हाथरस कांड: मथुरा में गिरफ्तार PFI के संदिग्ध सदस्यों की जमानत पर सुनवाई, UP STF को फटकार

आरोपी पक्ष के वकील मधुवन दत्त चतुर्वेदी
आरोपी पक्ष के वकील मधुवन दत्त चतुर्वेदी

Hathras Case: मथुरा (Mathura) की सीजेएम कोर्ट (CJM Court) में एसटीएफ की रिमांड एप्लीकेशन पर बुधवार को सुनवाई पूरी होने के बाद फैसला सुरक्षित. एक घंटे तक अदालत में दोनों पक्षों ने दलील रखी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2020, 1:09 PM IST
  • Share this:
मथुरा. हाथरस कांड (Hahras Case) के बाद साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने में गिरफ्तार किए गए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के संदिग्ध सदस्यों की जमानत याचिका पर बुधवार को सुनवाई हुई. मसूद और आलम की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान यूपी एसटीएफ (UP STF) के अधिकारियों का एडीजे-दशम अमर सिंह की अदालत ने फटकार लगा दी. दरअसल एसटीएफ के अधिकारियों ने बहस के दौरान एक बार फिर समय की मांग की थी, जिस पर अदालत ने उन्हें फटकार लगा दी.

आरोपी पक्ष के वकील मधुवन दत्त चतुर्वेदी ने बताया कि आज मसूद और आलम की जमान याचिका पर एडीजे-दशक अमर सिंह की अदालत में सुनवाई हुई. आज एसटीएफ ने फिर से कहा कि इस संबंध में केस डायरी और पीसीआर सीजेएम न्यायालय में है, लिहाजा वह इस पर बहस नहीं कर पाएंगे. इस बात पर एडीजे नाराज हुए और उन्होंने कहा कि इस तरह की कार्यप्रणाली पर अंकुश लगाने के लिए कोई आदेश पारित करने जा रहे हैं. मधुवन दत्त ने बताया कि नेट परीक्षा (UGC-NET) को लेकर सीजेएम न्यायालय में जो हमने अपील की थी, वो स्वीकार नहीं की गई है.

सीजेएम कोर्ट में रिमांड पर सुनवाई पूरी, फैसल सुरक्षित
उधर, सीजेएम कोर्ट में एसटीएफ की रिमांड एप्लीकेशन पर बुधवार को सुनवाई पूरी हो गई. एक घंटे तक अदालत में दोनों पक्षों ने दलील रखी. सुनवाई के बाद मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है. पीएफआई और सीएफआई संदिग्धों से पूछताछ के लिए एसटीएफ ने 10 दिन का समय मांगा है.
बता दें कि हाथरस कांड के बाद हाथरस जाते समय यमुना एक्सप्रेसवे स्थित मांट टोल प्लाजा से 5 अक्टूबर को चार युवकों की गिरफ्तारी हुई थी. पकड़े गए युवकों में मुजफ्फरनगर निवासी अतीकुर्रहमान, रामपुर निवासी आलम, केरल निवासी सिद्दीकी और बहराइच निवासी मसूद के पास से धार्मिक उन्माद फैलाने वाले दस्तावेज बरामद हुए थे. इसके बाद इनके खिलाफ थाना मांट में राष्ट्रद्रोह जैसी संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज