कृष्ण जन्मभूमि को छोड़ दें मुसलमान, कब्जा की गई जमीन पर कबूल नहीं होती इबादत: BJP सांसद

बीजेपी राज्यसभा सांसद हरनाथ यादव
बीजेपी राज्यसभा सांसद हरनाथ यादव

राज्यसभा सांसद हरनाथ सिंह यादव (MP Harnath Singh Yadav) ने कहा कि मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मभूमि परिसर (Shree Krishna Janmabhoomi) जबरन कब्ज़ा की गई थी. इस्लाम में कहा गया है कि जिस जमीन पर जबरन कब्जा करके मस्जिद बनाई जाती है, वहां इबादत कबूल नहीं होती.

  • Share this:
मैनपुरी. अयोध्या केस (Ayodhya Case) में विजयी हुए रामलला विराजमान (Ramlala) के बाद अब मथुरा (Mathura) में श्रीकृष्ण विराजमान (Shree Krishna Virajman) ने भी अदालत का दरवाजा खटखटाया है. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राज्यसभा सांसद (Rajya Sabha MP) हरनाथ सिंह यादव (Harnath Singh Yadav) ने इस मामले में बयान दिया है. बीजेपी सांसद ने मुस्लिम पक्षकारों से कहा है कि वे खुद इस जमीन को छोड़ दें, क्योंकि यह बलपूर्वक कब्ज़ा की गई थी. उनका कहना है कि इस्लाम में कहा गया है कि जबरन कब्ज़ा की गई जमीन पर इबादत नहीं हो सकती.

राज्यसभा सांसद हरनाथ सिंह यादव ने कहा कि मथुरा के श्रीकृष्णा जन्मभूमि परिसर जबरन कब्ज़ा की गई थो. कृष्ण जन्मभूमि  की जमीन मुस्लिम भाई स्वेच्छा से छोड़ दें, क्योंकि इस्लाम में कहा गया है कि जिस जमीन पर जबरन कब्जा करके मस्जिद बनाई जाती है, वहां इबादत कबूल नहीं होती. राज्यसभा सांसद ने कहा कि कृष्ण जन्मभूमि परिसर से मस्जिद को हटा देना चाहिए. आपको बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के बाद से ही मथुरा और काशी को लेकर भी चर्चाएं जोर-शोर से चल रही हैं.

मैनपुरी पहुंचे बीजेपी के राज्यसभा सांसद हरनाथ सिंह यादव ने मथुरा में दाखिल की गई याचिका को लेकर कहा कि वह उसके पक्ष में है और मथुरा कृष्ण जन्मभूमि को बल पूर्वक कब्जा किया गया था. मुस्लिम पक्ष को खुद से निर्णय लेकर स्वेच्छा से इस जमीन को छोड़ देना चाहिए. यह मैं नहीं कहता हूं पूरी देश दुनिया यह चाहती है कि कृष्ण जन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण हो. इसलिए मैं तो मुस्लिम भाइयों से कहता हूं कि इस्लाम में भी लिखा है कि जबरन की गई जमीन पर मस्जिद होती है तो वहां इबादत कबूल नहीं होती. इसलिए बगैर किसी संदेश के जबरन कब्जा की गई जमीन को छोड़ें, ताकि वहां भगवान श्री कृष्ण के मंदिर का निर्माण हो सके. मेरा स्पष्टट  मत है कृष्ण जन्म भूमि से ईदगाह मस्जिद को हटाया जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज