डॉ. कफील खान की पत्नी ने योगी सरकार से लगाई गुहार, मथुरा जेल में बताया जान का खतरा
Mathura News in Hindi

डॉ. कफील खान की पत्नी ने योगी सरकार से लगाई गुहार, मथुरा जेल में बताया जान का खतरा
डॉ. कफील की पत्नी ने लगाई योगी सरकार से गुहार (file photo)

पुलिस की ओर से दर्ज मुकदमे में कहा गया कि एएमयू में अपने भाषण में डॉ. कफील खान ने कथित तौर पर कहा था कि 'मोटा भाई' सबको हिंदू और मुसलमान बनने की सीख दे रहे हैं, इंसान बनने की नहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 1, 2020, 11:50 AM IST
  • Share this:
मथुरा. उत्तर प्रदेश सरकार (UP Government) के निलंबित बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कफील खान (Dr. Kafeel Khan) की पत्नी ने डॉक्टर शाबिस्ता खान ने योगी सरकार से इंसाफ की गुहार लगाई है. शाबिस्ता ने यूपी के अपर मुख्य सचिव और डीजी जेल को पत्र लिखकर मथुरा जेल में बंद पति कफील खान की जान को खतरा बताया है. उन्होंने कहा कि जेल के अंदर मेरे पति के साथ अमानवीय व्यवहार और प्रताड़ित किया जा रहा है. बकौल शाबिस्ता खान पत्र में लिखती है कि जेल के अंदर इससे पहले भी हत्या हो चुकी है. ऐसे में योगी सरकार जांच कराकर मदद करे.

इससे पहले यूपी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने खान को मुंबई हवाईअड्डे से 29 जनवरी को गिरफ्तार किया था. बता दें कि संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के सिलसिले में मथुरा जिला कारागार में कैद डॉ कफील खान की जमानत पर रिहाई से पहले ही उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगा दिया गया था.

डॉ कफील की पत्नी ने लिखा पत्र
डॉ कफील की पत्नी ने लिखा पत्र




कफील खान ने दिया था ये भाषण
पुलिस की ओर से दर्ज मुकदमे में कहा गया कि एएमयू में अपने भाषण में डॉ. कफील खान ने कथित तौर पर कहा था कि 'मोटा भाई' सबको हिंदू और मुसलमान बनने की सीख दे रहे हैं, इंसान बनने की नहीं. कफील ने यह भी कहा था कि सीएए के खिलाफ संघर्ष हमारे अस्तित्व की लड़ाई है.

दरअसल, एएमयू में सीएए विरोधी एक प्रदर्शन के दौरान पिछले साल 12 दिसंबर को कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के सिलसिले में डॉ. कफील के खिलाफ अलीगढ़ के सिविल लाइंस थाने में मामला दर्ज किया गया था. डॉ. कफील खान को अगस्त 2017 में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी की वजह से हुई 60 से ज्यादा बच्चों की मौत के मामले में गिरफ्तार किया गया था. करीब 2 साल के बाद जांच में खान को सभी प्रमुख आरोपों से बरी कर दिया गया था.

ये भी पढ़ें:

सोनभद्र खदान हादसे में पांच मजदूरों का शव बरामद, CM योगी ने किया चार लाख मुआवजे का ऐलान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading