लाइव टीवी

Ayodhya Verdict: मथुरा में 5 हजार डिजिटल वालंटियर रखेंगे सोशल मीडिया पर पैनी नजर

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 9, 2019, 8:31 AM IST
Ayodhya Verdict: मथुरा में 5 हजार डिजिटल वालंटियर रखेंगे सोशल मीडिया पर पैनी नजर
मथुरा में 5 हजार डिजिटल वालंटियर रखेंगे सोशल मीडिया पर पैनी नजर

डीएम (DM) और एसएसपी (SSP) फुट पेट्रोलिंग कर रहे हैं और लोगों से बातचीत करने के साथ ही शांति व सौहार्द बनाए रखने की अपील भी की जा रही है. एसएसपी शलभ माथुर ने बताया कि सड़क पर निकल कर जनता को सुरक्षा का भरोसा दिया जा रहा है.

  • Share this:
मथुरा. अयोध्या जमीन विवाद (Ayodhya Land Dispute) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) शनिवार सुबह 10:30 बजे अपना फैसला सुनाएगा. अयोध्या मामले पर फैसला (Result) को लेकर मथुरा पुलिस (Mathura Police) ने सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक सामग्री पर नजर रखने के लिए 5 हजार डिजिटल वालंटियर को तैनात किए हैं. वहीं जन्मस्थान सहित प्रमुख स्थलों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

अफवाह फैलाने वालों को चिन्हित करने के निर्देश

जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने बताया कि जनपद में लगभग 5 हजार डिजिटल वालंटियर कार्यरत हैं, जो अफवाह फैलाने वालों को चिन्हित करके उनके विरुद्ध कार्रवाई करेंगे. उन्होंने ब्लॉक स्तर से ग्राम स्तर तक कार्यरत कर्मचारियों को निर्देश दिए कि उनके क्षेत्र में किसी तरह की अफवाह या अन्य कोई गतिविधि होती है तो उसकी सीधी सूचना अपने उच्च अधिकारियों को दें. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर ने सभी पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया कि मिश्रित आबादी वाले क्षेत्रों में अधिक पैनी नजर रखें.

अयोध्या फैसले को लेकर फुट पेट्रोलिंग करते मथुरा के डीएम- एसएसपी
अयोध्या फैसले को लेकर फुट पेट्रोलिंग करते मथुरा के डीएम- एसएसपी


एसएसपी के मुताबिक जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेटों के साथ पर्याप्त पुलिस बल का इंतजाम किया गया है. सिविल डिफेंस के अधिकारी एवं कर्मचारियों को प्रत्येक स्थिति पर पैनी नजर रखने के निर्देश दिए हैं. उधर, रेलवे स्टेशनों पर खासी सतर्कता व सुरक्षा बरती जा रही है. रेलवे स्टेशनों पर जगह जगह जीआरपी, आरपीएफ के जवान तैनात कर दिए गए हैं, जो कासगंज, अछनेरा, आगरा व अन्य स्थानों को आने-जाने वाली गाड़ियों में सघन चेकिंग कर रहे हैं.

डीएम- एसएसपी ने की फुट पेट्रोलिंग

डीएम और एसएसपी फुट पेट्रोलिंग कर रहे हैं और लोगों से बातचीत करने के साथ ही शांति व सौहार्द बनाए रखने की अपील भी की जा रही है. एसएसपी शलभ माथुर ने बताया कि सड़क पर निकल कर जनता को सुरक्षा का भरोसा दिया जा रहा है, साथ ही जन्म भूमि पर लगातार सुरक्षा एजेंसियों के साथ वरिष्ठ अधिकारी सुरक्षा बैठक कर रहे हैं. ताकि किसी भी स्तर पर कोई चूक ना रहे और शांति सौहार्द बनाए रखा जा सके.
Loading...

मथुरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर
मथुरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर


सुप्रीम कोर्ट में 2017 में शुरू हुई सुनवाई
सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई की प्रक्रिया शुरू हुई. उस समय चीफ जस्टिस थे दीपक मिश्रा. दीपक मिश्रा के बाद रंजन गोगोई हुए CJI. 8 जनवरी, 2019 को रंजन गोगोई ने ये मामला पांच जजों की एक खंडपीठ के सुपुर्द किया. 8 मार्च, 2019 को अदालत ने सभी मुख्य पक्षों को आठ हफ़्ते का समय देते हुए कहा कि वो आपसी बातचीत से मध्यस्थता की कोशिश करें. 13 मार्च को मध्यस्थता की कार्रवाई शुरू हुई. मई में कोर्ट ने इसका समय बढ़ाकर 15 अगस्त तक कर दिया. मगर मध्यस्थता की कोशिशें कामयाब नहीं हुईं. 6 अगस्त से कोर्ट ने फाइनल दलीलें सुननी शुरू कीं. 16 अक्टूबर को कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा. इस मामले पर 40 दिन तक सुनवाई चली थी. बता दें कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें: बाबरी मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारी बोले, फैसला जो कुछ भी हो हम उसका सम्मान करेंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मथुरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 6:08 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...