होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

Janmashtami 2022: जानिए कहां हुआ था श्रीकृष्ण का मुंडन, मथुरा में किस नाम से जाना जाता है वह मंदिर

Janmashtami 2022: जानिए कहां हुआ था श्रीकृष्ण का मुंडन, मथुरा में किस नाम से जाना जाता है वह मंदिर

Krishna Janmashtami 2022: मथुरा में भगवान श्री कृष्ण की कुलदेवी का मंदिर आज भी मौजूद हैं. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, मामा कंस के अत्याचारों से कृष्ण को बचाने के लिए मां यशोदा ने मन्नत मांगी थी. माता यशोदा ने मांगा था कि कंस का प्रकोप उनके बच्चे पर नहीं लगेगा, तो वह मंदिर में आकर श्रीकृष्ण का मुंडन कराएंगी.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट: चंदन सैनी

मथुरा: ब्रज में भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं के दर्शन पग-पग पर सुनने और देखने को मिल जाएंगे. भगवान श्रीकृष्ण जब बाल गोपाल के रूप में थे तो मामा कंस भगवान कृष्ण का वध करने के लिए अपनी मायावी शक्तियों को भेजता रहता था. लेकिन कान्हा एक-एक कर सभी को मुक्ति दे रहे थे. लेकिन इन सब से मां यशोदा काफी चिंतित हो गईं थीं. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, मामा कंस के अत्याचारों से कृष्ण को बचाने के लिए मां यशोदा ने मन्नत मांगी थी. माता यशोदा ने मांगा था कि कंस का प्रकोप उनके बच्चे पर नहीं लगेगा, तो वह मंदिर में आकर श्रीकृष्ण का मुंडन कराएंगी.

महाविद्या देवी हैं कान्हा की कुलदेवी
भगवान श्री कृष्ण की कुलदेवी महाविद्या देवी को माना जाता है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, मन्नत के बाद माता यशोदा ने महाविद्या मंदिर में कान्हा का मुंडन भी कराया था. माता यशोदा द्वारा कान्हा का मुंडन कराने के बाद महाविद्या मंदिर की देवी श्रीकृष्ण की कुलदेवी के रूप में पूजी जाती हैं. वहीं, महाविद्या मंदिर के पुजारी मनीष बाबा बताते हैं कि एक बार अंबिकावन में यशोदा और नंद बाबा आए तो हजारों साल से तपस्या में लीन अजगर स्वरूप में एक असुर ने नंद बाबा का पैर पकड़ लिया. जिसके बाद नंद बाबा ने कान्हा को बुलाया और भगवान श्रीकृष्ण ने उस असुर का उद्धार किया.

5 हजार साल पुराना है मंदिर
महाविद्या देवी का मंदिर साढ़े 5 हजार साल पुराना है. मनीष बाबा बताते हैं कि इस मंदिर का निर्माण मराठा महाराज छत्रपति शिवाजी महाराज के द्वारा कराया गया था. क्योंकि छत्रपति महाराज महाविद्या कुंड में नहाने के लिए आते थे. महाविद्या देवी मंदिर पर भक्तों का ताता लगा रहता है. हर दिन सैकड़ों श्रद्धालु मां का आशीर्वाद लेने के लिए यहां पहुंचते हैं.

जानिए कहां है महाविद्या देवी मंदिर?
भगवान श्रीकृष्ण की कुलदेवी महाविद्या माता का मंदिर मथुरा रेलवे जंक्शन से 4 किलोमीटर की दूरी पर है. मंदिर में सुबह 5:30 बजे मंगला आरती की जाती है. वहीं, शाम की आरती करीब 9:00 बजे की जाती है.

Tags: Mathura news, Sri Krishna Janmashtami, Uttar pradesh news

अगली ख़बर