अपना शहर चुनें

States

मथुरा के कोर्ट में लगी है खुद को श्रीकृष्ण का वंशज बताने वाले की याचिका, जानें क्या हुआ उनके दावे का

मथुरा का श्रीकृष्ण मंदिर, यहां हिंदू आर्मी चीफ मनीष यादव ने भगवान श्रीकृष्ण विराजमान का वंशज होने का दावा किया है.
मथुरा का श्रीकृष्ण मंदिर, यहां हिंदू आर्मी चीफ मनीष यादव ने भगवान श्रीकृष्ण विराजमान का वंशज होने का दावा किया है.

श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मामले को लेकर मथुरा की अदालत में हिंदू आर्मी चीफ मनीष यादव ने भगवान श्रीकृष्ण विराजमान का वंशज होने का दावा किया है, जिस पर शुक्रवार को सुनवाई नहीं हो पाई है...

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2021, 10:33 PM IST
  • Share this:
मथुरा. मथुरा की एक अदालत में श्रीकृष्ण जन्मभूमि को लेकर हिंदू आर्मी की ओर से दायर याचिका पर एक बार फिर से सुनवाई नहीं हो पाई. शुक्रवार को सिविल जज सीनियर डिवीजन नेहा बधोतिया अवकाश पर थीं. इसके कारण हिंदू आर्मी के दावे पर सुनवाई के लिए 18 जनवरी की तारीख दे दी गई है. दावा अभी स्वीकारा नहीं गया है.

हिंदू आर्मी के चीफ मनीष यादव ने खुद भगवान श्रीकृष्ण का वंशज बताकर श्रीकृष्ण जन्मभूमि की कटरा केशवदेव की 13.37 एकड़ जमीन से अतिक्रमण हटवाने के लिए दावा पेश किया है.

उन्होंने दावे में कहा है कि उनका अधिकार है कि वह अपने पूर्वज की जमीन से शाही मस्जिद ईदगाह के अतिक्रमण को हटवाएं. मनीष यादव ने दावे में अदालत से इस जमीन को लेकर पूर्व में हुई समझौते की डिक्री (न्यायिक निर्णय) को रद्द करने की अपील की है. इस पर अदालत ने चार जनवरी को हिंदू आर्मी के दावे में कुछ कागजात की कमी होने के कारण 15 जनवरी की तारीख दी थी. उनसे मामले से संबंधित कुछ जरूरी दस्तावेज मांगे गए थे.




शुक्रवार को मनीष यादव को अदालत में दस्तावेज दाखिल करने पहुंचे थे, लेकिन शुक्रवार को न्यायाधीश के अवकाश पर थे. इसके कारण उनके दावे पर सुनवाई नहीं हो सकी. मनीष यादव ने बताया कि अदालत में न्यायाधीश अवकाश पर थे, जिसके कारण सुनवाई के लिए 18 जनवरी की तारीख दी गई है.

हिंदू आर्मी चीफ मनीष यादव से पूर्व 'श्रीकृष्ण विराजमान' की ओर से 13.37 एकड़ जमीन पर मालिकाना हक के लिए रंजना अग्निहोत्री जिला जज की अदालत में वाद दाखिल कर चुकी हैं. दाखिल वाद का पक्षकार बनने के लिए पांच और प्रार्थनापत्र अदालत में दाखिल किए गए थे, जिसका वादी रंजना अग्निहोत्री ने इन प्रार्थनापत्रों का विरोध किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज