Home /News /uttar-pradesh /

Mathura: श्रीकृष्ण जन्मस्थान और शाही ईदगाह मामले में जुड़ा एक और नया मामला, सुनवाई 25 को

Mathura: श्रीकृष्ण जन्मस्थान और शाही ईदगाह मामले में जुड़ा एक और नया मामला, सुनवाई 25 को

कृष्णभक्त गोपाल गिरी ने याचिका दाखिल कर जन्मस्थान और ईदगाह के मध्य हुए समझौते की डिक्री को चुनौती देते हुए उसे खारिज करने का अनुरोध किया है.

कृष्णभक्त गोपाल गिरी ने याचिका दाखिल कर जन्मस्थान और ईदगाह के मध्य हुए समझौते की डिक्री को चुनौती देते हुए उसे खारिज करने का अनुरोध किया है.

Shri Krishna birthplace and Shahi Idgah case : ज्योति की अदालत में बुधवार को एक अन्य कृष्णभक्त गोपाल गिरी ने अपने पैरोकार के माध्यम से प्रार्थना पत्र पेश कर जन्मस्थान और ईदगाह के मध्य हुए समझौते की डिक्री को चुनौती देते हुए उसे खारिज करने का अनुरोध किया है. फास्ट ट्रैक कोर्ट ने इस मामले में प्रतिवादियों को नोटिस जारी करने का आदेश दिया है. इस मामले में सुनवाई के लिए अब 25 नवंबर की तिथि तय की गई है. इस दावे में भी चेयरमैन, यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड, सेक्रेटरी शाही ईदगाह इंतजामिया कमेटी, श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा समिति, श्रीकृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट को विपक्षी बनाया गया है.

अधिक पढ़ें ...

    मथुरा. उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद की दो अलग-अलग अदालतों में श्रीकृष्ण जन्मस्थान और शाही ईदगाह मामले में चल रहे प्रकरणों में एक और नया मामला जुड़ गया है. इस बारे में अधिवक्ता दीपक देवकी नंदन शर्मा ने बताया कि सिविल जज (सीनियर डिवीजन) ज्योति की अदालत में बुधवार को एक अन्य कृष्णभक्त गोपाल गिरी ने अपने पैरोकार के माध्यम से प्रार्थना पत्र पेश कर जन्मस्थान और ईदगाह के मध्य हुए समझौते की डिक्री को चुनौती देते हुए उसे खारिज करने का अनुरोध किया है.

    फास्ट ट्रैक कोर्ट ने इस मामले में प्रतिवादियों को नोटिस जारी करने का आदेश दिया है. इस मामले में सुनवाई के लिए अब 25 नवंबर की तिथि तय की गई है. उल्लेखनीय है कि इस दावे में भी चेयरमैन, यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड, सेक्रेटरी शाही ईदगाह इंतजामिया कमेटी, श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा समिति, श्रीकृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट को विपक्षी बनाया गया है. इस मामले में अब 25 नवंबर को अगली सुनवाई होगी. इस दौरान वादी गोपाल गिरी के अन्य सलाहकार अधिवक्तागण देवकी नंदन शर्मा और रमाशंकर भारद्वाज भी अदालत में उपस्थित रहे.

    इन्हें भी पढ़ें :
    दिवाली से पहले योगी सरकार का तोहफा, सोरों शूकर क्षेत्र को मिला तीर्थस्‍थल का दर्जा
    28 लाख कर्मचारियों और पेंशरों को तोहफा, बोनस के साथ बढ़ा हुआ DA अक्टूबर की सैलरी के साथ

    दूसरी ओर, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति समिति की ओर से न्यायालय में दावा पेश करने वाले संस्था के अध्यक्ष एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण के जन्मस्थल पर सदियों से आक्रमण होते रहे हैं, जिनकी निशानी के रूप में अनेक पुरातात्विक साक्ष्य मौजूद हैं. शाही ईदगाह तो वर्तमान में भी प्रत्यक्ष प्रमाण के रूप में मौजूद है. भगवान श्रीकृष्ण के अनुयायी अपने अराध्य देव के जन्मस्थान को मुक्त करवाने की कामना कर रहे हैं. अदालत में जन्मस्थान दस्तक दे दी गई है. लेकिन जब तक समाज में जागरूकता का अभाव रहेगा, श्रीकृष्ण जन्मस्थान को मुक्त करवा पाना मुमकिन नहीं होगा. इसलिए बुधवार को कटरा केशवदेव पर दीपदान कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें समिति के अन्य पदाधिकारी स्वामी डॉ. आदित्यानंद, गिर्राज सिंह सिसोदिया, जितेंद्र सिंह, ब्रजबिहारी गौतम, राजेंद्र माहेश्वरी एडवोकेट, आरबी चौधरी, दिनेश शर्मा समेत अनेक लोग मौजूद रहे.

    Tags: Mathura news, Physical Hearing, ​​Uttar Pradesh News

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर