मथुरा लोकसभा सीट: हेमा मालिनी दोहराएंगी सफलता या नरेंद्र सिंह होंगे विजयी

2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने एक बार फिर हेमा मालिनी को ही उतारा है. वहीं सपा-बसपा और रालाेद के गठबंधन ने नरेंद्र सिं‍ह को प्रत्‍याशी बनाया है. इनके खिलाफ कांग्रेस ने महेश पाठक को उतारा है.

News18Hindi
Updated: April 24, 2019, 10:34 AM IST
मथुरा लोकसभा सीट: हेमा मालिनी दोहराएंगी सफलता या नरेंद्र सिंह होंगे विजयी
हेमामालिनी (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: April 24, 2019, 10:34 AM IST
भगवान श्री कृष्‍ण की जन्‍मस्‍थली के रूप में विख्‍यात मथुरा उत्‍तर प्रदेश की प्रमुख लोकसभा सीटों में से एक है. ब्रज चौरासी कोस के प्रमुख बिंदू के रूप में मौजूद मथुरा में वृंदावन, यमुना, गोवर्धन, बलदेव जैसे धा‍र्मिक स्‍थल मौजूद हैं. श्रद्धा का एक विशाल केंद्र मथुरा पावन भूमि के रूप में जाना जाता है. यही वजह है कि मथुरा पर राजनेताओं का फोकस रहता है. जहां तक राजनीतिक कद की बात है तो पिछले चुनाव में बॉलीवुड अभिनेत्री हेमा मालिनी के यहां से चुनाव लड़ने और जीत दर्ज करने से यह सीट चर्चाओं का केंद्र बन गई.

मथुरा लोकसभा सीट का इतिहास देखें तो सबसे पहले यहां निर्दलीय उम्‍मीदवार ने लोकसभा चुनावों में जीत दर्ज की. 1952 में राजा गिर्राजशरण सिंह ने सीट पर कब्‍जा जमाया. हालांकि 1957 में भी निर्दलीय उम्‍मीदवार के जीतने के बाद यह सीट बीजेपी या कांग्रेस के हाथों में आकर ठहर गई अौर एक बार सांसद बने प्रत्‍याशी ने तीन-तीन बार तक लगातार जीत दर्ज की. सिर्फ एक बार 2009 में इस सीट पर राष्‍ट्रीय लोकदल के जयंत चौधरी ने जीत हासिल की थी.

mathura


2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने एक बार फिर हेमा मालिनी को ही उतारा है. वहीं सपा-बसपा और रालाेद के गठबंधन ने नरेंद्र सिं‍ह को प्रत्‍याशी बनाया है. इनके खिलाफ कांग्रेस ने महेश पाठक को उतारा है. इनके अलावा 9 और प्रत्‍याशी चुनाव मैदान में हैं जाे वोट कटवा का काम करेंगे. 18 अप्रैल को दूसरे चरण में हुए मतदान में मथुरा के प्रत्‍याशियों की किस्‍मत ईवीएम में बंद हो चुकी है. 23 मई को देखना होगा नतीजे किसे विजेता बनाते हैं?

2014 में 3 लाख से ज्‍यादा वोटों से जीतीं हेमा मालिनी
2014 लोकसभा चुनावों में मोदी लहर के दौरान सिने तारिका हेमा मालिनी ने बीजेपी की टिकट पर करीब 3 लाख वोटों से जयंत चौधरी को पटकनी दी. हेमा को 5,74,633 वोट मिले. जबकि जयंत चौधरी को 2,43,890 ही वोट मिले. बसपा के योगेश द्विवेदी 1,73,572 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर रहे. इस दौरान 1953 नोटा भी दबाए गए.

रालोद नेता जयंत चौधरी
रालोद नेता जयंत चौधरी

Loading...

लोकसभा सीट का सामाजिक ताना बाना
मथुरा सीट पर जाट और मुस्लिम वोटरों का वर्चस्व रहा है. 2014 में भी जाट और मुस्लिम वोटरों के अलग होने का नुकसान ही रालोद को भुगतना पड़ा था. जाटों ने एकमुश्त होकर बीजेपी के हक में वोट किया था.  2014 के आंकड़ों के अनुसार मथुरा लोकसभा क्षेत्र में कुल 17 लाख मतदाता हैं, इनमें 9.3 लाख पुरुष और 7 लाख से अधिक महिला वोटर हैं. मथुरा लोकसभा में छाता, मांट, गोवर्धन, मथुरा और बलदेव विधानसभाएं आती हैं. जिनमें मांट सीट पर बहुजन समाज पार्टी को जीत मिली थी, जबकि बाकी सीटों पर भारतीय जनता पार्टी ने ही जीत हासिल की.
First published: April 24, 2019, 9:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...