लाइव टीवी

मैनपुरी: पुत्रवधू ने मारपीट कर घर से निकाला, महिला थानाध्यक्ष ने गले लगाया
Mainpuri News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 21, 2020, 7:06 PM IST
मैनपुरी: पुत्रवधू ने मारपीट कर घर से निकाला, महिला थानाध्यक्ष ने गले लगाया
थाने के अंदर बुजुर्ग को खाना खिलाती महिला थानाध्यक्ष

80 वर्षीय बूढ़ी महिला का नाम राम कुमारी है. इनके तीन बेटे हैं. वह मैनपुरी (Mainpuri) के ग्राम भनऊ की रहने वाली हैं.

  • Share this:
मैनपुरी. उत्तर प्रदेश के मैनपुरी (Mainpuri) में महिला थानाध्यक्ष की एक तस्वीर सोशल मीडिया (Social Media) पर खूब सुर्खियां बटोर रही है. खाकी वर्दी के नाम पर डरने वालों के लिए यह दरियादिली की तस्वीर चौकानें वाली हो सकती है, मगर 80 वर्षीय बूढ़ी मां (Old women) के लिए खाकी वर्दी में महिला थानाध्यक्ष एकता सिंह उनकी बेटी की तरह सेवा कर रही हैं. दरअसल, लावारिस हालत में मिली बूढ़ी मां को महिला थानाध्यक्ष ने थाने में लाकर पहले तो नहलाया. इसके बाद कपड़े पहनाए और अच्छा सा भोजन कराया. इतना ही नहीं जेब खर्चे के लिए कुछ पैसे भी दिए और अपनी ड्यूटी के साथ-साथ बूढ़ी मां की सेवा भी कर रही है.

बेटे ने घर से निकाला
जानकारी के मुताबिक, 80 वर्षीय बूढ़ी महिला का नाम राम कुमारी है. इनके तीन बेटे हैं. महिला मैनपुरी के ग्राम भनऊ की रहने वाली हैं. पति का स्वर्गवास हो चुका है. एक बेटा फिलहाल जेल में बंद है और दो बेटे घर में खेती-बाड़ी करते हैं. दोनों की शादी हो चुकी है. लेकिन मां को दो वक्त की रोटी खिलाने के लिए इन बेटों के पास अनाज नहीं है. बीच वाले बेटे की पत्नी बुजुर्ग मां के साथ मारपीट करती है. बूढ़ी मां की वजह से घर में आए दिन झगड़ा होता है.

इन्हीं वजहों से कई बार बेटों ने अपनी मां को वृद्धाश्रम में भी छोड़ दिया था. लेकिन वह मां है आखिरकार मन नहीं माना और बच्चों के बगैर नहीं रह पाईं. फिर से अपने गांव बनाऊ वापस चली आईं. बेटों की पत्नियों ने बूढ़ी मां को गंदी- गंदी गालियां दी. इस बात को राम कुमारी बर्दाश्त नहीं कर पाई और स्वतः ही घर छोड़कर चली गयीं. महिला थानाध्यक्ष को सूचना मिली कि एक बूढ़ी मां बस स्टैंड पर बैठी हुई हैं. महिला थानाध्यक्ष एकता सिंह अपनी गाड़ी लेकर पहुंची और बुजुर्ग को गाड़ी में बैठाकर थाने में लाई. इसके बाद बुजुर्ग को नहलाया और अपने हाथों से खाना खिलाया. उस मां की पूरी बात को सुन रही एकता सिंह की यह तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं और खूब सुर्खियां बटोर रही हैं.



बुजुर्ग महिला से मिलकर भावुक हो गईं थानाध्यक्ष एकता सिंह.


पुत्रवधू करती है मारपीट
80 वर्षीय बूढ़ी मां रोते-रोते महिला थानाध्यक्ष को बताती हैं कि मेरी पुत्र बधू मेरे साथ मारपीट करती है. गंदी- गंदी गालियां देती है. इसी वजह से हमने घर छोड़ दिया. इस बात की शिकायत अपने बेटों से नहीं की, क्योंकि वो मेरी पुत्र वधू के साथ मारपीट करते. मेरी छोटी सी जिंदगी बची है और अब मैं भीख मांग कर गुजारा कर लूंगी लेकिन अपनी वजह से परिवार में कोई भी झगड़ा नहीं चाहती हूं. बूढ़ी मां की यह बात सुनकर महिला थानाध्यक्ष एकता सिंह भी भावुक हो गयीं और उन्होंने बूढ़ी मां को जेब खर्चे के लिए ₹1000 भी दिए

मां नहीं चाहती कोई कार्रवाई
थानाध्यक्ष एकता सिंह ने जब कलयुगी पुत्र और पुत्रवधू पर कार्रवाई करने की बात कही तो मां बिलख उठी और थानाध्यक्ष से गुहार लगाने लगी कि मेरे बेटे और बहू पर कोई कार्रवाई  मत करना. हम आपके हाथ जोड़ रहे हैं. मेरा छोटा सा जीवन है. चंद दिनों की जिंदगी है. इसे हम भीख मांग कर काट लेंगे लेकिन अपने बच्चों को कोई कष्ट नहीं देना चाहते हैं. आप भी मेरी बेटी की तरह हो मेरी बात को समझो.

निर्भया को इंसाफ दिलाने के लिए मुफ्त में लड़ा था केस, खास अंदाज में मिली बधाई

निर्भया के दोषियों को फांसी, मेरठ की महिलाएं बोलीं- पवन जल्लाद पर है नाज़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मैनपुरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 21, 2020, 6:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर