Mainpuri: लेखपाल निकला अकूत संपत्ति का मालिक, मैनपुरी से नोएडा तक ऐसे बनाई करोड़ों की प्रॉपर्टी

मैनपुरी में एक लेखपाल करोड़ों की संपत्ति का मालिक निकला है. अब पुलिस ने उस पर शिकंजा कसा है.

मैनपुरी में एक लेखपाल करोड़ों की संपत्ति का मालिक निकला है. अब पुलिस ने उस पर शिकंजा कसा है.

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने वाला लेखपाल प्रदीपेंद्र सिंह अकूत संपति का मालिक निकला. अब मैनपुरी प्रशासन ने लेखपाल पर शिकंजा कसा है और उसकी करोड़ों की संपत्ति को कुर्क करने की कार्रवाई की गई है.

  • Last Updated: April 2, 2021, 12:39 AM IST
  • Share this:
मैनपुरी. उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने वाला लेखपाल प्रदीपेंद्र सिंह अकूत संपति का मालिक निकला. मैनपुरी प्रशासन ने लेखपाल पर शिकंजा कस दिया है और उसकी करोड़ों की संपत्ति को कुर्क करने की कार्रवाई की गई है. लेखपाल गैंगस्टर के मामले में पहले से ही जेल में बंद है. पुलिस की अब तक की जांच में लेखपाल पर 5 करोड़ 30 लाख की संपत्ति पर कार्यवाही की गई है. पुलिस ने 4 मंजिला आलीशान मकान और दुकान को कुर्क कर लिया है. अब नोएडा सहित अन्य स्थानों पर संपत्ति को कुर्क करने की कार्रवाई की जाएगी.

मैनपुरी के राजा बाग का रहने वाला लेखपाल प्रदीपेंद्र सिंह राठौर वर्ष 2012 से 2017 तक भोगांव तहसील में तैनात रहा इस दौरान गांव अहिरवा में उसने सरकारी 950 बीघा जमीन को फर्जी तरीके से अपने रिश्तेदारों और अन्य लोगों के नाम अंकित करा लिया. 2018 में उसके कारनामे का भंडाफोड़ हुआ तो प्रशासन के अधिकारी भी हैरान हो गए लेखपाल सहित 52 लोगों के खिलाफ जालसाजी और धोखाधड़ी की FIR दर्ज कराई गई थी. वर्ष 2020 में लेखपाल और उसके साथियों पर गैंगस्टर एक्ट की कार्यवाही की गयी.

आरोपी लेखपाल को अभी हाल ही में सलाखों के पीछे भेजा गया था अब पुलिस जांच में तकरीबन 5 करोड़ 30 लाख की संपत्ति का मामला सामने आया है. पुलिस ने राजा बाग स्थित 4 मंजिला मकान, देवी रोड स्थित एक दुकान को सील कर दिया है. नोएडा सहित अन्य ठिकानों की पुलिस संपत्ति को तलाश रही है.

लेखपाल का नोएडा कनेक्शन
पुलिस अधिकारी अमर बहादुर बताते हैं कि लेखपाल प्रदीपेंद्र के नाम नोएडा के चितियाना बुजुर्ग में 3 आवासीय प्लाट भी हैं. उसके पास एक क्रेटा कार है. उसने अपने गांव के आसपास कृषि भूमि खरीदी है. आरोपी लेखपाल अवैध क्रियाकलापों से संपत्ति अर्जित करता रहा. जांच में सामने आई संपत्ति को कुर्क कर लिया गया है. संपत्ति की जांच को जारी रखा जाएगा. इसके अलावा लेखपाल अपने उच्चाधिकारियों से भी अभद्र व्यवहार करता रहता था. कई बार आरोपित लेखपाल की रिकॉर्डिंग भी वायरल हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज