के परिजन बेहद नाराज थे.

  • Share this:
मैनपुरी. उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में झूठी शान के लिए एक युवती की हत्या करने का मामला सामने आया है. आरोप है कि जिले के किशनी क्षेत्र के नगला कले में एक युवक ने अपनी बहन की पहले गला दबाकर हत्या (Murder) की और बाद में छत से फेंक दिया. इस हत्याकांड में पिता, चाचा समेत परिवार के 5 लोगों को आरोपी बताया जा रहा है. लड़की की गलती सिर्फ इतनी थी कि उन्‍होंने इंटरकास्ट शादी की थी. इस लव मैरिज से भाई और पिता नाराज चल रहे थे. इसके बाद युवती की हत्या कर शव को छत से फेंक दिया गया. बाद में किसी को सूचित किए बिना ही अंतिम संस्कार भी कर दिया गया.

पुलिस के मुताबिक, जनपद जालौन के कालपी कस्बे के गणेशगंज निवासी सुनील गुप्ता पुत्र रामसरन गुप्ता कानपुर के चौक में कार्ड का काम करता है. कानपुर में सुनील की मुलाकात किशनी क्षेत्र के नगला कले निवासी 30 वर्षीय रूबी सिंह पुत्री सूर्यप्रताप सिंह वैश उर्फ़ मुन्ना से हुई. रूबी के पिता कानपुर सीओडी में नौकरी करते हैं. प्रेम प्रसंग होने के बाद 2 जुलाई को सुनील और रूबी ने आर्य समाज मन्दिर में शादी कर ली थी. इसके बाद कोर्ट में पंजीकरण करा लिया. इस शादी से रूबी के परिजन नाराज थे. आरोप है कि इसके बाद हत्या की साजिश रची गई.

चाचा धोखे से ले गया था घर
पुलिस ने बताया कि रूबी के चाचा रामू ने उन्‍हें भाई की शादी की बात कहकर घर चलने को कहा. जिस पर 15 अक्टूबर को सुनील रूबी को इटावा बस स्टैंड पर छोड़ गया था. अगले पांच दिन तक रूबी से सम्पर्क न होने पर सुनील को चिंता हुई. इस दौरान रूबी के परिजनों ने उनका फोन नहीं उठाया. कई बार फोन मिलाने पर चाचा रामू ने बताया कि रूबी की छत से गिरकर मौत हो गयी है. जिस पर सुनील ने पत्नी की ऑनर किलिंग की तहरीर एसपी और थानाध्यक्ष अजीत सिंह को दी थी. जिसके बाद पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.
दो गिरफ्तार


मैनपुरी पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पांडे ने बताया कि मृतका रूबी ने अंतरजातीय विवाह कर लिया था, जिससे भाई और पिता काफी नाराज थे. वह इस विवाह से असंतुष्ट थे. यही वजह रही कि युवती को धोखे से घर बुलाकर पहले उनका गला दबाया और बाद में छत से फेंक दिया. कोई शक न करे इस लिहाजा इलाज के लिए कानपुर तक ले गए. उसके बाद उनका अंतिम संस्कार कर दिया. पोलकी अधीक्षक के मुताबिक आरोपियों ने न तो युवती को अस्पताल लेकर गए और न ही उनके पति को मौत की सूचना दी. मामले में एफआईआर दर्ज कर दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज